Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

CAA Protest: हिंसा में मारे गए मुस्लिम युवकों के घर नहीं गए मंत्री, सवाल पूछा तो कहा- दंगा करने वालों के घर क्यों जाना चाहिए

उसी कस्बे में शुक्रवार को हुई हिंसा में मारे गए लोगों में IAS परीक्षा की तैयारी कर रहा 20-वर्षीय सुलेमान तथा 25-वर्षीय अनस शामिल थे.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
लखनऊ:

नागरिकता संशोधन कानून को लेकर पिछले शुक्रवार को बिजनौर में हुई हिंसा से प्रभावित लोगों से मुलाकात करने पहुंचे उत्तर प्रदेश के मंत्री ने एक नया विवाद खड़ा कर दिया, जब उन्होंने हिंसा में मारे गए दो मुस्लिम युवकों के परिजनों से मिलने से इंकार कर दिया. मंत्री कपिल देव अग्रवाल बिजनौर जिले के नहटौर कस्बे में हुई हिंसा में ज़ख्मी हुए ओमराज सैनी के परिवार से मुलाकात करने के लिए गए थे, और दोनों मौतें भी इसी कस्बे में हुई थीं.

ओमराज सैनी के परिवार से मिलने के बाद बिजनौर में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में मंत्री कपिल देव अग्रवाल से पूछा गया, "सरकार कहती है, 'सबका साथ, सबका विकास', लेकिन नहटौर में आप ओमराज सैनी के घर गए... (कांग्रेस नेता) प्रियंका गांधी (वाड्रा) भी उनके परिवार से मिलने गई थीं, लेकिन वह उन परिवारों के पास भी गई थीं, जिनमें मौतें हुईं, और एक की मौत पुलिस की गोली से हुई... इस तरह 'सबका साथ, सबका विकास' कैसे होगा...?"

रवीश कुमार का ब्लॉग: यूपी से पुलिस बर्बरता की दहलाने वाली रिपोर्ट


लेकिन मंत्री ने किसी भी तरह का भेदभाव करने के आरोपों का खंडन करते हुए कहा, "मुझे दंगा करने वालों के घरों में क्यों जाना चाहिए... मेरी बात सुनिए, जो दंगा कर रहे हैं, जो भावनाओं को भड़काना चाहते हैं, वे समाज का हिस्सा कैसे हो सकते हैं... मुझे वहां क्यों जाना चाहिए... यह हिन्दू-मुस्लिम के बारे में नहीं है, लेकिन मुझे दंगाइयों के पास क्यों जाना चाहिए..."

ओमराज के परिवार का दावा है कि वह किसी भीड़ का हिस्सा नहीं था, और वह खेतों से लौटते वक्त गोली का शिकार हुआ, जो कथित रूप से किसी दंगाई ने गैरकानूनी हथियार से चलाई थी.

CAA के खिलाफ प्रदर्शन: पुलिस ने कबूला, बिजनौर में पुलिस की गोली से ही मरा IAS की तैयारी कर रहा युवक

उसी कस्बे में शुक्रवार को हुई हिंसा में मारे गए लोगों में IAS परीक्षा की तैयारी कर रहा 20-वर्षीय सुलेमान तथा 25-वर्षीय अनस शामिल थे. शुरुआती इंकार के बाद आखिरकार पुलिस ने कबूल किया था कि सुलेमान की मौत पुलिस की गोली से हुई, और वह उन कथित दंगाइयों में शामिल था, जिन्होंने एक पुलिस वाले पर देसी तमंचे से गोलियां चलाईं, और फिर आत्मरक्षा में पुलिस द्वारा चलाई गोली का शिकार हो गया.

टिप्पणियां

CAA Protest: 15 लाख की भरपाई के नोटिस जारी करने के बाद अब हिंसा में शामिल उपद्रवियों के पोस्टर चौराहों पर लगाए

सुलेमान के परिवार ने इस आरोप का खंडन किया है, और कहा है कि सुलेमान का विरोध प्रदर्शन से कोई लेना-देना नहीं था.



दिल्ली चुनाव (Elections 2020) के LIVE चुनाव परिणाम, यानी Delhi Election Results 2020 (दिल्ली इलेक्शन रिजल्ट 2020) तथा Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों से जगह बदलने के लिए सुप्रीम कोर्ट के मध्यस्थ करेंगे बातचीत

Advertisement