दो विधायकों के वोट रद्द होने के बाद क्या आसान हो जाएगी अहमद पटेल की राह?

कांग्रेस राज्यसभा चुनाव में जारी ड्रामे का अंत करते हुए कांग्रेस के पक्ष में फैसला दिया है.

दो विधायकों के वोट रद्द होने के बाद क्या आसान हो जाएगी अहमद पटेल की राह?

अहमद पटेल की राह आसान हो गई है...

अहमदाबाद:

कांग्रेस राज्यसभा चुनाव में जारी ड्रामे के वोटों की गिनती में आ रही बाधा को दूर कर दिया है. कांग्रेस की मांग को स्वीकार करते हुए चुनाव आयोग ने दोनों बागी कांग्रेस विधायकों के वोट रद्द मान लिए हैं. आयोग ने वोटों की गिनती जल्दी शुरू करने का आदेश दिया है. उम्मीद जताई जा रही है कि एक घंटे के अंदर तस्वीर साफ हो जाएगी. दो वोट रद्द हो जाने के बाद कांग्रेस की राह आसान मानी जा रही है.

पढ़ें : कुछ ऐसा रहा है कांग्रेस के 'चाणक्य' अहमद पटेल का राजनीतिक सफर

उधर, गुजरात कांग्रेस नेता अर्जुन मोढ़वाडिया ने आयोग के फैसले पर खुशी जताई. उन्होंने आरोप लगाया कि पीठासीन अधिकारी से शुरुआत में ही मामले की शिकायत की गई थी. पीठासीन अधिकारी ने वीडियोग्राफी देखकर फैसला लेने का आश्वासन दिया था. शुरू में वह तैयार हो गए थे लेकिन बाद में दबाव में आकर उन्होंने कहा कि मैं अकेले फुटेज देखूंगा. बाद में बीजेपी की ओर से इसी तरह की बात कही गई. पांच बजे काउंटिंग शुरू नहीं हो पाई. बाद में मामला बढ़ा. मामला चुनाव आयोग तक पहुंचा. चुनाव आयोग ने हमारे पक्ष में फैसला दिया है. कांग्रेस ने आरोप लगाया कि बीजेपी सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग करके विधायकों की खरीद-फरोख्त कर रही है.

पढ़ें : ...अगर ऐसा हुआ तो इस विधायक का वोट अहमद पटेल के लिए बन सकता है 'संजीवनी'

Newsbeep

VIDEO : मैं जीतने वाला हूं : अहमद पटेल

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


वही, बीजेपी की ओर से गुजरात उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल ने कहा कि चुनाव आयोग का फैसला दुखद है. नितिन पटेल ने आरोप लगाया कि शक्ति सिंह गोहल ने राघवजी पटेल का मत छीनने की कोशिश की. दो विधायकों के वोट रद्द होने के बाद अब 44 वोटों से हार-जीत का फैसला तय होगा. ऐसे में अब पटेल की जीत आसान हो सकती है. हालांकि अभी भी उनकी राह में कई बाधाएं हैं.