NDTV Khabar

रावण के नहीं थे 10 सिर, जानिए रावण के बारे में ऐसी ही बातें जो कोई नहीं जानता

कहते हैं रावण के दस सिर थे. क्या सचमुच यह सही है? कुछ विद्वान मानते हैं कि रावण के दस सिर नहीं थे किंतु वह दस सिर होने का भ्रम पैदा कर देता था इसी कारण लोग उसे दशानन कहते थे.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
रावण के नहीं थे 10 सिर, जानिए रावण के बारे में ऐसी ही बातें जो कोई नहीं जानता

रावण से जुड़े दिलचस्प फैक्ट्स.

खास बातें

  1. 30 सितंबर को मनाया जाएगा दशहरा.
  2. ग्रह नक्षत्रों को अपने हिसाब से चलाता था रावण.
  3. वेद और संस्कृत का ज्ञाता था रावण.
नई दिल्ली: कहते हैं रावण के दस सिर थे. क्या सचमुच यह सही है? कुछ विद्वान मानते हैं कि रावण के दस सिर नहीं थे किंतु वह दस सिर होने का भ्रम पैदा कर देता था इसी कारण लोग उसे दशानन कहते थे. कुछ विद्वानों अनुसार रावण छह दर्शन और चारों वेद का ज्ञाता था इसीलिए उसे दसकंठी भी कहा जाता था. दसकंठी कहे जाने के कारण प्रचलन में उसके दस सिर मान लिए गए. जैन शास्त्रों में उल्लेख है कि रावण के गले में बड़ी-बड़ी गोलाकार नौ मणियां होती थीं. उक्त नौ मणियों में उसका सिर दिखाई देता था जिसके कारण उसके दस सिर होने का भ्रम होता था. 30 सितंबर को भारत में दशहरा मनाया जाएगा. इसी दिन भगवान श्रीराम ने रावण का वध किया था. इसी वजह से इस दिन दहशरे के रूप में मनाया जाता है. आइए जानते हैं रावण के बारे में ऐसी ही कुछ बातें तो बहुत कम लोग जानते हैं.

पढ़ें: क्या है विजयादशमी के पर्व का महत्व, जानिए शुभ मुहूर्त और तिथि​

ग्रह नक्षत्रों को अपने हिसाब से चलाता था रावण
मेघनाथ के जन्म से पहले रावण ने ग्रह नक्षत्रों को अपने हिसाब से सजा लिया था, जिससे उसका होना वाला पुत्र अमर हो जाए. लेकिन आखिरी वक़्त में शनि ने अपनी चाल बदल ली थी. रावण इतना शक्तिशाली था कि उसने शनी को अपने पास बंदी बना लिया था.

पढ़ें:  अबकी बार मनानी है पड़ोसी से भी मज़ेदार दिवाली, तो करें ये काम​
 
ravana

सीता रावण की बेटी थी
रामायण कई देशों में ग्रंथ की तरह अपनाई गई है. थाइलैंड में जो रामायण है उसके अनुसार सीता रावण की बेटी थी, जिसे एक भविष्यवाणी के बाद रावण ने ज़मीन में दफ़ना दिया था. भविष्यवाणी में कहा गया था कि 'यही लड़की तेरी मौत का कारण बनेगी'. बाद में देवी सीता जनक को मिलीं. यही कारण था कि रावण ने कभी भी देवी सीता के साथ बुरा बर्ताव नहीं किया.

टिप्पणियां
पढ़ें:  दुर्गा पूजा को और भी खास बनाती हैं ये 10 परंपराएं​

वेद और संस्कृत का ज्ञाता
रावण को वेद और संस्कृत का ज्ञान था. वो साम वेद में निपुण था. उसने शिवतांडव, युद्धीशा तंत्र और प्रकुठा कामधेनु जैसी कृतियों की रचना की. साम वेद के अलावा उसे बाकी तीनों वेदों का भी ज्ञान था. इतना ही नहीं पद पथ में भी उसे महारत हासिल थी. पद पथ एक तरीका है वेदों को पढ़ने का.
 
ravana

संगीत का भी ज्ञान
रावण को संगीत का भी शौक़ था. रूद्र वीणा बजाने में रावण को हराना लगभग नामुमकिन था. रावण जब भी परेशान होता वो रूद्र वीणा बजाता था. इतना ही नहीं रावण ने वायलन भी बनाया था जिसे रावणहथा कहते थे. आज भी राजस्थान में इसे बजाया जाता है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement