NDTV Khabar

CBI vs कोलकाता पुलिस: दूसरे दिन धरना स्थल से चली ममता की सरकार, दीदी को मिला विपक्ष का भरपूर समर्थन, 10 खास बातें

CBI vs Kolkata Police: पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) और केंद्र सरकार (Central Government) के बीच सोमवार को भी दिन भर पूर्ण राजनीतिक गतिरोध जारी रहा

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
नई दिल्ली: पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) और केंद्र सरकार (Central Government) के बीच सोमवार को भी दिन भर पूर्ण राजनीतिक गतिरोध जारी रहा. सीबीआई बनाम कोलकाता पुलिस (CBI vs Kolkata Police) के मुद्दे को लेकर केंद्र की मोदी सरकार से लोहा ले रही ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) को इस दौरान विभिन्न राजनीतिक दलों का जबरदस्त समर्थन मिला. विपक्षी पार्टियों ने आरोप लगाया है कि केंद्र सरकार लोकतंत्र की हत्या करने की कोशिश कर रही है. वहीं, भाजपा ने पलटवार करते हुए इस समर्थन को भ्रष्टों का गठबंधन करार दिया है. पश्चिम बंगाल में चल रहे घटनाक्रम की गूंज संसद में भी सुनाई दी, जहां कार्यवाही बार-बार बाधित हुई. इस मामले में सीबीआई की दो अर्जियों पर मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट सुनवाई करेगा. चीफ जस्टिस रंजन गोगाई की तीन जजों की बेंच जिसमें जस्टिस दीपक गुप्ता और जस्टिस संजीव खन्ना शामिल हैं, ये सुनवाई करेगी.
जाने 10 खास बातें ममता बनर्जी के धरना के बारे में...
  1. सीबीआई ने कोलकाता पुलिस के प्रमुख राजीव कुमार पर सारदा और रोज वैली पोंजी योजनाओं में संभावित अभियुक्त होने का आरोप लगाया. सीबीआई ने सोमवार को सुप्रीम कोर्ट (supreme court) में कहा कि पुलिस कमिश्नरराजीव कुमार को हमने चार नोटिस भेजे थे, क्योंकि इलेक्ट्रॉनिक सबूत मिटाए गए थे. राजीव कुमार को तुरंत सबूत सरेंडर करना चाहिए, नहीं तो सबूत मिटाए जा सकते हैं. 
  2. विपक्षी नेताओं को निशाना बनाने के लिए भाजपा नीत सरकार द्वारा सीबीआई के कथित दुरूपयोग को लेकर तृणमूल कांग्रेस तथा अन्य दलों ने केंद्र सरकार की तीखी आलोचना की. इस मुद्दे पर ममता के सड़क पर उतर कर प्रदर्शन करने के अपने चिर परिचित अंदाज में फिर से दिखने पर आम चुनाव से पहले विपक्षी पार्टियां भी लामबंद हो रही हैं. दरअसल, विपक्षी दल लोकसभा चुनाव से पहले भाजपा के खिलाफ एक मजबूत गठबंधन बनाने की कोशिश कर रहे हैं.    
  3. ममता बनर्जी ने धरना स्थल पर ही अपनी कैबिनेट की बैठक की और वहां पुलिस वीरता पुरस्कार भी दिए. ममता ने कहा, 'यह सत्याग्रह है और मैं देश को बचाने, संविधान को बचाने तक इसे जारी रखूंगी.' इससे पहले, तृणमूल कांग्रेस प्रवक्ता डेरेक ओ ब्रायन ने कहा कि 22 पार्टियों ने केंद्र के खिलाफ प्रदर्शन को अपना समर्थन दिया है. ब्रायन ने ममता को एक ऐसे नेता के रूप में पेश करने की कोशिश की, जो सीबीआई के कथित दुरूपयोग के खिलाफ समूचे विपक्ष को एकजुट करने में सफल रही हैं. 
  4. ब्रायन ने बताया कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, तेदेपा प्रमुख एन चंद्रबाबू नायडू, राजद के तेजस्वी यादव, द्रमुक की कनीमोई ने प्रदर्शन में शामिल होने की इच्छा जाहिर की है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी ममता को अपनी पार्टी का समर्थन दिया है. इस बीच, राजद नेता तेजस्वी यादव और द्रमुक सांसद कनीमोई सोमवार को कोलकाता में ममता के धरना स्थल पर पहुंच गए. उन्होंने तृणमूल कांग्रेस प्रमुख के प्रति एकजुटता जाहिर की और उनका समर्थन किया है. दोनों नेताओं ने ममता से बात की और रविवार शाम से हुए घटनाक्रम की जानकारी ली. 
  5. समाजवादी पार्टी के नेता किरणमय नंदा भी प्रदर्शन स्थल पर पहुंच चुके हैं. वहीं, ममता को विपक्षी दलों से मिल रहे समर्थन की भाजपा ने आलोचना करते हुए कहा कि करोड़ों रूपये के सारदा घोटाले में कोलकाता पुलिस प्रमुख से सवाल करने के सीबीआई के कदम के खिलाफ उनके (ममता के) प्रदर्शन के बाद 'भ्रष्टों का गठबंधन' उभर रहा है. भाजपा ने इस मुद्दे पर जवाबी हमला करने के लिए अपने वरिष्ठ नेताओं और केंद्रीय मंत्रियों को भी उतार दिया. 
  6. केंद्रीय कानून मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने प्रेस कांफ्रेंस में हैरानी जताते हुए कहा कि क्या ममता ने पुलिस आयुक्त का इसलिए समर्थन किया है कि उनके पास गोपनीय जानकारी है और उन्हें बचाने की जरूरत है. उन्होंने सीबीआई के कदम को संघीय ढांचे पर हमला और राजनीतिक प्रतिशोध की कार्रवाई बताए जाने के आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि सीबीआई ने कानून के मुताबिक काम किया है और उसे बगैर वारंट के किसी को गिरफ्तार करने या पूछताछ करने की शक्ति है. 
  7. गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने पश्चिम बंगाल के घटनाक्रम को अभूतपूर्व करार दिया और चेतावनी दी कि केंद्र के पास कार्रवाई करने की शक्तियां हैं. पश्चिम बंगाल के घटनाक्रम को लेकर केजरीवाल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह पर हमला बोलते हुए कहा कि देश में लोकतंत्र को बचाने के लिए आगामी लोकसभा चुनाव में इन लोगों को हराने की जरूरत है. उन्होंने यह आरोप भी लगाया कि देश मोदी-शाह की जोड़ी से सबसे बड़े खतरे का सामना कर रहा है क्योंकि वे लोकतंत्र की हत्या करने की कोशिश कर रहे हैं. 
  8. राजद नेता तेजस्वी ने कहा, 'राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों के खिलाफ सीबीआई के इस्तेमाल की यह राजनीतिक साजिश है. यदि सभी राजनीतिक दल एकजुट नहीं होंगे तो देश उन्हें कभी माफ नहीं करेगा.' आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्र बाबू नायडू ने पश्चिम बंगाल की घटना की निंदा करते हुए कहा कि यह इस बात का स्पष्ट उदाहरण है कि किस तरह से मोदी-शाह, दोनों लोग संस्थाओं को बर्बाद कर रहे हैं. लोकसभा चुनाव से कुछ समय पहले विभिन्न राज्यों में राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों पर हमला करने का देश में विनाशकारी प्रभाव पड़ेगा.
  9. वाम दलों ने कहा कि केंद्र सीबीआई का दुरूपयोग कर रही है जबकि ममता घोटाले को आरोपियों को बचाने की कोशिश कर रही है. इस तरह दोनों ही जांच को नुकसान पहुंचा रहे हैं. ओडिशा में सत्तारूढ़ बीजद ने कहा कि आम चुनाव से पहले सीबीआई का राजनीतिक हथियार के तौर पर इस्तेमाल किया जा रहा है. प्रदर्शन स्थल पर कोलकाता पुलिस आयुक्त की मौजूदगी को लेकर उपजे विवाद पर ओ ब्रायन ने कहा कि उनकी उपस्थिति अन्य अधिकारियों के साथ एकजुटता का प्रदर्शन करने के लिए थी, क्योंकि धरना का लक्ष्य प्रशासन को मजबूत करना है. 
  10. द्रमुक प्रमुख एम. के. स्टालिन ने अपनी बहन एवं राज्य सभा सदस्य कनीमोई को ममता से मिलने कोलकाता भेजा और उन्हें समर्थन दिया. कनीमोई ने कहा कि सभी विपक्षी पार्टियों को यह सुनिश्चित करने की दिशा में काम करना चाहिए कि सत्ता में लौटने का भाजपा सपना पूरा नहीं हो. हालांकि, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि लोकसभा चुनाव की घोषणा होने तक देश में कुछ भी हो सकता है.(इनपुट भाषा से)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
टिप्पणियां

Advertisement