NDTV Khabar

'पाप से कैंसर होता है' कहने वाले असम के मंत्री हिमंत विश्व शर्मा ने माफी मांगी

असम के मंत्री हिमंत विश्व शर्मा ने उस बयान के लिए माफी मांग ली है, जिसमें उन्होंने कहा था कि पाप की वजह से लोगों के कैंसर होते हैं और यह ईश्वर का न्याय है.

500 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
'पाप से कैंसर होता है' कहने वाले असम के मंत्री हिमंत विश्व शर्मा ने माफी मांगी

हिमंत विश्व शर्मा (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. 'पाप से कैंसर होता है' कहने वाले हिमंत विश्व शर्मा ने माफी मांगी
  2. पी चिदंबरम ने इनके बयान पर बोला था हमला.
  3. कैंसर वाले बयान की चौतरफा हो रही थी निंदा.
गुवाहाटी: असम के मंत्री हिमंत विश्व शर्मा ने उस बयान के लिए माफी मांग ली है, जिसमें उन्होंने कहा था कि पाप की वजह से लोगों के कैंसर होते हैं और यह ईश्वर का न्याय है. बता दें कि इस बयान के बाद हिमंत विश्व शर्मा की चौतरफा आलोचना हुई थी. हालांकि, गुरुवार को उन्होंने कहा कि उनके कथन को संदर्भ से हटकर पेश किया गया और अगर किसी की भावनाएं आहत हुई हों तो वह क्षमा चाहते हैं.

शर्मा ने स्पष्टीकरण देते हुए कहा कि वो केवल हिंदुत्व में कर्म सिंद्धांत का जिक्र कर रहे थे. उन्होंने अपने एक बयान में कहा कि 'दैवीय न्याय और कर्म के सिद्धांत पर मेरे भाषण को संदर्भ से हटकर पेश किया जा रहा है. सनसनीखेज बनाने के चक्कर में कोई भी मेरे पूरे भाषण की मुख्य बात और इरादे पर विचार नहीं कर रहा है.' उन्होंने कहा कि यह बात गरीब छात्रों की मदद के संदर्भ में की गई और शिक्षकों से आग्रह किया गया था वे गरीब छात्रों की उपेक्षा नहीं करें.

यह भी पढ़ें - असम के मंत्री का विवादित बयान, 'पाप की वजह से लोगों को कैंसर होते हैं, यह ईश्वर का न्याय है'

आगे उन्होंने कहा कि यह जिला शिक्षा अधिकारियों के लिए भी संदेश था कि वह शिक्षकों को परेशान नहीं करें. परंतु राष्ट्रीय मीडिया, स्थानीय मीडिया के एक वर्ग और कांग्रेस के कुछ लोग इस बयान को लेकर खेल रहे हैं. मुझे यह दुख के साथ कहना पड़ रहा है कि कैंसर मरीजों और उनके रिश्तेदारों में गुस्सा है.' बता दें कि शर्मा के बयान पर निशाना साधते हुए बुधवार को चिदंबरम ने ट्वीट कर कहा था कि 'पार्टी बदलने वाला व्यक्ति ऐसा ही करता है' बता दें कि सरमा पहले कांग्रेस में थे जो अगस्त 2015 में भाजपा में शामिल हो गए थे.

यह भी पढ़ें - चिदंबरम ने 'कैंसर को दैवीय इंसाफ' बताने वाले असम के मंत्री की निंदा की, कहा-पार्टी बदलने से भी यही होता है

चिदंबरम के बयान का जवाब देते हुए शर्मा ने कहा कि 'महाशय, कृपया तथ्यों का तोड़-मरोड़ नहीं कीजिए. मैंने सिर्फ यही कहा कि हिंदुत्व कर्म सिद्धांत में विश्वास करता है और लोगों की पीड़ाएं उसके पूर्व जीवन के कर्म से जुड़ी होती हैं. क्या आप इसमें विश्वास नहीं करते? निश्चित तौर पर आपकी पार्टी में मुझे नहीं पता कि हिंदू दर्शन पर चर्चा होती है अथवा नहीं.' उन्होंने कहा, 'खैर, महाशय आप कांग्रेस में फिर से कब शामिल हुए थे? जहां तक मुझे पता है आप तमिल मनीला कांग्रेस में थे. विशिष्ट लोग चिट फंड से लेकर आईएनएक्समीडिया तक की गतिविधियों में संलिप्त हो सकते हैं, पार्टी भी बदल सकते हैं.'

VIDEO: इंटरनेशनल एजेंडा : अरुणाचल में दलाई लामा, आग-बबूला हुआ चीन (इनपुट भाषा से)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement