भारत में हमारे नागरिकों पर हमले को मानवाधिकार परिषद में उठाएंगे : अफ्रीकी देशों के मिशन प्रमुख

भारत में हमारे नागरिकों पर हमले को मानवाधिकार परिषद में उठाएंगे : अफ्रीकी देशों के मिशन प्रमुख

अफ्रीकी छात्रों पर पिछले हफ्ते भीड़ द्वारा हमला किया गया

खास बातें

  • अफ्रीकी छात्रों पर हुए हमले को लेकर मिशन प्रमुखों ने बयान दिया
  • अफ्रीकी देशों के मिशन प्रमुखों ने भारत सरकार की निंदा की
  • प्रमुखों ने कहा कि भारत सरकार ने इस मामले में उचित कदम नहीं उठाए
नई दिल्ली:

भारत में अफ्रीकियों पर हमलों के मामले पर बुलाई गई एक विशेष बैठक के बाद अफ्रीकी देशों के मिशन प्रमुखों ने साफ कहा कि अधिकारियों के तरफ से इसकी समुचित निंदा नहीं की गई. पिछले हमले और ग्रेटर नोएडा के हमलों की समीक्षा करने के बाद वह इस नतीजे पर पहुंचे कि ऐसे हमले रोकने के लिए समुचित और असर दिखाने वाले कदम भी नहीं उठाए गए. इस बैठक के बाद एक आवाज़ में मिशन प्रमुखों ने कहा कि ये हमले साफ तौर पर नस्लीय हैं.

एक बयान जारी कर उन्होंने यह भी उम्मीद जताई कि इस घटना की स्थानीय और राष्ट्रीय स्तर पर कड़ी निंदा हो और आरोपियों के खिलाफ तेज़ी से कानूनी कार्यवाई की जाए. इन मिशन प्रमुखों ने मसले को Human Rights Council  में उठाने की बात कही है. ये काउंसिल संयुक्त राष्ट्र की संस्था है. पूरी घटना की विस्तृत रिपोर्ट African Union Commission में देने की बात कही गई है.

अफ्रीकी राजदूतों ने इस घटना को 'रंगभेद और विदेशियों से घृणा' करने वाला कृत्य बताया है और कहा है कि इस मामले में भारत सरकार द्वारा किसी भी तरह का 'कड़ा और संतुष्ट' करने वाले कदम नहीं उठाया गया है.

अफ्रीकन मिशन्स के प्रमुखों द्वारा जारी बयान में कहा गया है कि 'अफ्रीकियों के खिलाफ निंदनीय वारदातें जिन्हें अभी तक सुलझाया नहीं गया है और न ही भारतीय प्रशासन द्वारा इसका पर्याप्त तरह से निराकरण किया गया है.' याद दिला दें कि हाल ही में ग्रेटर नोएडा में नाइजेरियाई छात्रों पर दो बार हमले किए गए थे. इस इलाके में कई अफ्रीकी छात्र रहते हैं.

ये हमले तब हुए जब पिछले सोमवार एक 12वीं के छात्र की मौत को लेकर प्रदर्शन हो रहा था. ऐसा बताया गया कि छात्र की मौत अधिक मात्रा में ड्रग्स लेने से हुई और प्रदर्शनकारियों ने आरोप लगाया गया कि नायजेरियाई ड्रग्स की सप्लाई करते हैं. विरोध के दौरान प्रदर्शनकारियों ने एक नज़दीकी दुकान पर तीन अफ्रीकियों को देखा जिन पर लकड़ी और हथियारों से हमला बोल दिया गया. पुलिस के आने के बाद ही हिंसा थमी और मामले में पांच संदिग्धों को गिरफ्तार किया गया.

इसके बाद उसी शाम हुए एक और हमले में एक नायजेरियाई छात्र को स्टील के डस्टबिन से मारा गया और एक मॉल के अंदर जुटी भीड़ ने उस पर लात-घूंसे बरसाए. इस हमले को मोबाइल फोन पर शूट किया गया जो बाद में सोशल मीडिया पर वायरल हुआ और मामला सामने आया.

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com