NDTV Khabar

मधुर भंडारकर की फिल्म 'इंदु सरकार' के खिलाफ मामला पहुंचा सुप्रीम कोर्ट

सेंसर बोर्ड से हरी झंडी मिलने के बाद 'इंदु सरकार' अब सुप्रीम कोर्ट पहुंच गई है.

16 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
मधुर भंडारकर की फिल्म 'इंदु सरकार' के खिलाफ मामला पहुंचा सुप्रीम कोर्ट

फिल्म 'इंदु सरकार' में किरदार दिवंगत प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी और संजय गांधी से प्रेरित हैं.

खास बातें

  1. 28 जुलाई को फिल्म रिलीज होने पर रोक लगाने की मांग
  2. बॉम्बे हाईकोर्ट ने रोक लगाने से इंकार कर दिया था
  3. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि देखेंगे फिलहाल कोई तारीख नहीं दी है
नई दिल्ली: फिल्म निर्माता मधुर भंडारकर ने केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड (सीबीएफसी) की समीक्षा समिति से फिल्म 'इंदु सरकार' को मंजूरी दिए जाने के ठीक बाद यह मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया है. इससे पहले बॉम्बे हाईकोर्ट ने मधुर भंडारकर की फिल्म 'इंदु सरकार' की रिलीज पर रोक लगाने के लिए एक महिला की ओर से दाखिल की गई याचिका को खारिज कर दिया था. इस महिला ने खुद को संजय गांधी की बायोलॉजिकल डॉटर बताते हुए फिल्म को लेकर आपत्ति जताई थी. वो भी ऐसे समय में जब सेंसर बोर्ड ने फिल्म को पास कर दिया है.  

ये भी पढ़ें: विवाद से परेशान होकर मधुर भंडारकर बोले- मैं किसी को 'इंदु सरकार' नहीं दिखाऊंगा

अदालत ने कहा था कि फिल्म के निर्माता ने इस बात का डिस्क्लेमर दे दिया है कि फिल्म की कथावस्तु और किरदार का किसी जीवित या मृत व्यक्ति से कोई संबंध नहीं है और फिल्म की कहानी काल्पनिक है. अदालत ने ये भी कहा कि याचिकाकर्ता ने फिल्म में संजय गांधी के चित्रण को लेकर आपत्ति उठाई है, लेकिन उनका संजय गांधी के साथ रिश्ता ही सवालों के घेरे में हैं. 'इंदु सरकार' के निर्देशक मधुर भंडारकर के वकील ने भी कहा कि प्रिया पॉल, संजय गांधी के साथ किसी रिश्ते को लेकर कोर्ट में कोई ठोस सबूत पेश नहीं कर पाई हैं. प्रियंका पॉल को इस बात पर आपत्ति रही कि मधुर ने फिल्म में जो 30 प्रतिशत सीन्स वास्तविक बताएं हैं, उन्हें पहचान कर फिल्म से हटा दिए जाएं. बताते चलें कि, भंडारकर ने सोमवार को ट्विटर पर कहा था कि फिल्म को कुछ कट के साथ मंजूरी दी गई है. भंडारकर ने ट्वीट किया, "सीबीएफसी की समीक्षा समिति को धन्यवाद. इंदु सरकार को कुछ कट के साथ मंजूरी दी गई. खुश हूं और राहत महसूस कर रहा हूं. इस शुक्रवार, 28 जुलाई को आप फिल्म सिनेमा घरों में देखेंगे."

ये भी पढ़ें: फिल्म 'इंदु सरकार' का प्रमोशन रद्द, भंडारकर ने पूछा - कहां गए अभिव्यक्ति की मांग करने वाले

फिल्म की पृष्ठभूमि 1975-77 के आपातकाल के समय की है. इसमें नील नितिन मुकेश, कीर्ति और कुल्हारी तोता राय चौधरी प्रमुख भूमिकाओं में है. इसमें सुप्रिया विनोद, अनुपम खेर भी हैं. फिल्म में किरदार दिवंगत प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी और संजय गांधी से प्रेरित हैं.

VIDEO: डायरेक्टर का खुलासा: फिल्म का किसी व्यक्ति विशेष से लेना-देना नहीं है... ...और भी हैं बॉलीवुड से जुड़ी ढेरों ख़बरें...


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement