NDTV Khabar

Holi 2019: होली का पाकिस्तान से है गहरा नाता, भगवान नरसिंह के इस पहले मंदिर से जुड़ा है इतिहास

माना जाता है कि होली की शुरुआत भारत में नहीं बल्कि पाकिस्तान से हुई. इसके पीछे बेहद ही खास वजह बताई जाती है और वो है पाकिस्तान के मुल्तान शहर में मौजूद प्रल्हादपुरी मंदिर (Prahladpuri Temple). 

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Holi 2019: होली का पाकिस्तान से है गहरा नाता, भगवान नरसिंह के इस पहले मंदिर से जुड़ा है इतिहास

होली का इतिहास

नई दिल्ली:

21 मार्च को पूरे देश में होली (Holi) बड़ी ही धूमधाम से मनाई जाएगी. इससे पहले 20 मार्च की शाम को होलिका दहन (Holika Dahan) किया जाएगा. होली (Holi 2019) के इस पर्व में पकवानों के साथ-साथ हर तरफ रंगों की बौछार होती है. लेकिन क्या आपको मालूम है कि भारत के इस सबसे प्रसिद्ध त्योहार का संबंध पाकिस्तान से है? माना जाता है कि होली की शुरुआत भारत में नहीं बल्कि पाकिस्तान से हुई. इसके पीछे बेहद ही खास वजह बताई जाती है और वो है पाकिस्तान के मुल्तान शहर में मौजूद प्रल्हादपुरी मंदिर (Prahladpuri Temple). 

माना जाता है कि हिरण्यकश्यप के बेटे प्रल्हाद ने भगवान नरसिंह (विष्णु के अवतार) के सम्मान में एक मंदिर बनवाया, जो फिलहाल पाकिस्तान के शहर मुल्तान में आता है. भगवान नरसिंह ने ही खंभे में अपने दर्शन देकर भक्त प्रल्हाद की जान बचाई थी. इसी मंदिर से होली (Holi) की शुरुआत हुई. यहां दो दिनों तक होलिका दहन (Holika Dahan) उत्सव और होली पूरे नौ दिनों तक मनाई जाती थी.

Surf Excel से हुई इतनी नफरत कि लोगों ने Microsoft Excel के साथ कर दिया ऐसा

p4leftlg

पाकिस्तान के मुल्तान में मौजूद प्रल्हादपुरी मंदिर


इस जगह पर भारत में मनाई जाने वाली जनमाष्टमी (Janmashtami) की तरह होली वाले दिन मटकी फोड़ी जाती है. मटकी को ऊंचाई पर लटकाया जाता है. फिर पिरामिड के आकार में एक के ऊपर एक चढ़कर मटकी फोड़ी जाती है. खास बात, इस मटकी में भी मक्खन और मिश्री भरी होती है. पाकिस्तान के मुल्तान में इस पर्व को चौक-पूर्णा त्योहार कहा जाता है.

वहीं, आपको बता दें भगवान नरसिंह के इस पहले मंदिर को नुकसान पहुंचाया गया. स्पीकिंग ट्री के मुताबिक भारत में बाबरी मस्जिद (Babri Masjid) को गिराने के बाद पाकिस्तान में कई हिंदू मंदिरों को गिराया गया, जिनमें से एक प्रल्हादपुरी मंदिर भी था. 

लेकिन अब इस मंदिर में रखी भगवान नरसिंहा की मूर्ति हरिद्वार में है, जिसे बाबा नारायण दास बत्रा भारत लेकर आए. नारायण दास प्रसिद्ध वयोवृद्ध संत हैं, जिन्होंने भारत में कई स्कूलों और कॉलेजों का निर्माण कराया. समाज के उत्थान के लिए किए गए कार्यों के लिए उन्हें साल 2018 में पद्मश्री से भी नवाज़ा गया. 

Uber ड्राइवर ने साइड मिरर की जगह लगाई ऐसी चीज़, Viral तस्वीर को देख लोगों ने कहा - वाह क्या जुगाड़ है!

टिप्पणियां

Video: होली के जश्‍न में डीजे चलाने को लेकर झड़प, 16 साल के लड़के की मौत


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement