NDTV Khabar

Eid 2018: क्या रमजान और ईद-उल-फितर से जुड़ी इन 7 रोचक बातों को जानते हैं आप...

ईद-उल-फितर या ईद मुसलमानों के लिए उनके धर्म का सबसे बड़ा त्योहर है. इस त्योहर को दुनिया भर के मुसलमान मनाते हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Eid 2018: क्या रमजान और ईद-उल-फितर से जुड़ी इन 7 रोचक बातों को जानते हैं आप...

Eid 2017: ईद-उल-फितर त्योहर को दुनिया भर के मुसलमान मनाते हैं.

खास बातें

  1. रमजान का महीना 30 दिन का होता है.
  2. हिजरी कैलेण्डर के अनुसार ईद साल में दो बार आती है.
  3. रमजान के महीने में ही कुरान का अवतरण माना जाता है.
रमजान के पवित्र महीने में मनाया जाता है ईद-उल-फितर का त्योहार. यह दुनिया भर के मुसलमानों का एक बहद ही अहम त्योहार है. ईद-उल-फितर या ईद मुसलमानों के लिए उनके धर्म का सबसे बड़ा त्योहर है. इस त्योहर को दुनिया भर के मुसलमान मनाते हैं. यह त्योहार नेकियों के महीने रमजान में मनाया जाता है. कहते हैं कि रमजान का महीना इस्लामिक कैलेण्डर हिजरी कैलेण्डर का सबसे पाक महीना है. इस महीने में किए गए पूण्य का फल कई गुना ज्यादा होकर मिलता है. इस महीने में हर मुसमलान को अल्लाह का शुक्र अदा करना, रोज रखना, जकात देना, दान करना आदि का फर्ज है. एक नजर ड़ालते हैं ईद और रमजान से जुड़ी उन रोचक बातों पर...

टिप्पणियां
हैदराबाद के लिए खास होती है रमजान की रात

चांद देखकर ही क्यों मनाते हैं ईद, आखि‍र क्या है दोनों के बीच का संबंध...
  1. रमजान के महीने के आखि‍री दिन जब आसमान में चांद नजर आता है, तो उसके दूसरे दिन ईद मनाई जाती है. 

  2. मुसलमान समुदाय पूरे रमजान माह में रोजा रखते हैं. इस्लामिक कैलेण्डर के मुताबिक रमजान का महीना 30 दिन का होता है. ऐसे में मुसलमान पूर 30 दिन रोजा रखते हैं. 

  3. रमजान के दिनों में रोजा रखने वाला मुसलमान इफ्तार और सहरी के दौरान ही कुछ ग्रहण करता है. इसके अलावा वह पानी तक नहीं पीता. 

  4. हिजरी कैलेण्डर के अनुसार ईद साल में दो बार आती है. एक ईद होती है ईद-उल-फितर और दूसरी को कहा जाता है ईद-उल-जुहा. ईद-उल-फितर को महज ईद भी कहा जाता है. इसके अलावा इसे मीठी ईद भी कहा जाता है. जबकि ईद-उल-जुहा को बकरीद के नाम से भी जाना जाता है. 

  5. माना जाता है‍ कि रमजान के महीने की 27वीं रात, जिसे शब-ए-क़द्र को कहा जाता है, को क़ुरान का नुज़ूल यानी अवतरण हुआ था. 

  6. रमजान के महीने में ही कुरान का अवतरण माना जाता है. यही वजह है कि इस महीने में ज्यादा कुरान पढ़ने का फर्ज है.

  7. जैसा कि हम जान चुके हैं ईद-उल-फितर को मीठी ईद भी कहा जाता है, तो इस ईद पर सेवैया बनाना बहुत जरूरी है.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement