NDTV Khabar

इफ्तार पार्टी में साथ दिखाई दिए सीएम अशोक गहलोत और सचिन पायलट

राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत और डिप्टी सीएम सचिन पायलट मंगलवार को जयपुर में कांग्रेस ऑफिस में हुई इफ्तार पार्टी में साथ दिखाई दिए.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
इफ्तार पार्टी में साथ दिखाई दिए सीएम अशोक गहलोत और सचिन पायलट

खास बातें

  1. सीएम अशोक गहलोत और डिप्टी सीएम सचिन पायलट साथ दिखे
  2. इफ्तार के दौरान दोनों नेताओं के बीच नहीं दिखी कोई नाराजगी
  3. गहलोत ने कहा था- मेरे बेटे की हार की जिम्मेदारी लें सचिन पायलट
जयपुर:

राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत (Ashok Gehlot)  और डिप्टी सीएम सचिन पायलट मंगलवार को जयपुर में कांग्रेस ऑफिस में हुई इफ्तार पार्टी में साथ दिखाई दिए. जबकि इससे पहले एक इंटरव्यू के दौरान गहलोत ने कहा था कि पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट (Sachin Pilot) को उनके बेटे वैभव गहलोत की हार की जिम्मेदारी लेनी चाहिए. ये इफ्तार पार्टी सचिन पायलट ने दी थी. इस दौरान अशोक गहलोत और पायलट साथ बैठे. कार्यक्रम से पहले दोनों नेताओं ने बाकी मंत्रियों से भी चर्चा की. हालांकि जो तस्वीरें सामने आईं उनमें सीएम गहलोत के बयान का कोई प्रभाव नजर नहीं आया. 

ये भी पढ़ें: महाराष्ट्र से लेकर कर्नाटक- गुजरात और राजस्थान तक कांग्रेस में बगावत और नाराजगी, राधाकृष्ण पाटिल मिले देवेंद्र फडणवीस से


राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा था, 'पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट को उनके बेटे वैभव गहलोत की हार की जिम्मेदारी लेनी चाहिए. गौरतलब है कि दिसंबर के महीने में सरकार बनाने वाली कांग्रेस लोकसभा चुनाव में राज्य में एक भी सीट नहीं जीत पाई है.' एबीपी न्यूज को दिए एक इंटरव्यू में अशोक गहलोत ने कहा था, 'सचिन पायलट ने कहा था कि हम बड़े बहुमत से जीतेंगे. उन्होंने कहा कि जोधपुर लोकसभा सीट में हमारे 6 विधायक जीते हैं. हमने वहां अच्छा प्रचार किया है...अब सचिन पायलट को कम से कम जोधपुर में हुई हार की जिम्मेदारी लेनी चाहिए'.

bvakakgg

ये भी पढ़ें: लोकसभा चुनाव में बेटे की हार पर बोले अशोक गहलोत, सचिन पायलट को जिम्मेदारी लेनी चाहिए

टिप्पणियां

गौरतलब है कि अशोक गहलोत के बेटे वैभव जोधपुर सीट से 2.7 लाख वोटों से हारे हैं. उनको बीजेपी के गजेंद्र सिंह शेखावत ने हराया है. अपने बेटे को जिताने के लिए अशोक गहलोत यहां पर जमकर प्रचार किया था. उनके विरोधी कहते हैं कि इस सीट से बाहर निकलकर अशोक गहलोत कहीं और प्रचार करने नहीं गए और ज्यादातर रैलियां इसी सीट पर की हैं.

गहलोत सरकार के मंत्री ने दिया इस्तीफा?​ 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement