NDTV Khabar

2019 लोकसभा चुनाव: बिहार में सीट बंटवारे का ये है BJP का नया 'फॉर्मूला', जानें किसको मिलेगी कितनी सीट

2019 के लोकसभा चुनाव में बिहार में एनडीए के सीट बंटवारे को लेकर बीजेपी ने फॉर्मूला तैयार कर लिया है. बीजेपी ने जो फॉर्मूला तैयार किया है उसके मुताबिक, बीजेपी बिहार की 20 लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ सकती है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
2019 लोकसभा चुनाव: बिहार में सीट बंटवारे का ये है BJP का नया 'फॉर्मूला', जानें किसको मिलेगी कितनी सीट

फाइल फोटो

खास बातें

  1. सीट बंटवारे को लेकर बीजेपी ने फॉर्मूला तैयार कर लिया है
  2. बीजेपी बिहार की 20 लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ सकती है
  3. जेडीयू को 12+1 सीट देने के फॉर्मूले पर विचार कर रही है.
नई दिल्ली: 2019 के लोकसभा चुनाव में बिहार में एनडीए के सीट बंटवारे को लेकर बीजेपी ने फॉर्मूला तैयार कर लिया है. बीजेपी ने जो फॉर्मूला तैयार किया है उसके मुताबिक, बीजेपी बिहार की 20 लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ सकती है. आपको बता दें कि अभी बिहार में बीजेपी के पास 22 सांसद हैं. वहीं इस सीट बंटवारे के फॉर्मूले से साफ है कि बीजेपी लोकसभा चुनाव में अपने सहयोगी दलों को साथ लेकर चलना चाहती है. इसलिए बीजेपी नाराज चल रहे सहयोगी दल जेडीयू को आगामी लोकसभा चुनाव में 12+1 सीट देने के फॉर्मूले पर विचार कर रही है. आपको बता दें कि कई बार जेडीयू के अलग-अलग नेता सीट बंटवारे को लेकर अपनी इच्‍छा जाहिर कर चुके हैं. 

लालू यादव का दावा-मोदी सरकार 2019 से पहले विरोधी नेताओं को जेल भेजने की बना रही योजना

जेडीयू के पास मौजूदा वक्‍त में 2 लोकसभा सांसद हैं और बीजेपी 2019 के लोकसभा चुनाव में  जेडीयू 12 +1 सीट दे सकती है. इसमें से 12 सीट जेडीयू को बिहार में और एक सीट झारखंड़ या यूपी में दे सकती है.  वहीं राम विलास पासवान की पार्टी एलजेपी के पास फिलहाल 6 सांसद हैं और 2014 के लोकसभा चुनाव में एलजेपी ने 7 सीटों पर चुनाव लड़ा था. लेकिन इस बार बिहार में एनडीए के सीटों के बंटवारे में एलजेपी की सीटें घट सकती हैं. बीजेपी एलजेपी को इस बार सिर्फ 5 सीटें देने पर विचार कर रही है. 

BJP का दावा, 2019 में नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में पहले से ज्यादा बहुमत से बनेगी सरकार

उपेंद्र कुशवाहा की आरएलएसपी अगर एनडीए के साथ रहती है तो उन्‍हें 2 सीट मिलेगी. आरएलएसपी से निलंबित सांसद अरुण कुमार भी एनडीए से ही चुनाव लड़ेंगे. 

PM, शाह और 15 सीएम की बैठक: 2019 लोकसभा चुनाव से पहले BJP ने बनाई ये योजना

हालांकि जेडीयू सूत्रों के अनुसार अभी तक बीजेपी की ओर से सीटों के बंटवारे को लेकर कोई फार्मूला नहीं मिला है. उनका कहना है कि जब अमित शाह और नीतीश कुमार की मुलाकात हुई थी तब यह सहमति बनी थी कि सीटों के बंटवारे को ज़्यादा समय के लिए न टाला जाए और एक महीने के भीतर इसे अंतिम रूप दे दिया जाए. लेकिन 12 सीटों की बात पर जेडीयू बहुत उत्साहित नहीं लग रही है. उसका कहना है कि अगर 2014 की ताकत के हिसाब से फैसला होना है तो फिर बीजेपी सभी सीटों पर लड़ सकती है. लेकिन आज गठबंधन में रहना बीजेपी के लिए भी ज़रूरी है और जेडीयू के लिए भी. बेहतर यही होगा कि सहयोगियों को बांटने के बाद जितनी सीटें बचें, वे दोनों आपस में बराबर-बराबर बांट लें.

बीजेपी से कम सीटों पर जेडीयू लड़ने को तैयार नहीं दिखती. जेडीयू का कहना है कि औरंगाबाद, झंझारपुर और सासाराम ऐसी सीटें हैं जो जेडीयू से बीजेपी में गए नेताओं ने जीती हैं. इसलिए वे जेडीयू को ही मिलनी चाहिए. वैसे बीजेपी का कहना है कि अगर उपेंद्र कुशवाहा एनडीए में नहीं रहेंगे तो उनके खाते की सीटें जेडीयू को दी जा सकती हैं.

टिप्पणियां
आपको बता दें कि पिछले लोकसभा चुनाव में भाजपा को बिहार की 40 में से 22 सीटें मिलीं थीं, जबकि सहयोगी लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) और राष्‍ट्रीय लोक समता पार्टी (रालोसपा) को क्रमश: छह और तीन सीटें मिलीं थीं. तब जेडीयू को केवल दो सीटें ही मिलीं थीं. वहीं, 2015 के विधानसभा चुनाव में बिहार की 243 सीटों में से जेडीयू को 71 सीटें मिलीं थीं. तब भाजपा को 53 और लोजपा एवं रालोसपा को क्रमश: दो-दो सीटें मिलीं थीं. उस चुनाव में जेडीयू, राष्‍ट्रीय जनता दल (राजद) तथा कांग्रेस का महागठबंधन था.

VIDEO: क्या बिहार में बन सकते हैं नए सियासी समीकरण?

 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement