अलका लांबा को नवीन पटनायक को बधाई देना पड़ा भारी, आप विधायकों के वाट्सएप ग्रुप से किया गया बाहर

इस वाट्सएप ग्रुप में पार्टी प्रमुख अरविंद केजरीवाल भी शामिल हैं.

अलका लांबा को नवीन पटनायक को बधाई देना पड़ा भारी, आप विधायकों के वाट्सएप ग्रुप से किया गया बाहर

चांदनी चौक सीट से आप की विधायक हैं अलका लांबा.

नई दिल्ली:

आम आदमी पार्टी (Aam Admi Party) से नाराज चल रहीं चांदनी चौक की विधायक अलका लांबा (Alka Lamba) ने शनिवार को दावा किया कि उन्हें पार्टी विधायकों के वाट्सएप ग्रुप से एक बार फिर हटा दिया गया है. इस वाट्सएप ग्रुप में पार्टी प्रमुख अरविंद केजरीवाल भी शामिल हैं. लांबा का कहना है कि ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक को पांचवे कार्यकाल के लिये मिली जीत पर उन्हें बधाई देने की वजह से उन्हें (लांबा को) वाट्सएप ग्रुप से हटा दिया गया. उन्होंने कहा कि इस तरह का कदम आप नेतृत्व के लिये ठीक नहीं है. वाट्सएप ग्रुप का स्क्रीनशॉट ट्विटर पर साझा करते हुए उन्होंने केजरीवाल की निंदा की और पूछा कि आखिर उन्हें ही क्यों लोकसभा चुनावों में मिली पार्टी की हार का जिम्मेदार ठहराया जा रहा है

यह भी पढें: विधायक अलका का आरोप-पहले रोड शो में बुलाया, फिर कहा- CM की गाड़ी पर नहीं मिलेगी जगह

अलका ने ट्वीट किया, ‘गुस्सा मुझ पर कुछ यूं निकाला जा रहा है, अकेली मैं ही क्यों? मैं तो पहले दिन से ही यही सब कह रही थी जो आज हार के बाद आप (केजरीवाल) कह रहे हैं, कभी ग्रुप में जोड़ते हो,कभी निकालते हो,बेहतर होता इससे ऊपर उठकर कुछ सोचते, बुलाते,बात करते,गलतियों और कमियों पर चर्चा करते,सुधार कर के आगे बढ़ते.'

इस स्क्रीनशॉट में यह साफ दिख रहा है कि उत्तर पूर्वी दिल्ली से आप के उम्मीदवार रहे दिलीप पांडे ने उन्हें हटाया है. पांडे ने हालांकि इस मामले में कोई जवाब नहीं दिया. केजरीवाल पर भड़कते हुए लांबा ने कहा कि उन लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए जो बंद कमरे में तमाम फैसले लेते हैं.

Newsbeep

यह भी पढें: अलका लांबा ने लोगों से पूछा- क्या मुझे आम आदमी पार्टी से इस्तीफा देना चाहिए?​

बता दें यह दूसरी बार है जब लांबा को ग्रुप से हटाया गया है. इससे पहले उन्हें पिछले साल दिसंबर में ग्रुप से हटाया गया था जब उन्होंने भूतपूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी को दिए गए भारत रत्न सम्मान को रद्द करने के पार्टी के प्रस्ताव पर आपत्ति जतायी थी. हालांकि लोकसभा चुनाव प्रचार से पहले उन्हें ग्रुप में शामिल कर लिया गया था. (इनपुट-भाषा)

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


वीडियो- राजीव गांधी से भारत रत्न वापस लेने की मांग वाले प्रस्ताव पर घमासान