Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

अफजल गुरु के बेटे ने कहा- मेरे पास आधार कार्ड है, पासपोर्ट भी मिलना चाहिए, विदेश में पढ़ाई के लिए मिल रही है स्कॉलरशिप

गालिब पिछले साल जनवरी में उस वक्त मीडिया की सुर्खियों के हिस्सा बने थे, जब उन्होंने 12वीं कक्षा का एग्जाम शानदार प्रदर्शन करते हुए 88 फीसदी अंकों से पास किया. उन्हें 500 में से 441 नंबर मिले थे.

अफजल गुरु के बेटे ने कहा- मेरे पास आधार कार्ड है, पासपोर्ट भी मिलना चाहिए, विदेश में पढ़ाई के लिए मिल रही है स्कॉलरशिप

गालिब गुरु NEET पास करने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं.

खास बातें

  • NEET के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं गालिब गुरु
  • कहा- 2012 में किया था पासपोर्ट के लिए अप्लाई
  • अभी तक नहीं मिला पासपोर्ट
श्रीनगर:

साल 2001 में भारतीय संसद पर हमला (Attack on Indian Parliament) करने वाले अफजल गुरु (Afzal Guru) के बेटे गालिब गुरु का कहना है कि उसे विदेश में मेडिकल की पढ़ाई करने के लिए पासपोर्ट चाहिए. गालिब गुरु का कहना है कि उसने 2012 में पासपोर्ट के लिए अप्लाई किया था, लेकिन अभी तक उसे नहीं मिला है. गालिब मेडिकल की पढ़ाई करने के लिए एनईईटी पास करने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं. अफजल गुरु को साल 2013 में फांसी पर लटकाया गया था. जब अफजल गुरु ने अपने साथियों के साथ मिलकर भारतीय संसद पर हमला किया था, तब गालिब की उम्र मात्र दो साल थी.

गालिब को भारतीय पासपोर्ट (Indian Passport) चाहिए, क्योंकि अगर वह एनईईटी एग्जाम पास नहीं कर पाया तो विदेश में जाकर पढ़ाई कर सके. न्यूज एजेंसी एएनआई से बात करते हुए गालिब ने बताया, 'मैं एनईईटी पास करने की कोशिश कर रहा हूं. अगर मैं पास नहीं होता हूं तो एक और विकल्प होना चाहिए. मैं विदेश में जाकर पढ़ाई करना चाहता हूं, इसलिए मुझे पासपोर्ट की जरूरत है. मेरे पास आधार कार्ड है, पासपोर्ट भी होना चाहिए. मुझे तुर्की से मेडिकल स्कॉलरशिप मिल रही है. मैं अपील करता हूं कि मुझे पासपोर्ट भी मिलना चाहिए. अगर मुझे पासपोर्ट मिलता है तो मैं इंटरनेशनल मेडिकल स्कॉलरशिप ले सकता हूं.'

अफजल गुरु मेरे लिए आइकन नहीं है, मेरा आदर्श रोहित वेमुला है : कन्हैया कुमार

गालिब पिछले साल जनवरी में उस वक्त मीडिया की सुर्खियों के हिस्सा बने थे, जब उन्होंने 12वीं कक्षा का एग्जाम शानदार प्रदर्शन करते हुए 88 फीसदी अंकों से पास किया. उन्हें 500 में से 441 नंबर मिले थे. गालिब जानते हैं कि बिना पासपोर्ट के उनका विदेश जाकर इंटरनेशनल स्कॉलरशिप पर पढ़ाई करने का सपना पूरा नहीं होगा. गालिब ने साल 2012 में पासपोर्ट के लिए आवेदन किया था, लेकिन अभी तक नहीं मिला.

'जो आज अफजल गुरु का समर्थन कर रहे हैं मारे जा चुके होते' : संसद हमला केस देखने वाले जज

साथ ही गालिब ने बताया, 'मैंने 2012 में पासपोर्ट के लिए आवेदन किया था, मैं पासपोर्ट ऑफिस और कोर्ट भी गया. लेकिन वे लोग मुझे पासपोर्ट क्यों नहीं दे रहे हैं, इसकी कोई वजह नहीं बता रहे हैं. मैंने पासपोर्ट के लिए एनईईटी का एग्जाम एक साल के लिए टाल दिया है. 

(इनपुट- एएनआई)

जेएनयू के छात्रों की अफजल के पक्ष में नारेबाजी बेवकूफी है, देशद्रोह नहीं : पी चिदंबरम

VIDEO- अफजल के परिवार ने कहा, नहीं दी गई फांसी की जानकारी