NDTV Khabar

ताजमहल को लेकर संगीत सोम के बयान पर ओवैसी ने पूछा- क्या पीएम मोदी लाल किले पर राष्ट्रीय झंडा फहराना बंद करेंगे

हैदराबाद के सांसद ओवैसी ने कहा कि यह बहुत आश्चर्यजनक है कि जिसने संविधान की शपथ ली है, वह अहंकार और अज्ञानता से बात कर रहा है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
ताजमहल को लेकर संगीत सोम के बयान पर ओवैसी ने पूछा- क्या पीएम मोदी लाल किले पर राष्ट्रीय झंडा फहराना बंद करेंगे

असुद्दीन ओवैसी ( फाइल फोटो )

खास बातें

  1. संगीत सोम के बयान के बाद ओवैसी ने पूछा पीएम से सवाल
  2. क्या लाल किले पर तिरंगा फहराना बंद करेंगे पीएम मोदी
  3. पहले भी कई बयान चुके हैं असुद्दीन ओवैसी
हैदराबाद:

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के विधायक संगीत सोम के ताजमहल को 'गद्दारों' द्वारा बनाए जाने के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए एआईएमआईएम अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने सवाल पूछा है कि क्या प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लाल किले पर राष्ट्रीय झंडा फहराना बंद करेंगे. हैदराबाद के सांसद ओवैसी ने कहा कि यह बहुत आश्चर्यजनक है कि जिसने संविधान की शपथ ली है, वह अहंकार और अज्ञानता से बात कर रहा है. ओवैसी ने पत्रकारों से कहा, "अगर वह जो कह रहे हैं वह सही है तो प्रधानमंत्री फिर क्यों लालकिले जाकर झंडा फहराते हैं क्योंकि लाल किला भी गद्दारों ने बनाया था.'

संगीत सोम ने फिर दिया विवादास्पद बयान, कहा - गद्दारों का बनवाया ताजमहल भारतीय संस्कृति पर कलंक


उन्होंने सरकार को चुनौती दी कि वह यूनेस्को से ताजमहल को धरोहर की सूची से बाहर निकालने और विदेशी पर्यटकों को ताजमहन नहीं देखने के लिए कहे. ओवैसी ने कहा कि मोदी को विदेशी मेहमानों से हैदराबाद हाऊस में मिलना बंद कर देना चाहिए क्योंकि इसे भी 'गद्दारों' ने बनाया था. उन्होंने कहा कि भाजपा के नेता ऐसे मुद्दे उठाकर लोगों को ध्यान भटकाना चाहते हैं क्योंकि सरकार नौकरी देने, आतंकवाद और चीन से निपटने, नोटबंदी व जीएसटी के बाद जनता को हो रही परेशानियों से निपटने में विफल रही है. गौरक्षकों की ओर से लगातार किए जा रहे हमलों पर उन्होंने चिंता जताते हुए कहा कि इस मामले पर मोदी का बयान केवल एक दिखावटी बात थी.

टिप्पणियां

वीडियो : संगीत सोम का ताजमहल पर बयान. अन्य Video के लिए क्लिक करें
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के अयोध्या में श्री राम की विशाल मूर्ति का निर्माण करवाने के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि यह सर्वोच्च न्यायालय के उस आदेश का उल्लंघन है जिसमें कहा गया था कि सार्वजनिक धन का प्रयोग पूजा स्थल के निर्माण और रखरखाव के लिए खर्च नहीं किया जा सकता. सरकार को अपना ध्यान अस्पतालों की दशा सुधारना में लगाना चाहिए, जहां ऑक्सीजन आपूर्ति नहीं करने की वजह से कई बच्चों की मौत हो गई थी.

इनपुट : आईएनएस



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement