NDTV Khabar

Good Friday 2019: क्यों मनाया जाता है गुड फ्राइडे? जानिए इसका इतिहास

गुड फ्राइडे के 40 दिन पहले से ही ईसाइयों के घरों में प्रार्थना और उपवास शुरू हो जाते हैं. इस व्रत में शाकाहारी खाना खाया जाता है. गुड फ्राइडे के दिन लोग चर्च जाते हैं और यीशू को याद कर शोक मनाते हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Good Friday 2019: क्यों मनाया जाता है गुड फ्राइडे? जानिए इसका इतिहास

Good Friday 2019 (गुड फ्राइडे 2019)

नई दिल्ली:

ईसाइयों के सबसे प्रमुख त्योहारों में से एक है गुड फ्राइडे (Good Friday). इस दिन ईसाइयों के गुरु ईसा मसीह (Isa Masih) को सूली पर चढ़ाया गया था. इसके तीन बाद ही वो जिंदा हो उठे थे, जिस खुशी में ईस्टर संडे (Easter Sunday) मनाया जाता है. माना जाता है कि प्रभु यीशू ने मानवता की भलाई और उनकी रक्षा के लिए अपने प्राणों का बलिदान दिया. इस साल गुड फ्राइडे 19 अप्रैल (Good Friday, 19 April) को मनाया जा रहा है. 

यीशु को दंड देने के बावजूद इसे 'गुड' क्यों कहा जाता है?
ईसाई धर्म के अनुसार ईसा मसीह परमेश्वर के बेटे हैं. उन्‍हें अज्ञानता के अंधकार को दूर करने के लिए मृत्‍यु दंड दिया गया. उस वक्‍त यहूदियों के कट्टरपंथी रब्‍बियों (धर्मगुरुओं) ने यीशु का पुरजोर विरोध किया. ऐसे में कट्टरपंथ‍ियों को खुश करने के लिए पिलातुस ने यीशु को क्रॉस पर लटकाकर जान से मारने का आदेश दे दिया. लेकिन अपने हत्‍यारों की उपेक्षा करने के बजाए यीशु ने उनके लिए प्रार्थना करते हुए कहा था, 'हे ईश्‍वर! इन्‍हें क्षमा कर क्‍योंकि ये नहीं जानते कि ये क्‍या कर रहे हैं.' जिस दिन ईसा मसीह को क्रॉस पर लटकाया गया था उस दिन फ्राइडे यानी कि शुक्रवार था. तब से उस दिन को गुड फ्राइडे कहा जाने लगा.

नोट्रे डेम चर्च 6 साल के लिए बंद, पादरी ने की घोषणा


गुड फ्राइडे के हैं और भी नाम...
ईसाई धर्म ग्रंथों के मुताबिक यीशु को बिना गलती के क्रॉस मार्क पर लटका दिया गया. उनपर कई तरह से यातनाएं की गईं. ये दिन शुक्रवार यानी फ्राइडे का था, इसलिए इसे गुड फ्राइडे नाम दिया गया. गुड फ्राइडे को होली फ्राइडे, ब्लैक फ्राइडे और ग्रेट फ्राइडे भी कहा जाता है.

भ्रष्टाचार मामले में गिरफ्तारी के डर से इस देश के पूर्व राष्ट्रपति ने मारी खुद को गोली

गुड फ्राइडे और ईस्टर संडे का कनेक्शन
ईसा मसीह को शुक्रवार के दिन क्रॉस पर लटकाए जाने के तीसरे ही दिन रविवार को ईसा मसीह फिर से जीव‍ित हो उठे थे. इस वजह से इसे ईस्‍टर संडे कहा जाता है. ईसाई समुदाय में ईस्‍टर एग यानी कि अंडे का व‍िशेष महत्‍व है. जिस तरह से चिड़िया सबसे पहले अपने घोसले में अंडा देती है, उसके बाद उसमें से चूजा निकलता है. ठीक उसी तरह अंडे को शुभ माना गया है. ईस्‍टर संडे के दिन लोग एक दूसरे को अंडे के आकार के गिफ्ट देते हैं. यही नहीं सजावट में भी अंडे के आकार का इस्‍तेमाल किया जाता है.

दुनिया की पहली महिला पायलट जो पैरों से उड़ाती है प्लेन, कई वर्ल्ड रिकॉर्ड्स हैं इनके नाम

कैसे मनाते हैं गुड फ्राइडे और ईस्टर संडे?
गुड फ्राइडे के 40 दिन पहले से ही ईसाइयों के घरों में प्रार्थना और उपवास शुरू हो जाते हैं. इस व्रत में शाकाहारी खाना खाया जाता है. गुड फ्राइडे के दिन लोग चर्च जाते हैं और यीशू को याद कर शोक मनाते हैं. इसी के साथ गुड फ्राइडे के दिन ईसा के अंतिम सात वाक्यों की विशेष व्याख्या की जाती है जो क्षमा, मेल-मिलाप, सहायता और त्याग पर केंद्रित होती है. 

वहीं, मौत के तीन दिन बाद ईसा मसीह के फिर से जीवित हो जाने की खुशी में ईसाई लोग प्रभु भोज में भाग लेते हैं और खुशी मनाते हैं. एक-दूसरे को अंडे के आकार के तोहफे देते हैं. 

टिप्पणियां

VIDEO: ‘2021 तक नहीं बचेंगे देश में ईसाई और मुसलमान'


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement