भारत-पाक‍ द्व‍िपक्षीय क्र‍िकेट संबंधों को लेकर शोएब अख्‍तर बोले, 'जब हम टेन‍िस और कबड्डी खेल सकते हैं तो क्र‍िकेट..'

Shoaib Akhtar: शोएब अख्‍तर ने अपने यू-ट्यूब में कहा-हम डेव‍िस कप में खेल सकते हैं, हम एक-दूसरे के ख‍िलाफ कबड्डी खेल सकते हैं तो क्र‍िकेट क्‍यों नहीं.

भारत-पाक‍ द्व‍िपक्षीय क्र‍िकेट संबंधों को लेकर शोएब अख्‍तर बोले, 'जब हम टेन‍िस और कबड्डी खेल सकते हैं तो क्र‍िकेट..'

Shoaib Akhtar का मानना है, भारत और पाक‍िस्‍तान को द्व‍िपक्षीय सीरीज खेलनी चाह‍िए

पाक‍िस्‍तान के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्‍तर (Shoaib Akhtar) ने भारत और अपने देश के बीच द्व‍िपक्षीय क्र‍िकेट सीरीज (India-Pakistan cricketing Ties) की वकालत की है. गौरतलब है क‍ि दोनों मुल्‍कों के बीच आख‍िरी बार क्र‍िकेट सीरीज वर्ष 2012-13 में खेली गई थी, उस समय पाक‍िस्‍तान ने भारत का दौरा क‍िया था. भारत का दोटूक लहजे में कहना है क‍ि पाक‍िस्‍तान उसके मुल्‍क में आतंकवाद को शह देता है, ऐसे में उसके साथ द्व‍िपक्षीय सीरीज नहीं हो सकती. आईसीसी के बड़े टूर्नामेंट्स में जरूर दोनों टीमों के बीच मुकाबले होते हैं. 'रावलप‍िंडी एक्‍सप्रेस' के नाम से लोकप्र‍िय रहे शोएब ने दोनों देशों के बीच द्व‍िपक्षीय सीरीज के मामले में मजबूती से पक्ष रखा.

शाह‍िद अफरीदी पांचवीं बार बने पिता, फैन्स से मांगा सुझाव, 'जीतने' वाले को इनाम का ऐलान

उन्‍होंने अपने यू-ट्यूब में कहा-हम डेव‍िस कप में खेल सकते हैं, हम एक-दूसरे के ख‍िलाफ कबड्डी खेल सकते हैं तो क्र‍िकेट क्‍यों नहीं. मैं जानता हूं भारतीय टीम पाक‍िस्‍तान नहीं आ सकती, पाक‍िस्‍तान की टीम भारत नहीं जा सकती लेक‍िन हम एश‍िया कप, चैंप‍ियंस ट्रॉफी न्‍यूट्रल स्‍थान पर खेले हैं क्‍या हम ऐसा ही द्व‍ि पक्षीय सीरीज के ल‍िए नहीं कर सकते. शोएब का आशय न्‍यूट्रल स्‍थान पर दोनों देशों के बीच द्व‍िपक्षीय सीरीज के आयोजन को लेकर था. उन्‍होंने कहा, हम बेहद मेहमाननवाज देशों में से हैं. क्र‍िकेट को हम दो मुल्‍कों के स‍ियासी मतभेदों के कारण प्रभाव‍ित नहीं होना चाह‍िए.

शोएब (Shoaib Akhtar) इसके साथ ही यह कहने से भी नहीं चूके क‍ि  यद‍ि भारत और पाक‍िस्‍तान क्र‍िकेट नहीं खेलते तो उन्‍हें सभी तरह के संबंधों को खत्‍म कर लेना चाह‍िए. उन्‍होंने कहा, यद‍ि आप संबंधों को खत्‍म करना चाहते हैं तो द्व‍िपक्षीय व्‍यापार रोक देना चाह‍िए, कबड्डी खेलना बंद कर दीज‍िए...केवल क्र‍िकेट ही क्‍यो. जब भी क्र‍िकेट की बात आती है, हम इसे राजनीत‍िक मुद्दा बना देते हैं. यह बेहद दुर्भाग्‍यपूर्ण है. हम एक-दूसरे के प्‍याज-टमाटर खा सकते हैं. एक-दूसरे की खुशी में शुभकामनाओं का आदान-प्रदान करते हैं तो क्र‍िकेट क्‍यों नहीं खेल सके. भारत और पाक‍िस्‍तान का एक-दूसरे के ख‍िलाफ खेलना न केवल खेल बल्‍क‍ि व्‍यापार के ल‍िहाज से भी बेहतर होगा.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

वीडियो: 15 साल की लड़की ने तोड़ा तेंदुलकर का रिकॉर्ड