NDTV Khabar

सिख विरोधी दंगे: CBI के 'सिख वकीलों' की टीम में थी बाप-बेटी की जोड़ी, जिसने सज्जन कुमार को दिलवाई उम्रकैद

दिल्ली हाईकोर्ट ने सिख विरोधी दंगों में निचली अदालत का फैसला पलटते हुए कांग्रेस नेता सज्जन कुमार को उम्रकैद की सजा सुनाई है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
सिख विरोधी दंगे: CBI के 'सिख वकीलों' की टीम में थी बाप-बेटी की जोड़ी, जिसने सज्जन कुमार को दिलवाई उम्रकैद

वकील आरएस चीमा और उनकी बेटी तरन्नुम चीमा.

नई दिल्ली:

1984 सिख विरोधी दंगों में दिल्ली हाईकोर्ट ने निचली अदालत के फैसले को पलटते हुए कांग्रेस नेता सज्जन कुमार को उम्रकैद की सजा सुनाई है. पीड़ितों के वकील एचएस फुल्का एक जाने-माने वकील हैं. वहीं सीबीआई के वकीलों की टीम भी थी, जिसमें सभी सदस्य सिख समुदाय से ताल्लुक रखने वाले थे. इस टीम में एक पिता और बेटी दोनों ही शामिल थे. 
आरएस चीमा विशेष अभियोजक थे, जिनसे सीबीआई ने साल 2010 में केस लेने के लिए संपर्क किया था. 

वकील चीमा ने इसके अलावा सीबीआई के लिए कई और मामलों में केस लड़ा है. घोयला घोटाले में हाई प्रोफाइल आईएएस अधिकारी और पूर्व कोयला सचिव एचसी गुप्ता को सजा दिलाने वालों में भी वे शामिल थे. 1984 सिख विरोधी दंगों का केस लड़ने के लिए वे दिल्ली-चंडीगढ़ के बीच सफर करते थे. हालही में कानून की डिग्री हासिल करने वाली उनकी बेटी तरन्नुम चीमा भी इस केस में अपने पिता की मदद कर रही थीं.


अगर राजीव गांधी सरकार ने मान ली होती चंद्रशेखर की यह बात, तो रुक सकते थे 1984 के दंगे

चंडीगढ़ से चीमा ने फोन पर एनडीटीवी से बात करते हुए कहा, 'मैं वास्तव में काम के लिए अपनी बेटी को श्रेय दूंगा. केस के लिए वह दिल्ली शिफ्ट हो गई थीं, उन्होंने सभी गवाहों को हैंडल किया.'

जगदीश कौर और निरप्रीत कौर की गवाही के आधार पर दिल्ली हाईकोर्ट ने फैसला दिया. दोनों ने ही दंगों में अपने परिवार के लोगों को खोया है. चंडीगढ़ से दिल्ली शिफ्ट होने के पीछे तरन्नुम का मकसद था कि कहीं क्रॉस क्वेश्चन के दौरान कहीं दोनों महिलाएं डर ना जाएं.

1984 का सिख दंगाः कौन था वो शख्स, जिसने 'बांध' दिए थे राष्ट्रपति ज्ञानी जैल सिंह के हाथ, बोले- मैं मजबूर हूं

केस में गवाही देने के लिए निरप्रित कौर ने अमृतसर में अपना घर छोड़कर दिल्ली में पंजाब भवन को दो महीने के लिए अपना ठिकाना बना लिया था.

तरन्नुम चीमा ने कहा, 'उन्होंने उन्हें(गवाहों) लगातार कम आंकने की कोशिश की. उन्होंने उन्हें झूठा बताया और उन्होंने निरप्रीत को तो आतंकी तक बोला था. क्योंकि निरप्रीत बतौर छात्र नेता जेल गई थीं.' साथ ही उन्होंने बताया कि उनके खिलाफ जितने भी केस थे बाद में बंद कर दिए गए थे.

जानिए कौन हैं जगदीश कौर जिनकी गवाही पर हुई 1984 के दंगों के दोषी सज्जन कुमार को सजा

35 साल की तरन्नुम चीमा का सफर यहीं खत्म नहीं हुआ. वह सज्जन कुमार के खिलाफ दूसरा सुल्तानपुरी से जुड़ा एक और केस लड़ रही हैं.

1984 का सिख दंगाः हत्यारों से भरी ट्रेन पहुंची थी दिल्ली, किसी को काटा, किसी को जिंदा जलाया

VIDEO- रंग लाई तरन्नुम की कोशिशें
संबंधित खबरें:-

1984 के सिख दंगों में नाम उछाले जाने पर MP के सीएम कमलनाथ ने कही यह बात...

कौन हैं सज्जन कुमार, जिन्हें 1984 के सिख विरोधी दंगों के मामले में मिली उम्रकैद की सजा, 10 खास बातें

1984, 2002, 1993 और 2013 के नरसंहारों पर चोट दे गया है दिल्ली हाईकोर्ट का फ़ैसला

जानिए कौन हैं जगदीश कौर जिनकी गवाही पर हुई 1984 के दंगों के दोषी सज्जन कुमार को सजा

1984 का सिख दंगा : पाकिस्तान से लड़ने वाले फौजी को भीड़ ने मारा, बचाने आया बेटा तो कर दिए 3 टुकड़े

सिख समुदाय जिसे 1984 दंगों का दूसरा दोषी मानता है उसे कांग्रेस आज बना रही है सीएम: जेटली

टिप्पणियां

1984 दंगों पर HC का फैसला: कोर्ट में रोए फुल्का समेत कई वकील, दोनों जजों ने जोड़े हाथ और कोर्टरूम से चले गए

1984 सिख दंगे: HC ने पलटा निचली कोर्ट का फैसला, कांग्रेस नेता सज्जन कुमार को उम्रकैद की सजा, 31 दिसंबर तक करना है सरेंडर



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement