चुनाव में नरेंद्र मोदी की ओर से सोनिया गांधी के विदेशी मूल का मुद्दा उठाने पर अटल बिहारी वाजपेयी ने कही थी ये बड़ी बात

अटल बिहारी वाजपेयी राजनीति में बहस के दौरान व्यक्तिगत हमले पर भी चिंता जताई. उन्होंने कहा कि जबसे मैं चुनाव लड़ रहा हूं मेरे साथ 1942 की एक घटना जुड़ी हुई है.

चुनाव में नरेंद्र मोदी की ओर से सोनिया गांधी के विदेशी मूल का मुद्दा उठाने पर अटल बिहारी वाजपेयी ने कही थी ये बड़ी बात

अटल बिहारी वाजपेयी का 16 अगस्त को दिल्ली के एम्स में निधन हो गया था.

नई दिल्ली:

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी  की यादें ही अब बाकी रह जाएंगी. राजनीति में 50 साल से ज्यादा समय बिताने के बाद वाजपेयी अब 'अटल यात्रा' पर निकल गये हैं. 2005 में राजनीति से संन्यास ले चुके वाजपेयी से जब एक बार एनडीटीवी ने उनसे पूछा कि क्या आप के मन में चौथी बार पीएम बनने की इच्छा थी तो उन्होंने इसको बहुत तवज्जो नहीं दिया. लेकिन वाजपेयी ने उसी इंटरव्यू में आशंका जताई थी कि जनतंत्र अब धनतंत्र में बदल रहा है. अब लगता है कि जिसके पास पैसा है वही चुनाव जीत चुका है. साथ में उन्होंने यह भी कहा कि चुनाव में पैसा देने वाले अभी अपनी नीतियों पर अभी ज्यादा जोर नहीं दे रहे हैं. लेकिन पूंजी का प्रयोग बढ़ रहा है जो आगे चलकर देश के अभिशाप साबित होगा.

इस गाड़ी पर निकलेगी अटल बिहारी वाजपेयी की अंतिम यात्रा, देखें PHOTOS

उन्होंने राजनीति में बहस के दौरान व्यक्तिगत हमले पर भी चिंता जताई. उन्होंने कहा कि जबसे मैं चुनाव लड़ रहा हूं मेरे साथ 1942 की एक घटना जुड़ी हुई है. वाजपेयी ने कहा कि जबकि उन्होंने ऐसी कोई भूमिका नहीं थी जिसके लिये मुझे शर्मिंदा होने पड़े. जब उनसे पूछा गया कि चुनाव में सोनिया गांधी के विदेशी मूल का मुद्दा भी उठाया गया, नरेंद्र मोदी और विनय कटियार जैसे नेता बार-बार उठा रहे हैं. तो वाजपेयी का जवाब था कि ऐसा नहीं करना चाहिये था ये बहुत खेदजनक है. उन्होंने कहा कि यह मुद्दा बन गया है और यह सोनिया जी के साथ जुड़ गया है दुर्भाग्यपूर्ण है.

अटल जी के अंतिम दर्शन को उमड़ी समर्थकों की भीड़, इतनी किमी लगी लंबी लाइन

NDTV Exclusive: देखें अटल जी का 14 साल पुराना दुर्लभ इंटरव्यू​

गौरतलब है कि पूर्व प्रधानमंत्री का 16 अगस्त की शाम 5 बजकर 5 मिनट पर दिल्ली के एम्स अस्पताल में निधन हो गया है. आज उनका दिल्ली में अंतिम संस्कार शाम 4 बजे के करीब किया जायेगा. करीब 1 बजे अटल जी की अंतिम यात्रा दिल्ली मुख्यालय से राजघाट के पीछे बने स्मृति वन के लिये जाएगी. वाजपेयी की अंतिम यात्रा करीब 10 किलोमीटर की दूरी तय करेगी. इस दौरान कई बड़े नेता और भारी जनसमूह साथ रहेगा.

अटल बिहारी वाजपेयी से जुड़ीं अन्य खबरें :

माधुरी दीक्षित ने अटल बिहारी वाजपेयी से यूं छीना था गुलाब जामुन, कुछ ऐसा था मजेदार किस्सा

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

तस्‍वीरों में देखें, अटल बिहारी वाजपेयी की अंतिम यात्रा, बीजेपी मुख्‍यालय पहुंचा पार्थिव शरीर