NDTV Khabar

आसाराम मामला : बलात्कार पीड़िता की सुरक्षा बढ़ाई गई

अब एक महिला कांस्टेबल सहित आधा दर्जन पुलिसकर्मी आवास पर तैनात रहेंगे. उन्होंने बताया कि दो कर्मियों को बुलेटप्रूफ जैकेट भी मुहैया करायी गई है. सिंह ने बताया कि पूरे परिवार को सुरक्षा दी गयी है और वह स्वयं समय समय पर इसकी समीक्षा कर रहे हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
आसाराम मामला : बलात्कार पीड़िता की सुरक्षा बढ़ाई गई

आसाराम.

शाहजहांपुर: आसाराम बापू के खिलाफ बलात्कार के मामले में मुकदमे की कार्यवाही मंद गति से चलने पर सुप्रीम कोर्ट द्वारा सवाल उठाये जाने के बीच जिला प्रशासन ने बलात्कार पीड़िता की सुरक्षा कड़ी कर दी है. पुलिस अधीक्षक केबी सिंह ने बताया कि बलात्कार पीड़िता के आवास पर दो और सुरक्षाकर्मी तैनात किए गए हैं. अब एक महिला कांस्टेबल सहित आधा दर्जन पुलिसकर्मी आवास पर तैनात रहेंगे. उन्होंने बताया कि दो कर्मियों को बुलेटप्रूफ जैकेट भी मुहैया करायी गई है. सिंह ने बताया कि पूरे परिवार को सुरक्षा दी गयी है और वह स्वयं समय समय पर इसकी समीक्षा कर रहे हैं.

हालांकि, पीड़िता के पिता ने आरोप लगाया कि वह घटना के बाद से ही अपने बेटे को शस्त्र लाइसेंस दिये जाने का आग्रह कर रहे हैं लेकिन अब तक नहीं मिल सका. पिता का कहना है कि उनकी सुरक्षा के लिए यह आवश्यक है. पिता ने स्थानीय पत्रकार नरेन्द्र यादव को भी अतिरिक्त सुरक्षा मुहैया कराने की मांग की, जिन्होंने एक स्थानीय दैनिक में पूरे प्रकरण को सक्रियता से कवर किया. इस समय यादव को केवल एक सुरक्षाकर्मी दिया गया है.

यह भी पढ़ें : आसाराम के खिलाफ मुंह खोलने वाले इन 11 लोगों पर हुए हमले, कई गंवा चुके हैं जान

शाहजहांपुर की 16 वर्षीय लड़की ने आसाराम पर उनके जोधपुर आश्रम में बलात्कार किये जाने का आरोप लगाया था. दिल्ली के कमला मार्केट थाने में मामला दर्ज कराया गया, जिसे बाद में जोधपुर स्थानांतरित कर दिया गया.

उच्चतम न्यायालय ने 28 अगस्त को आसाराम बापू बलात्कार मामले की कार्यवाही में विलंब पर सवाल उठाया था. शीर्ष अदालत ने 12 अप्रैल को गुजरात की निचली अदालत से आसाराम के खिलाफ सूरत की दो बहनों द्वारा दर्ज यौन उत्पीडन मामले में अभियोजन पक्ष के गवाहों के बयान दर्ज कराने की प्रक्रिया तेज करने को कहा था. उच्चतम न्यायालय ने राजस्थान और गुजरात में दर्ज मामलों में आसाराम को जमानत देने से इंकार कर दिया था.

सूरत की दो बहनों ने आसाराम और उनके बेटे नारायण सांई पर पृथक शिकायतें दर्ज करायी थीं. पिता पुत्र पर बलात्कार और अवैध रूप से बंधक बनाने सहित अन्य आरोप लगाये गये हैं. बड़ी बहन ने अपनी शिकायत में आसाराम पर आरोप लगाया कि उन्होंने 2001 से 2006 के बीच लगातार उसका यौन उत्पीडन किया, जब वह अहमदाबाद के निकट आसाराम के आश्रम में रह रही थी.

टिप्पणियां
यह भी पढ़ें : धार्मिक गुरु आसाराम इन 5 बयानों के चलते विवादों में रहे.... 

राजस्थान में दर्ज मामले में नाबालिग लड़की ने आसाराम पर आरोप लगाया कि जोधपुर के एक गांव स्थित आसाराम के आश्रम में उसके साथ बलात्कार किया गया. नाबालिग उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर की है. उच्चतम न्यायालय ने कहा कि इस मामले में कार्यवाही में अनावश्यक रूप से विलंब हुआ है और अभियोजन पक्ष के गवाहों पर हमले किये जा रहे हैं, जिसकी वजह से दो गवाहों की मौत हो गयी.
VIDEO

पिछले साल 18 नवंबर को शीर्ष अदालत ने बच्चों की कथित हत्या और आसाराम बलात्कार मामलों के दस गवाहों पर हमलों की सीबीआई जांच की मांग करने वाली याचिका पर केन्द्र और पांच राज्यों से जवाब तलब किया था. आसाराम को जोधपुर पुलिस ने 31 अगस्त 2013 को गिरफ्तार किया था और तब से वह जेल में बंद हैं. (IANS)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement