NDTV Khabar

27 साल और 52 ट्रांसफर: तबादले के बाद बोले IAS अशोक खेमका- पैरों तले रौंदोगे, शौक से कई बार सहा है एक और सही

कांग्रेस नेता सोनिया गांधी के दामाद राबर्ट वाड्रा के जमीन सौदे के मामले को लेकर चर्चा में आये हरियाणा कैडर के वरिष्ठ आईएएस अधिकारी अशोक खेमका का एक बार फिर से तबादला कर दिया गया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
27 साल और 52 ट्रांसफर: तबादले के बाद बोले IAS अशोक खेमका- पैरों तले रौंदोगे, शौक से कई बार सहा है एक और सही

अशोक खेमका (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

कांग्रेस नेता सोनिया गांधी के दामाद राबर्ट वाड्रा के जमीन सौदे के मामले को लेकर चर्चा में आये हरियाणा कैडर के वरिष्ठ आईएएस अधिकारी अशोक खेमका का एक बार फिर से तबादला कर दिया गया है. हरियाणा सरकार ने 1991 बैच के वरिष्ठ नौकरशाह अशोक खेमका समेत नौ आईएएस अधिकारियों के तत्काल प्रभाव से स्थानांतरण और तैनाती आदेश रविवार को जारी किये. खेल और युवा मामलों के विभाग के प्रधान सचिव अशोक खेमका को विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग के प्रधान सचिव के रूप में नियुक्त किया गया है, जहां उन्हें पहले भी तैनात किया गया था. लगभग 15 महीने पहले खेल और युवा मामलों के विभाग में तैनात किये गये आईएएस अधिकारी खेमका का अब तक उनके कैरियर में 50 बार से अधिक बार तबादला हो चुका है. यानी अशोक खेमका का यह 52वां तबादला है. इस तबादले के बाद अशोक खेमका ने ट्विटर पर अपनी बात रखी. 

देश में धर्म के नाम पर बंटवारे के खेल पर खफा हुए चर्चित आईएएस अशोक खेमका, बोले- ऐसे लोग धार्मिक नहीं


आईएएस अधिकारी अशोक खेमका ने मंगलवार को टि्वटर पर अपने तबादले को लेकर लोगों के सवालों के जवाब दिये. उन्होंने ट्वीट करते हुये कहा,‘किसके हितों की रक्षा करूं? तुम्हारा या उनका जिनका आप प्रतिनिधित्व का दावा करते हैं? दम्भ है हमें पैरों तले रौंदोगे. शौक से, कई बार सहा है, एक बार और सही.'    

मोदी को ममता, ममता को मोदी से बैलेंस के लिए नहीं है IPS की आत्महत्या का मामला

गौरतलब है कि 1991 बैच के इस आईएएस अधिकारी का ट्वीट उनके रविवार को हुये तबादले के दो दिन बाद आया है. उनका स्थानातंरण नौ अन्य अधिकारियों के साथ किया गया था. माना जाता है कि उनके अब तक के कैरियर में 50 से अधिक बार तबादला हो चुका है. 

ईमानदार अफ़सरों के लिए व्यवस्था में गुंजाइश कहां? रवीश कुमार के साथ प्राइम टाइम

अशोक खेमका 1991 बैच के हरियाणा काडर के  आईएएस हैं. 24 साल में 51 बार ट्रांसफर हो चुका है. गुरुग्राम में सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा की जमीन सौदे से जुड़ी जांच के कारण अशोक खेमका सुर्खियों में रहे. कहा जाता है कि अशोक खेमका जिस भी विभाग में जाते हैं, वहीं घपले-घोटाले उजागर करते हैं, जिसके चलते अक्सर उन्हें ट्रांसफर झेलना पड़ता है. भूपिंदर सिंह हुड्डा के शासनकाल में बतौर व्हिसिल ब्लोवरकई घोटालों का खुलासा कर चुके हैं. अशोक खेमका पश्चिम बंगाल के कोलकाता में पैदा हुए. फिर आईआईटी खड़गपुर से 1988 में बीटेक किए और बाद में कंप्यूटर साइंस में पीएचडी किए. बिजनेस एडिमिनिस्ट्रेशन में उनके पास एमबीए की डिग्री भी है.नवंबर 2014 मेंतत्‍कालीन हुड्डा सरकार ने रॉबर्ट वाड्रा और डीएलएफ के लैंड डील से जुड़े खुलासे के बाद खेमका का तबादला परिवहन विभाग में कर दिया था. जिस पर सवाल उठे थे.  

टिप्पणियां

प्राइम टाइम : नेताओं के ग़ैरज़रूरी दबाव से अफ़सरशाही त्रस्त 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement