NDTV Khabar

Kerala Floods: सदी की सबसे बड़ी तबाही से जूझ रहा केरल, बारिश के फिर आसार, हजारों को मदद का इंतजार: 10 बातें

केरल सदी की सबसे बड़ी तबाही से इस वक्त जूझ रहा है. 100 साल में कभी ऐसी तबाही केरल ने नहीं देखी. 350 से ज़्यादा लोग अपनी जान गंवा चुके हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Kerala Floods: सदी की सबसे बड़ी तबाही से जूझ रहा केरल, बारिश के फिर आसार, हजारों को मदद का इंतजार: 10 बातें

Kerala Floods: केरल में बाढ़

तिरुवनंतपुरम : केरल सदी की सबसे बड़ी तबाही से इस वक्त जूझ रहा है. 100 साल में कभी ऐसी तबाही केरल ने नहीं देखी. 350 से ज़्यादा लोग अपनी जान गंवा चुके हैं. 6 लाख से ज़्यादा लोग राहत शिविरों में रह रहे हैं. राज्य के 14 में से 11 ज़िलों में रेड अलर्ट हैं और सबसे चिंताजनक बात है कि मौसम विभाग ने अभी भी भारी बारिश की आशंका जताई है जिससे आने वाले वक्त में हालात और बिगड़ने के आसार हैं. इडुक्की और एर्नाकुलम राज्य के बाक़ी हिस्सों से पूरी तरह कट गए हैं. बदत्तर होते हालात के बीच सैंकड़ों रेस्कयू टीमें पूरी जी जान से लगी हुई हैं. सेना, नेवी, एयरफोर्स, NDRF, ITBP सभी राहत और बचाव के काम में पूरी तरह मुस्तैद हैं. राज्य में बारिश और बाढ़ के चलते अब तक करीब 20 हज़ार करोड़ का नुकसान होने की बात मुख्यमंत्री विजयन कह रहे हैं. हालांकि, बारिश के अभी भी आसार हैं.
केरल में बाढ़ से जुड़ी अहम खबरें
  1. पानी भरने की वजह से कोच्चि एयरपोर्ट 26 अगस्त तक बंद कर दिया गया है. लेकिन उसकी जगह कोच्ची नेवल एयरबेस सोमवार से कमरशियल फ्लाइट के लिए इसेतमाल किया जा सकेगा. इस बीच केरल के मुख्यमंत्री पिनरई विजयन ने भी ट्वीट कर लोगों से बाढ़ प्रभावित लोगों के लिए मदद की अपील की है. बताया जा रहा है कि करीब सौ वर्षों में केरल सबसे भयावह बाढ़ को झेल रहा है. मुख्यमंत्री पिनरई विजयन ने बाढ़ प्रभावित लोगों की मदद के लिए डोनेशन की भी अपील की है.
  2. केरल में शनिवार को बाढ़ से और 22 लोगों की मौत हो गई. इसके साथ ही मृतकों की संख्या बढ़कर 350 पार तक पहुंच गई है.  इस बीच भारी बारिश के अनुमान से अधिकारियों की चिंता बढ़ गई है.  राज्य के 11 जिलों में रेड अलर्ट जारी है. दक्षिणी राज्य में इस साल के मानसून के दौरान नौ अगस्त से हो रही मूसलाधार बारिश के कारण एर्नाकुलम, त्रिशूर, इडुक्की, पथनामथित्ता और चेंगन्नूर जिलों से शनिवार को लोगों की मौत की खबर आने के बाद मृतकों की संख्या 194 पहुंच गई.
  3. केरल में हालात इस कदर बिगड़े हुए हैं कि प्रधानमंत्री मोदी ने भी केरल का हवाई दौरा किया और राज्य के लिए 500 करोड़ के राहत पैकेज का एलान किया है. साथ ही पीएम मोदी ने समीक्षा बैठक भी की. हालांकि मुख्यमंत्री पी विजयन ने केरल के लिए 2000 करोड़ की राहत राशि केंद्र से मांगी है.
  4. पीएम ऑफिस की तरफ़ से सभी मृतकों के परिजनों को दो दो लाख की सहायता राशि और गंभीर रूप से घायल लोगों को 50 50 हज़ार प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष से देने की घोणा की है. वहीं कई राज्य सरकारें मदद के लिए आगे आई हैं. महाराष्ट्र, दिल्ली, पंजाब, गुजरात, बिहार, उत्तराखंड,झारखंड कई सरकारें ने मदद का एलान किया है. इस बीच केरल के सीएम विजयन ने भी ट्वीट कर लोगो से बाढ़ प्रभावित लोगो की मदद करने की अपील की है .
  5. केरल में नागरिक भी बड़ी तादाद में एक दूसरे के लिए मदद के लिए हाथ बढ़ा रहे हैं. लोग ज़रूरत का सामान त्रिशूर के कंट्रोल सेंटर में  पहुंचा रहे हैं.  यहां हालात बाकी जगह के मुकाबले थोड़े बेहतर हैं.  केरल के कुदिरान के इलाके में सुरंग है जहां पास ही लैंड स्लाइड हुआ है.  उसके पास कई जगह वाहन फंसे हुए हैं. 
  6. नौसेना के प्रवक्ता का कहना है सबसे बुरा वक्त बीत चुका है और पानी का स्तर कम होने लगा है. बारिश से सर्वाधिक प्रभावित जिलों में अलुवा, चलाकुडी, अलप्पुझा, चेंगन्नूर और पथनामथित्ता जैसे इलाके शामिल हैं, जहां बचाव अभियान तेजी से चलाया जा रहा है और बचाव दलों ने बहुत से लोगों को बचाया है.
  7. राज्य के खाद्य मंत्री पी. थिलोथमन ने मीडिया से कहा, "एक बात जो मैं कहना चाहता हूं वह यह कि संख्या बहुत बड़ी है और जरूरत है कि लोगों को खाद्य पैकेट और पीने का पानी मुहैया कराया जाए. नौसेना की करीब 15 छोटी नौका यहां आ सकती हैं. लेकिन दिक्कत शाम के बाद है, जब बचाव अभियान चलाया नहीं जा सकता. लोगों को जल्द से जल्द बाहर निकालने के लिए हेलीकॉप्टरों की भी आवश्यकता है."
  8. केरल में भयावह बाढ़ से हुए जानमाल के भारी नुकसान को देखते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने फैसला किया है कि पार्टी के सभी सांसद, विधायक और विधान परिषद सदस्य एक महीने का वेतन राज्य के बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए देंगे. पार्टी के महासचिवों, राज्य प्रभारियों, प्रदेश अध्यक्षों और विधायक दल के नेताओं के साथ बैठक में कांग्रेस अध्यक्ष ने यह भी कहा कि पार्टी के नेता एवं कार्यकर्ता केरल एवं कुछ दूसरे राज्यों में आई बाढ़ से प्रभावित लोगों की हर संभव सहायता करें.
  9. वहीं, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी बाढ़ की मार झेल रहे केरल को मदद का ऐलान किया है. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मुख्यमंत्री रातह कोष से बाढ़ से तबाह केरल के लिए 10 करोड़ रुपये की मदद की घोषणा की है. वहीं, ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने बाढ़ प्रभावित केरल के लिए मुख्यमंत्री राहत कोष से पांच करोड़ रुपये की घोषणा की. साथ ही उन्होंने यह भी ऐलान किया कि 245 दमकल कर्मी नाव के साथ केरल बचाव कार्य के लिए भेजे जाएंगे.
  10. हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने भी बाढ़ से तबाह केरल के लिए 10 करोड़ रुपये की सहायता की घोषणा की है. इससे पहले प्रधानमंत्री कार्यालय ने एक बयान में बताया कि मोदी ने सभी मृतकों के परिजन को दो-दो लाख रुपये की सहायता राशि और गंभीर रूप से घायल लोगों को 50-50 हजार रुपये प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष (पीएमएनआरएफ) से भी देने की घोषणा की है.इसके अलावा, झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने बाढ़ की मार झेल रहे केरल को 6 करोड़ रुपये की मदद का ऐलान किया है. 
     



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
टिप्पणियां

Advertisement