Sankashti Chaturthi 2018: आज दान करें तिल, महिलाएं जरूर करें ये व्रत

संकट चतुर्थी के दिन संकट चतुर्थी है. इस त्‍यौहार को वक्रतुंडी चतुर्थी, माघी चौथ और तिलकुटा चौथ व्रत भी कहा जाता है. हिंदू कैलेंडर के अुनसार यह व्रत माघ महीने की चतुर्थी के दिन आता है.

Sankashti Chaturthi 2018: आज दान करें तिल, महिलाएं जरूर करें ये व्रत

गणेश, संकट चतुर्थी: आज दूर होंगे हर कष्‍ट

यूं तो गणेश जी को प्रसन्‍न करने के लिए किसी विशेष दिन की जरूरत नहीं होती, लेकिन कहा जाता है कि आज के दिन जो भक्‍त सच्‍चे मन से भगवान गणेश जी की पूजा-अर्चना करता है उसकी हर इच्‍छा पूरी होती है. आज के दिन संकट चतुर्थी है. इस त्‍यौहार को वक्रतुंडी चतुर्थी, माघी चौथ और तिलकुटा चौथ व्रत भी कहा जाता है. हिंदू कैलेंडर के अुनसार यह व्रत माघ महीने की चतुर्थी के दिन आता है.

आज के दिन सबसे पहले स्‍नान आदि कर गणेश जी को पंचामृत से स्नान करवाया जाता है. इसके बाद फल-फूल, चावल, रोली-मौली अर्पित करनी चाहिए. संकट चतुर्थी के दिन भगवान गणेश को तिल के लड्डुओं का भोग लगाया जाता है. इसके अलावा आज के दिन आपको बाजार में तिल से बने अनेक प्रकार के लड्डु भी मिल जाएंगे.

Sakat Chauth 2018: जानिए मुहूर्त और पूजा करने की विधि

इस मंत्र के जाप से पूरी होगी हर इच्‍छा

ॐ गणेशाय नमः

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

आज के दिन अपनी इच्‍छापूर्ति के लिए भगवान गणेश के इस मंत्र का दिन में 108 बार जाप करना चाहिए. माता पार्वती के बेटे गणेश को संकटमोचन मना जाता है. हर शुभ कार्य से पहले सर्वप्रथम इनका पूजन किया जाता है. इसके अलावा आज के दिन तिल दान करने का भी विशेष महत्‍व होता है. आप आज के दिन गरीबों को तिल, कंबल या कपड़े का दान करके शुभ फल प्राप्‍त कर सकते हैं. कहा जाता है कि संकट चतुर्थी का व्रत करने से संतान सुख की प्राप्ति होती है. इसके अलावा संतान की लंबी आयु के लिए भी यह व्रत किया जाता है.

आस्‍था से जुड़ी खबरों के लिए क्लिक करें