NDTV Khabar

2019 लोकसभा चुनाव में दमदार प्रदर्शन के लिए आम आदमी पार्टी ने बनाई यह रणनीति…

अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव में दमदार उपस्थिति दर्ज कराने के लिए कमर कस चुकी आम आदमी पार्टी (आप) ने राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में मतदाताओं तक पहुंचने के लिए ‘चाय पे चर्चा’ का रास्ता अपनाया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
2019 लोकसभा चुनाव में दमदार प्रदर्शन के लिए आम आदमी पार्टी ने बनाई यह रणनीति…

अरविंद केजरीवाल (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. 'चाय पे चर्चा' कर आम आदमी पार्टी से जुड़ना चाहती है 'आप'
  2. 2019 लोकसभा चुनाव के लिए कर रही है तैयारी
  3. ‘चाय पे चर्चा’ 2014 के लोकसभा चुनाव से पहले सुर्खियों में आयी थी
नई दिल्ली:

अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव में दमदार उपस्थिति दर्ज कराने के लिए कमर कस चुकी आम आदमी पार्टी (आप) ने राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में मतदाताओं तक पहुंचने के लिए ‘चाय पे चर्चा’ का रास्ता अपनाया है. ‘चाय पे चर्चा’ 2014 के लोकसभा चुनाव से पहले सुर्खियों में आयी थी, जब भारतीय जनता पार्टी के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी ने देशभर में मतदाताओं से संवाद करने के लिए यह तरीका अपनाया था. आप दिल्ली में एक भी सीट नहीं जीत पायी थी. हालांकि, उसने पंजाब में चार लोकसभा सीटें जीती थीं. वैसे अरविंद केजरीवाल की अगुवाई वाली आप ने कहा कि उसने भगवा पार्टी से यह अवधारणा उधार नहीं ली है. 

यह भी पढ़ें: केजरीवाल बोले- हिंदुओं की रक्षा के नाम पर सत्ता हथियाती है BJP, विकास को मुद्दा नहीं बनाती


टिप्पणियां

पूर्वोत्तर दिल्ली निर्वाचन क्षेत्र के आप प्रभारी दिलीप पांडे ने कहा, ‘‘हम ‘आम आदमी’ तक पहुंचने के लिए 2012 की सर्दियों से ही ‘चाय पे चर्चा’ कर रहे हैं.’’  पार्टी पहले ही दिल्ली में सात में से पांच लोकसभा सीटों के प्रभारियों की घोषणा कर चुकी है. पांडे ने कहा कि आप ने उनके निर्वाचन क्षेत्र में अब तक 300 ‘चाय पे चर्चा’ बैठकें की है. पार्टी के एक अन्य नेता ने कहा कि शेष संसदीय क्षेत्रों में भी ऐसी बैठकों की योजना बनायी गयी है. 

VIDEO: अमित शाह को केजरीवाल का खुला चैलेंज
पार्टी सूत्रों ने कहा कि फरवरी, 2014 में अहमदाबाद में हुई मोदी की चाय पे चर्चा, जो वीडियो कांफ्रेंसिंग और टेलीविजन चैनलों के माध्यम से पूरे देश में दिखायी गयी थी, के विपरीत आप की बैठकें ‘ज्यादा करीब और सीधी’ होती हैं जहां स्थानीय मुद्दे और राजनीतिक विषय चर्चा के केंद्र में होते हैं.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement