कोरोना वैक्सीन को लेकर बांग्लादेशी कंपनी का सीरम इंस्ट‍िट्यूट से करार, दोनों देशों के रिश्तों में एक और कदम

निवेश कितने का होगा इस बात का खुलासा नहीं किया गया है लेकिन यह SIL द्वारा प्राथमिकता के आधार पर बेग्ज‍िमको फार्मा लिमिटेड (BPL) को वैक्सीन की आपूर्ति की प्रतिबद्धता पर निर्भर करेगा. 

कोरोना वैक्सीन को लेकर बांग्लादेशी कंपनी का सीरम इंस्ट‍िट्यूट से करार, दोनों देशों के रिश्तों में एक और कदम

प्रतीकात्मक तस्वीर

कोलकाता:

दुनिया भर में लाखों लोगों की जान ले चुके कोरोना वायरस (Coronavirus) को हराने के ल‍िए वैक्सीन तैयार करने की दौड़ तेज होती जा रही है, ऐसे में बांग्लादेश की सबसे बड़ी दवा निर्माता कंपनी यानी फार्मा कंपनी बेग्ज‍िमको (Beximco) ने भारत में अदार पूनावाला के सीरम इंस्ट‍िट्यूट लिमिटेड (SIL) में कोरोना वैक्सीन के विकास के लिए निवेश करने की घोषणा की है. हालांकि यह निवेश कितने का होगा इस बात का खुलासा नहीं किया गया है लेकिन यह SIL द्वारा प्राथमिकता के आधार पर बेग्ज‍िमको फार्मा लिमिटेड (BPL) को वैक्सीन की आपूर्ति की प्रतिबद्धता पर निर्भर करेगा. 

शुक्रवार को बेग्ज‍िमको द्वारा जारी बयान के अनुसार इस डील को कुछ इस तरह से डिजाइन किया गया है ताकि बांग्लादेश भी दुनिया के उन पहले देशों में शामिल रहे जिन्हें प्राथमिकता के आधार पर सीरम इंस्टिट्यूट से तय मात्रा में वैक्सीन मिलेगी. इस निवेश को वैक्सीन के लिए अग्र‍िम भुगतान की तरह समझा जाएगा.

कोरोना ने तोड़े सभी रिकॉर्ड, 24 घंटे में सबसे ज्यादा मामले, संक्रमितों की संख्या 35 लाख पार

बीपीएल के प्रमुख शयान एफ रहमान ने एनडीटीवी से कहा, "हम इस बात की गारंटी देने में सक्षम हैं कि वैक्सीन के वैश्व‍िक स्तर पर पंजीकृत होने के बाद, बांग्लादेश इसका इस्तेमाल करने वाले पहले देशों में से एक होगा और यह न केवल सीरम इंडिया और बेग्ज‍िमको  के बीच, बल्कि दोनों देशों के बीच रिश्तों की गहराई का प्रतीक है.''

दोनों कंपिनयों के बीच डील की घोषणा 28 अगस्त को हुई जिसके ठीक 10 दिन पहले भारत के विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने ढाका में प्रधानमंत्री शेख हसीना से मुलाकात की थी. 19 अगस्त को भारत लौटने से पहले श्रृंगला ने कहा था, 'हमारे ल‍िए बांग्लादेश हमेशा प्राथकिमता वाला देश रहा है.' दुनिया भर में बनने वाली वैक्सीन में से 60 फीसदी का उत्पादन अकेले भारत करता है. श्रृंगला ने कहा, ‘‘जब (कोविड-19) टीका विकसित होगा, दोस्तों, साझेदारों और पड़ोसियों को वह बिना मांगे मिलेगा.... हमारे लिए बांग्लादेश हमेशा प्राथमिकता रहा है.''

क्या कोरोना की दूसरी लहर के शुरुआती चरण में है भारत? Graphs से समझिए

गुरुवार 27 अगस्त को बांग्लादेश के स्वास्थ्य मंत्री जाहिद मलि‍क ने घोषणा की उनके देश ने चीन की एक कंपनी द्वारा निर्मित कोविड-19 के संभावित टीके के मनुष्य पर अंतिम स्तर के परीक्षण को मंजूरी दे दी. चीन की सिनोवाक बायोटेक लिमिटेड द्वारा विकसित टीके को देश के स्वास्थ्य मंत्री जाहिद मलिक ने दुनिया के सबसे प्रभावशाली टीकों में शुमार बताया.

Newsbeep

सीरम इंस्ट‍िट्यूट फिलहाल भारत में ऑक्सफोर्ड द्वारा विकसित की गई वैक्सीन के तीसरे चरण का ट्रायल कर रहा है. सीरम इंस्टीट्यूट ने एजेड व ऑक्सफोर्ड तथा नोवावैक्स दोनों के साथ उनके संभावित टीके के उत्पादन का करार किया हुआ है.

देश में तेजी से बढ़ते कोरोना के मामले

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com