दांवपेंच : इस्‍तीफे के बाद मायावती क्‍या इस जगह से चुनाव लड़ने की कर रहीं तैयारी?

उनके इस्‍तीफे के साथ ही सियासी गलियारे में उनके लोकसभा चुनाव में उतरने की भी चर्चा चल रही है.

दांवपेंच : इस्‍तीफे के बाद मायावती क्‍या इस जगह से चुनाव लड़ने की कर रहीं तैयारी?

मायावती ने मंगलवार को राज्‍यसभा से इस्‍तीफा देने की घोषणा की (फाइल फोटो).

खास बातें

  • मंगलवार को मायावती ने दिया इस्‍तीफा
  • सहारनपुर मुद्दे को उठाने के दौरान दिया इस्‍तीफा
  • इसे मायावती के बड़े सियासी दांव के रूप में देखा जा रहा

मायावती के राज्‍यसभा इस्‍तीफे को बड़े सियासी दांव के रूप में देखा जा रहा है. राजनीतिक जानकारों के मुताबिक लगातार शिकस्‍त का सामना कर रहीं दलित नेत्री का यह कदम सोची समझी रणनीति के तहत दिया है. दरअसल उनके इस्‍तीफे के साथ ही सियासी गलियारे में उनके लोकसभा चुनाव में उतरने की भी चर्चा चल रही है. सूत्रों के मुताबिक वह यूपी की फूलपुर सीट से उपचुनाव में उतर सकती हैं. दरअसल अभी इस सीट से उपमुख्‍यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य लोकसभा सदस्‍य हैं. अब राज्‍य में उपमुख्‍यमंत्री बने रहने के लिए उन्‍हें विधानसभा या विधान परिषद की सदस्‍यता हासिल करनी होगी. ऐसे में केशव प्रसाद मौर्य के इस्‍तीफा देने की स्थिति में यह सीट खाली हो जाएगी. इस लिहाज से होने वाले उपचुनाव में वह अपनी किस्‍मत आजमा सकती हैं.

यह भी पढ़ें :
राज्यसभा से बसपा सुप्रीमो मायावती के इस्तीफे के मायने....
मायावती चाहें तो हम बिहार से उन्हें राज्यसभा भेजेंगे : लालू प्रसाद यादव

बीएसपी के लिए अहम सीट  
दरअसल फूलपुर सीट का चुनाव भी बीएसपी के लिए खासी अहमियत रखता है. बीएसपी के संस्‍थापक कांशीराम 1996 में यहां से चुनाव लड़ चुके हैं. उस दौरान सपा के जंग बहादुर पटेल ने लगभग 20 हजार वोटों से हरा दिया था. यह सीट बीएसपी के लिए इसलिए भी अहम है क्‍योंकि इस सीट पर दलितों, अल्‍पसंख्‍यकों और ओबीसी तबके के वोट का बड़ा आधार है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

इस बात की भी चर्चा चल रही है कि अगर वह चुनाव लड़ने का फैसला करती हैं तो वह महागठबंधन की साझा उम्‍मीदवार भी हो सकती हैं. दरअसल माना जा रहा है कि सपा, बसपा और कांग्रेस मिलकर इस सीट से लोकसभा उपचुनाव लड़ सकते हैं. इसे 2019 के चुनावों की पृष्‍ठभूमि में महागठबंधन की तैयारी के रूप में भी माना जा सकता है.

वीडियो