NDTV Khabar

युवराज सिंह ने बताया, आशीष नेहरा का नाम सौरव गांगुली ने किस वजह से 'पोपट' रखा था

चैम्पियन क्रिकेटर युवराज सिंह ने तेज गेंदबाज आशीष नेहरा को एक ‘सच्चा दोस्त’ और ‘प्रेरणास्रोत’ बताया है. युवी ने नेहरा के क्रिकेट से संन्यास लेने को अपने लिये जज्बाती पल बताते हुए उनसे जुड़ी पुरानी यादें साझा की है.

173 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
युवराज सिंह ने बताया, आशीष नेहरा का नाम सौरव गांगुली ने किस वजह से 'पोपट' रखा था

युवराज सिंह ने आशीष नेहरा को एक सच्चा दोस्त और प्रेरणास्रोत बताया है (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. नेहरा की क्रिकेट से विदाई पर युवी ने लिखा भावनाओं से भरा पोस्‍ट
  2. कहा, नेहरा लगातार और किसी भी विषय पर बोल सकता है
  3. वह दिलचस्‍प, ईमानदार और टीम भावना से भरा हुआ है
नई दिल्ली: चैम्पियन क्रिकेटर युवराज सिंह ने तेज गेंदबाज आशीष नेहरा को एक ‘सच्चा दोस्त’ और ‘प्रेरणास्रोत’ बताया है. युवी ने नेहरा के क्रिकेट से संन्यास लेने को अपने लिये जज्बाती पल बताते हुए उनसे जुड़ी पुरानी यादें साझा की है. युवराज ने अपने फेसबुक पेज पर नेहरा के साथ जुड़ी अपनी यादों का पिटारा और कई पुराने राज भी खोले. उन्होंने लिखा,‘सौरव गांगुली ने आशु को 'पोपट' नाम दिया था क्योंकि वह लगातार बोलता रहता था. वह किसी भी विषय पर बोल सकता है.अगर आप आशीष नेहरा के साथ हो तो आपका दिन खराब नहीं जा सकता. वो बंदा आपको हंसा-हंसाकर गिरा देगा. मैंने उसे कभी बताया नहीं लेकिन मैने उससे हमेशा प्रेरणा ली है.’ युवराज ने लिखा,‘मैं सोचा करता था कि 38 बरस की उम्र में इतनी चोटों और आपरेशन के बाद यह इतनी तेज गेंद डाल सकता है तो मैं 36 बरस की उम्र में बल्लेबाजी क्यों नहीं कर सकता.इसी से मुझे आज भी प्रेरणा मिलती है.’खुद कैंसर से जंग में जीतकर क्रिकेट के मैदान पर वापसी करने वाले युवराज ने लिखा,‘आशु के कई ऑपरेशन हो चुके हैं लेकिन अपनी मेहनत और अच्छा खेलने की ललक से उसने वापसी की. वर्ल्‍डकप 2003 के दौरान उसका टखना बुरी तरह से मुड़ गया था और वह इंग्लैंड के खिलाफ अगला मैच खेलने की स्थिति में नहीं था लेकिन 'नेहराजी' ने कहा कि वह खेलना चाहते हैं. उसने अगले 72 घंटे में 30-40 बार अपने टखने पर बर्फ की सिकाई की और पेनकिलर खाए. उस मैच में उसने 23 रन देकर छह विकेट लिए और भारत ने इंग्लैंड को 82 रन से हराया.’उन्होंने नेहरा के बेबाक रवैये की तारीफ करते हुए कहा कि वह बनावटी नहीं है और इसका उसने खामियाजा भी भुगता.



युवी ने लिखा,‘वो दिल का बहुत साफ आदमी है. सेलिब्रिटीज के बारे में आकलन करने के कई मानदंड होते हैं लेकिन आशु बेबाक सच बोलता था और इसका उसने खामियाजा भी भुगता. मेरे लिये वह हमेशा आशु या नेहराजी रहेगा जो दिलचस्प, ईमानदार और टीम भावना से भरा हुआ है.’उन्होंने नेहरा से पहली मुलाकात भी भी जिक्र किया.उन्होंने लिखा,‘मै पहली बार उससे अंडर 19 के दिनों में मिला जब उसका भारतीय टीम में चयन हुआ था. वह हरभजन सिंह का रूममेट था. मैं भज्जी से मिलने गया था और मैने इस लंबे-छरहरे लड़के को देखा जो एक जगह चुपचाप नहीं बैठ सकता था. हमेशा कुछ न कुछ करता रहता. बाद में जब हमने साथ खेला तो मैने उसे और करीब से जाना.’युवराज ने कहा कि नेहरा पूरी तरह से ‘टीम मैन ’ है और वर्ल्‍डकप 2011 में इसकी एक और बानगी देखने को मिली.

वीडियो: गावस्‍कर ने इस अंदाज में की विराट कोहली की प्रशंसा

उन्होंने लिखा,‘वर्ल्‍डकप 2011 के सेमीफाइनल में पाकिस्तान के खिलाफ उसने उम्दा गेंदबाजी की लेकिन घायल हो गया और फाइनल नहीं खेल सका. मैं जानता हूं कि ऐसी स्थिति में कई खिलाड़ी अपने में सिमट जाते या इसका रोना रोने लगते. लेकिन वह हमेशा हंसता रहता और सभी की मदद को तत्पर रहता.’युवराज ने लिखा,‘मुंबई में श्रीलंका के खिलाफ फाइनल के दौरान वह ड्रिंक्स, टावेल वगैरह का इंतजाम कराता. बाहर वालों को यह गैर जरूरी बात लगेगी लेकिन टीम खेल में जब सीनियर खिलाड़ी इस तरह मदद करता है तो बहुत अच्छा लगता है.’उन्होंने आखिर में लिखा,‘मेरे लिये यह जज्बाती पल है और उसके तथा उसके परिवार के लिये भी. मैं क्रिकेट का शुक्रगुजार हूं कि मुझे ऐसा सच्चा दोस्त दिया.’  (इनपुट: भाषा)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement