NDTV Khabar

15200 फुट की ऊंचाई पर स्थित है हेमकुंट साहिब, इन कठिनाईयों से होकर यहां पहुंचते हैं श्रद्धालु

यह गुरुद्वारा उत्तराखंड के चमोली जिले में है. यह सिखों का एक प्रसिद्ध तीर्थ स्थल है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
15200 फुट की ऊंचाई पर स्थित है हेमकुंट साहिब, इन कठिनाईयों से होकर यहां पहुंचते हैं श्रद्धालु
हिमालय में 15,200 फुट की ऊंचाई पर बर्फीली झील किनारे सात पहाड़ों के बीच बना है हेमकुंट साहिब गुरुद्वारा. इसे गुरुवार 25 मई से श्रद्धालुओं के दर्शनार्थ खोल दिया गया है. यह गुरुद्वारा उत्तराखंड के चमोली जिले में है. यह सिखों का एक प्रसिद्ध तीर्थ स्थल है. एक नजर इससे जुड़ी रोचक बातों पर-
 
  • हेमकुंट साहिब के आसपास अभी भी बर्फ जमी रहती है. जिसे काटकर सेना के जवान श्रद्धालुओं के लिए रास्ता बना देते हैं.
  • उच्च हिमालयी क्षेत्र में स्थित बदरीनाथ, केदारनाथ सहित चारों धामों की तरह हेमकुंट साहिब क्षेत्र के भी सर्दियों में भारी बर्फवारी और भीषण ठंड की चपेट में रहने के कारण उसके कपाट श्रद्वालुओं के लिये बंद कर दिये जाते हैं जो अगले साल गर्मियों में दोबारा खोल दिये जाते हैं.
  • ऋषिकेश-बदरीनाथ हाईवे के गोविंद घाट से पैदल चढ़ाई करने के बाद हेमकुंट साहिब पहुंचा जाता है.
  • गोविंदघाट ऋषिकेश से सड़क मार्ग से 290 किमी दूर बदरीनाथ के पास है.
  • गोविंदघाट पहुंचने के बाद भी और 19 किमी पैदल चलना पड़ता है, जिसके बाद पवित्र हेमकुंट साहिब के दर्शन होते हैं.
  • हेमकुंट साहिब के दर्शन के बाद तीर्थयात्री गोविंदघाट से 13 किमी दूर घांघरिया में रात्रि विश्राम करते हैं.


टिप्पणियां

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement