अरविंद केजरीवाल ने अमित शाह से पूछा सवाल, महंगाई के दिनों में बीजेपी समर्थकों के बच्चों...

अमित शाह के बीजेपी समर्थक के घर जाने पर कटाक्ष करते हुए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शनिवार को कहा कि मंत्री को पार्टी समर्थकों से पूछना चाहिए कि महंगाई के दौर में उनके बच्चों की पढ़ाई का ध्यान किसने रखा.

अरविंद केजरीवाल ने अमित शाह से पूछा सवाल, महंगाई के दिनों में बीजेपी समर्थकों के बच्चों...

हम सब दो करोड़ दिल्ली वाले एक परिवार की तरह हैं: अरविंद केजरीवाल

नई दिल्ली:

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के बीजेपी समर्थक के घर जाने पर कटाक्ष करते हुए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शनिवार को कहा कि मंत्री को पार्टी समर्थकों से पूछना चाहिए कि महंगाई के दौर में उनके बच्चों की पढ़ाई का ध्यान किसने रखा. इससे पहले शाह ने ट्विटर पर दो तस्वीर साझा की थी जिसमें वह बीजेपी के एक समर्थक के घर में दिख रहे हैं. केजरीवाल ने ट्वीट किया, "आपको भाजपा समर्थकों से पूछना चाहिए कि पांच साल उनके बच्चों की पढ़ाई का ख्याल किसने रखा, उनके लिए 24 घंटे बिजली किसने दी, जब आपने इतनी महंगाई कर दी तो उनके बिजली, पानी और बस यात्रा नि:शुल्क करके किसने उन्हें गले लगाया? ये सब मेरे परिवार के लोग हैं सर, मैंने इनका बड़ा बेटा बनकर ख्याल रखा है." 

क्या अरविंद केजरीवाल 'अभी भी' शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों के साथ हैं? मुख्यमंत्री ने दिया ये जवाब

मुख्यमंत्री ने कहा कि शाह अपने समर्थकों को चुनाव के समय याद करते हैं. उन्होंने एक अन्य ट्वीट किया, "सर, आपको चुनाव से पहले अपनी गरज के लिए इनकी याद आयी, हम सब दो करोड़ दिल्ली वाले एक परिवार की तरह हैं. पांच सालों में हमने मिलकर दिल्ली को बदला है." 

दिल्ली: बीजेपी उम्मीदवार कपिल मिश्रा पर चुनाव आयोग ने 48 घंटे के लिए प्रचार पर लगाया प्रतिबंध

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

बता दें कि आगामी 8 फरवरी को दिल्ली में मतदान होंगे और 11 फरवरी को नतीजों का ऐलान किया जाएगा. वहीं पिछले विधानसभा चुनावों की बात करें तो दिल्ली में 2015 में हुए विधानसभा चुनावों में आम आदमी पार्ट को शानदार जीत हासिल हुई थी. विधानसभा की 70 सीटों में आप को 67 सीटें, बीजेपी को 3, कांग्रेस को 0 सीटें मिली थी. AAP को जहां 54.3 फीसदी वोट मिले तो वहीं बीजेपी को 32.2 और कांग्रेस को सिर्फ 9.7 फीसदी वोट हासिल हुए थे. 

Video: दिल्ली की सड़कों पर विधानसभा चुनाव की चर्चा