फर्जी TRP मामले में अब तेज होगी जांच, ED ने दर्ज किया मनी लॉन्ड्रिंग केस

प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने उस कथित फर्जी टीआरपी घोटाले (Fake TV Ratings Scam) के संबंध में धन शोधन का एक मामला दर्ज किया है, जिसकी मुंबई पुलिस (Mumbai Police) जांच कर रही है.

फर्जी TRP मामले में अब तेज होगी जांच, ED ने दर्ज किया मनी लॉन्ड्रिंग केस

फर्जी TRP मामले में मुंबई पुलिस भी जांच कर रही है. (सांकेतिक तस्वीर)

खास बातें

  • फर्जी TRP घोटाले में ED ने दर्ज किया केस
  • मुंबई पुलिस भी कर रही घोटाले की जांच
  • मामले में कई लोगों की हो चुकी है गिरफ्तारी
मुंबई:

प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने उस कथित फर्जी टीआरपी घोटाले (Fake TV Ratings Scam) के संबंध में धन शोधन का एक मामला दर्ज किया है, जिसकी मुंबई पुलिस (Mumbai Police) जांच कर रही है. आधिकारिक सूत्रों ने शुक्रवार को बताया कि केन्द्रीय जांच एजेंसी ने प्रवर्तन मामला सूचना रिपोर्ट (ECRR) दाखिल की है, जो पुलिस प्राथमिकी के समान है. ED ने अक्टूबर में दाखिल की गई मुंबई पुलिस की प्राथमिकी का अध्ययन करने के बाद यह मामला दर्ज किया है.

सूत्रों ने कहा कि ED जल्द ही पुलिस प्राथमिकी में नामजद समाचार चैनलों के अधिकारियों और अन्य लोगों को तलब करके उनसे पूछताछ करेगी और उनके बयान दर्ज करेगी. दरअसल, ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल (BARC) ने हंसा रिसर्च ग्रुप के जरिए एक शिकायत दाखिल की थी, जिसमें आरोप लगाया गया था कि कुछ टीवी चैनल टेलीविजन रेटिंग प्वाइंट (TRP) से छेड़छाड़ कर रहे हैं.

रेटिंग मामले में रिपब्लिक टीवी का डिस्‍ट्रीब्‍यूशन हेड मुंबई में गिरफ्तार

BARC की इस शिकायत के बाद फर्जी टीआरपी घोटाला सामने आया था. पुलिस ने आरोप लगाया था कि कुछ चैनल टीआरपी बढ़वाने के लिए रिश्वत दे रहे हैं ताकि उनकी विज्ञापन से होने वाली कमाई बढ़ सके. आरोप है कि जिन घरों में टीआरपी को मापने वाले मीटर लगे हुए थे, उन्हें कोई एक चैनल खोले रखने के लिए रिश्वत दी जा रही थी. टीवी चैनलों के लिये टीआरपी काफी महत्वपूर्ण है, क्योंकि उनकी विज्ञापन से होने वाली कमाई इसी पर निर्भर करती है.

Newsbeep

VIDEO: फर्जी TRP केस के बाद BARC ने 3 महीने के लिए रोकी रेटिंग

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com




(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)