World Asthma Day 2020: जानें दमा यानी अस्थमा के लक्षण, बचाव के उपाय और घरेलू नुस्खे

World Asthma Day: विश्व अस्थमा दिवस (World Asthma Day) हर साल मई महीने के पहले मंगलवार को मनाया जाता है. अस्थमा जिसे आम भाषा में दमा भी कहते हैं असल में सांस से जुड़ी परेशानी है. अस्थमा के लक्षणों (Symptoms) को समय रहते पहचान कर अस्थमा से जुड़ी सावधानियों का ध्यान रखा जाए. जानिए अस्थमा से बचाव के उपाय(Prevention), अस्थमा के लक्षण और कुछ घरेलू नुस्खों (Natural Remedies) के बारे में जो अस्थमा में राहत दिला सकते हैं. 

World Asthma Day 2020: जानें दमा यानी अस्थमा के लक्षण, बचाव के उपाय और घरेलू नुस्खे

World Asthma Day: अस्थमा के लक्षणों को पहचानना भी बहुत जरूरी होता है.

World Asthma Day 2020: विश्व अस्थमा दिवस (World Asthma Day) हर साल मई महीने के पहले मंगलवार को मनाया जाता है. अस्थमा जिसे आम भाषा में दमा भी कहते हैं असल में सांस से जुड़ी परेशानी है. इसमें मरीज को सांस लेने में परेशानी होती है, दम फूलता है, खांसी और बलगम की श‍िकायत भी होती है. इसे प्रदूषित वातावरण और खराब जीवनशैली की देन कह सकते हैं. अस्थमा से बच्चों से लेकर बुजुर्ग तक को अपना श‍िकार बना सकता है. अस्थमा के इलाज के बारे में बात करें तो अस्थमा एक ऐसी बीमारी है, जिसे पूरी तरह से ठीक कर पाना बेहद मुश्कि‍ल है. जरूरी है कि अस्थमा के लक्षणों को समय रहते पहचान कर अस्थमा से जुड़ी सावधानियों का ध्यान रखा जाए. जानिए अस्थमा से बचाव के उपाय, अस्थमा के लक्षण और कुछ घरेलू नुस्खों के बारे में जो अस्थमा में राहत दिला सकते हैं. 

व‍िश्व अस्थमा दिवस पर जानें दमा के लक्षण, बचाव के उपाय और घरेलू नुस्खे  (World Asthma Day: Causes Symptoms, Prevention and Natural Remedies for Asthma)

asthma

World Asthma Day: अस्थमा होने पर धूल-मिट्टी से दूर रहें.

अस्थमा के लक्षण (World Asthma Day: Symptoms)


अस्थमा एक गंभीर बीमारी है और इसको जड़ से खत्म कर पाना मुश्किल होता है. ऐसे में अस्थमा होने पर कुछ बातों का ध्यान रखना बेहद जरूरी हो जाता है. अस्थमा के लक्षणों को पहचानना भी बहुत जरूरी होता है. इसके तीन मुख्य लक्षण हैं-

  • फेफड़ों में ज्यादा मात्रा में कफ.
  • श्वास नली और उसके आसपास की मांसपेशियों का संकरा होना.
  • श्वास नली में सूजन.

अस्थमा से बचाव के उपाय(World Asthma Day: Prevention)

अस्थमा रोगी के लिए कुछ बातों का ध्यान रखना बहुत जरूरी है. खासकर उन हालात में जब प्रदूषण बढ़ रहा हो. ऐसे में अस्थमा से बचाव या इसके विकराल रूप में जाने से बचने के लिए आप कुछ उपाय अपना सकते हैं-

1. अस्थमा मरीज को साफ हवा की जरूरत होती है. ऐसे में अस्थमा होने पर धूल-मिट्टी से दूर रहें. 
2. एक चीज जो हर किसी के लिए जरूरी है, वह है एक्सरसाइज. वाकिंग, लो इम्पेक्ट एरोबिक्स और पानी से जुड़े व्यायाम करें. 
3. अगर आपके घर में पालतू जानवर हैं, तो उनसे थोड़ी दूरी बनाने की जरूरत है. अपने पालतू को हर हफ्ते नहलाएं. 
4. इस बात का ध्यान रखें कि आप साफ-सफाई का काम न करें. इससे उड़ने वाली धूल आपको सांस लेने में दिक्कत कर सकता है या अस्थमा के अटैक का खतरा बढ़ा सकता है.
5. अस्थमा है तो धूम्रपान बिलकुल न करें. अगर आपके घर में कोई करता है, तो उसे भी इससे दूर रहने के लिए कहें.
6. अस्थमा रोगी को पुराने धूल-मिट्टी के कपड़ों से दूर रहना चाहिए.
7. अस्थमा रोगियों के लिए व्यायाम बेहद जरूरी माना जाता है. लेकिन कोई भी नई एक्सरसाइज या योग करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लें. 
8. जब भी व्यायाम करें, तो अपनी दवा और इनहेलर को पास में रखें. ताकि जरूरत पड़ने पर आप इन्हें इस्तेमाल कर सकें.
9. डॉक्टर की सलाह लेने के बाद ही योग या एक्सरसाइज करना शुरू करें.


अस्थमा के लिए घरेलू नुस्खे (Natural Remedies for Asthma)

अस्थमा रोगियों के लिए अक्सर घरेलू नुस्खे इस्तेमाल किए जाते हैं, जो उनके लिए कई मामलों में बेहद कारगर और मददगार साबित होते हैं. हम आपको बता रहे हैं कुछ प्रचलित घरेलू नुस्खों के बारे में. लेकिन इस बात का पूरा ध्यान रखें कि अस्थमा के लिए घरेलू नुस्खे अपनाने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लें- 

1. अस्थमा के बचाव के लिए लहसुन: दूध में लहसुन की कुछ कलियां उबा कर लें. ऐसा रोजाना करें. लहसुन की इन कलियों को दूध के साथ खाएं. अस्थमा कंट्रोल होने में मदद मिल सकती है. आप चाहें तो चाय में लहसुन मिलाकर भी पी सकते हैं.

2. अस्थमा के लिए नुस्खे में इस्तेमाल करें अदरक: अस्थमा के दौरान गर्म-गर्म चाय भी अस्थमा में लाभ मिलता है.

Newsbeep

3. अजवायन है काम की: पानी में अजवायन डाल कर उबाल लें. अब इसकी भाप लें. माना जाता है कि इससे अस्थमा रोगियों को फायदा होता है. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


4. लौंग: लौंग को उबाल लें और गर्म पानी में शहद मिलाकर काढ़ा बनाकर पीएं.