जब स्‍टार महिला क्रिकेटर पूनम राउत को भेज दिया गया लड़कों के ट्रेनिंग कैंप में...

महिला वर्ल्ड कप फाइनल में 86 और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ शतक लगाने वाली टीम इंडिया की स्टार ओपनर पूनम राउत महिला टीम को मिल रहे सम्मान से बेहद खुश

जब स्‍टार महिला क्रिकेटर पूनम राउत को भेज दिया गया लड़कों के ट्रेनिंग कैंप में...

पूनम राउत देश में महिला क्रिकेट टीम को सम्मान मिलने से काफी खुश हैं.

खास बातें

  • कहा- जब कोच ने मुझसे पूछा कि तुम लड़की हो, तो मैं बहुत रोई
  • विराट कोहली और अजिंक्य रहाणे के क्रिकेट ने काफी प्रभावित
  • फाइनल हारने से दुखी लेकिन मिल रहे सम्मान ने हौसला बढ़ाया
नई दिल्ली:

महिला वर्ल्ड कप फाइनल में 86 और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ शतक लगाने वाली टीम इंडिया की स्टार ओपनर पूनम राउत भारतीय महिला टीम को मिल रहे सम्मान से बेहद खुश हैं. लेकिन उन्हें हैरानी भी हो रही है कि उनकी जिंदगी अचानक किस कदर बदलती दिख रही है.

पूनम बताती हैं कि किस तरह वे मुंबई में ट्रेनिंग करती थीं जब उनके कोच ने उन्हें एक बॉयज सिलेक्शन कैंप में भेज दिया. वे दो सिलेक्शन में पास भी हो गईं. तब लड़कों के कोच ने उनके कानों में बाली देख ली. उनसे उनका नाम पूछा. पूनम ने जब अपना नाम बताया तो वे हैरान हो गए. लड़कों के कोच ने कहा कि वे लड़की होकर उनके साथ नहीं खेल सकतीं. लेकिन वह कोच पूनम के हुनर से प्रभावित हुए बिना नहीं रह सके. पूनम बहुत रोईं. उन्हें अफसोस था कि उन्हें अब अच्छे गेंदबाजों का सामना करने का मौका नहीं मिलेगा.

पूनम यह भी कहती हैं कि फाइनल हारने के बाद वे दुखी थीं. लेकिन भारत में मिल रहे सम्मान और मीडिया की वजह से उन्हें लग रहा है कि उन्होंने जो हासिल किया है वह भी कम नहीं है. वे यह जरूर वादा करती हैं कि अगले साल वेस्ट इंडीज़ (नवंबर 2018) में होने वाले टी-20 वर्ल्ड कप में भारतीय महिला टीम इसकी कसर जरूर निकालना चाहेगी.

यह भी पढ़ें-  महिला वर्ल्‍डकप : ऑस्‍ट्रेलिया ने भारत को 8 विकेट से दी मात, पूनम राउत का शतक गया बेकार

पूनम यह बताने से भी नहीं हिचकतीं कि विराट कोहली और अजिंक्य रहाणे के क्रिकेट ने उन्हें खूब प्रभावित किया है. वे कहती हैं कि विराट कोहली लक्ष्य का पीछा करते वक्त जिस तरह से संयम बनाए रखते हैं वह काबिले तारीफ है. वे कहती हैं कि दबाव में जिस करह अजिंक्य रहाणे पारी को संवारते हैं वह भी सीखने लायक है. वे कहती हैं कि वे इन दोनों खिलाड़ियों के खेल की खास तौर पर कायल हैं.

VIDEO : पूनम राउत का दिलचस्प किस्सा

महिला क्रिकेट टीम जब से भारत लौटी है उनके सम्मान में लगातार समारोह आयोजित किए जा रहे हैं. खेल मंत्री, रेल मंत्री से लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इन खिलाड़ियों की कामयाबी को सराहा है. यह टीम 2005 के 12 साल बाद दुबारा फाइनल खेल कर लौटी है. 12 साल पहले इस टीम को किसी ने ऐसा सम्मान नहीं दिया था. इसलिए इस बार खिलाड़ी बेहद खुश हैं और उन्हें उम्मीद है कि महिला क्रिकेट की हालत जरूर सुधरेगी. बीसीसीआई ने हर खिलाड़ी को 50-50 लाख रुपये जबकि रेलवे ने अपने दस खिलाड़ियों को डेढ़ करोड़ रुपये देने का ऐलान किया. बीसीसीआई सभी सपोर्ट स्टाफ को भी 25 लाख रुपये की इनामी रकम दे रहा है.

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com