32 करोड़ आधार संख्याओं को मतदाता पहचान पत्रों से जुड़े : मुख्य चुनाव आयुक्त ओ पी रावत

रावत ने एक एनजीओ ‘एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स’ (एडीआर) के14 वें राष्ट्रीय सम्मेलन के इतर संवाददाताओं से कहा, ‘अभी तक 32 करोड़ आधार नम्बर को मतदाता पहचान पत्रों से जोड़ दिया गया है.

32 करोड़ आधार संख्याओं को मतदाता पहचान पत्रों से जुड़े : मुख्य चुनाव आयुक्त ओ पी रावत

(प्रतीकात्मक तस्वीर)

बेंगलुरू:

मुख्य चुनाव आयुक्त ओ पी रावत ने शनिवार को कहा कि 32 करोड़ आधार संख्याओं को मतदाता पहचानपत्रों से जोड़ दिया गया है. रावत ने एक एनजीओ ‘एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स’ (एडीआर) के14 वें राष्ट्रीय सम्मेलन के इतर संवाददाताओं से कहा, ‘अभी तक 32 करोड़ आधार नम्बर को मतदाता पहचान पत्रों से जोड़ दिया गया है. उच्चतम न्यायालय से मंजूरी मिलने के बाद और 54.5 करोड़ आधार नम्बर को मतदाता पहचानपत्र से जोड़ दिया जाएगा.’ यह पूछे जाने पर कि और 54.5 करोड़ आधार नम्बर को जोड़ने में कितना समय लगेगा, रावत ने कहा, ‘हमने 32 करोड़ आधार नम्बर को केवल तीन महीने में जोड़ने का काम किया.’

कर्नाटक स्थित मैथ्यू थॉमस ने आधार कानून की संवैधानिक वैधता को चुनौती देते हुए गत नवम्बर में उच्चतम न्यायालय में अर्जी दायर की थी और दावा किया था कि यह निजता के अधिकार का उल्लंघन है तथा बायोमेट्रिक प्रणाली सही तरीके से काम नहीं कर रही है.

यह भी पढ़ें : मध्य प्रदेश : उपचुनाव से पहले बीजेपी-कांग्रेस के कार्यकर्ताओं के बीच मारपीट, पैसा बांटने का आरोप

ईवीएम से छेड़छाड़ के आरोपों को लेकर एक सवाल पर रावत ने कहा कि आयोग विश्वसनीय शिकायतों पर गंभीरता से विचार करेगा और उसका समाधान करेगा. मतों की गिनती के लिए टोटलाइजर मशीनों के इस्तेमाल पर रावत ने कहा, ‘हम यह नहीं कर सकते क्योंकि जब तक नियमों में संशोधन नहीं होता ऐसा नहीं हो सकता. उच्चतम न्यायालय पहले ही मामले की सुनवाई कर रहा है.’ रावत ने उनके हवाले से आई इन खबरों को खारिज किया कि कर्नाटक विधानसभा चुनाव की घोषणा 15 अप्रैल के आसपास की जाएगी. रावत ने कहा कि वह उचित समय पर किया जाएगा.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

VIDEO :  अचल कुमार जोति नए मुख्य चुनाव आयुक्त बने​

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)