त्रिपुरा में प्रदर्शनकारियों पर पुलिस की गोलीबारी में 1 की मौत, कई घायल

हजारों आदिवासी ब्रू शरणार्थियों के पुनर्वास के केंद्र सरकार के फैसले का विरोध करने के लिए 16 नवंबर से बंद है.

त्रिपुरा में प्रदर्शनकारियों पर पुलिस की गोलीबारी में 1 की मौत, कई घायल

ब्रू आदिवासियों के पुनर्वास के खिलाफ प्रदर्शनकारी हिंसक हुए

गुवाहाटी:

उत्तरी त्रिपुरा में प्रदर्शकारियों के हिंसक होने पर पुलिस द्वार की गई फायिरंग में कम से कम एक व्यक्ति की मौत हो गई और कई अन्य घायल हो गए. पुलिस के अनुसार, आंदोलनकारियों द्वारा कथित तौर पर पथराव शुरू करने और पनीसागर शहर में राष्ट्रीय राजमार्ग 8 को अवरुद्ध करने के बाद कार्रवाई की गई. ये जगह राज्य की राजधानी अगरतला से 4 घंटे की दूरी पर उत्तर में स्थित है. 

अनिश्चितकालीन बंद, या बंद के समर्थन में प्रदर्शन कर रहे लोगों के एक समूह पर पुलिस फायरिंग में कम से कम एक युवा की मौत की पुलिस ने पुष्टि कर दी है. कई अन्य घायल भी हुए, पुलिस ने ऐसी जानकारी दी है.

स्थानीय सूत्रों ने बताया कि स्थानीय अग्निशमन विभाग के एक कर्मी की भी कथित तौर पर मौत हो गई, लेकिन पुलिस अभी तक उसकी मौत की पुष्टि नहीं कर सकी है.

हजारों आदिवासी ब्रू शरणार्थियों के पुनर्वास के केंद्र सरकार के फैसले का विरोध करने के लिए 16 नवंबर से बंद है.

Newsbeep

ट्रुपुरा में जातीय संघर्ष के बाद 23 साल पहले आदिवासी ब्रू समुदाय पड़ोसी मिजोरम भाग गया था. उनका पुनर्वास - गृह मंत्री अमित शाह की एक पालतू परियोजना - को देश के पूर्वोत्तर राज्यों में नरेंद्र मोदी सरकार की एक बड़ी सफलता के रूप में देखा गया था, लेकिन त्रिपुरा के कंचनपुर उप-मंडल में स्थानीय लोग इसका कड़ा विरोध कर रहे हैं. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


त्रिपुरा में जातीय संघर्ष के बाद 23 साल पहले आदिवासी ब्रू समुदाय पड़ोसी मिजोरम भाग गए थे. उनका पुनर्वास गृह मंत्री अमित शाह की एक अहम परियोजना के तहत किया जा रहा था. और इसे देश के पूर्वोत्तर राज्यों में नरेंद्र मोदी सरकार की एक बड़ी सफलता के रूप में देखा गया था, लेकिन त्रिपुरा के कंचनपुर उप-मंडल में स्थानीय लोग इसका कड़ा विरोध कर रहे हैं.