दिल्ली में बढ़ते कोरोना के मामले, केजरीवाल सरकार की मदद को आगे आया केंद्र

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने दिल्ली सरकार (Delhi Govt) को आश्वस्त किया है कि वीकेंड पर डॉक्टर और पैरामेडिकल स्टाफ की टीम शहर के अस्पतालों में कोरोना मरीजों का इलाज करेगी.

दिल्ली में बढ़ते कोरोना के मामले, केजरीवाल सरकार की मदद को आगे आया केंद्र

दिल्ली में कोरोना के एक्टिव मामले 40,000 पार हैं. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

दिल्ली सरकार (Delhi Govt) ने 45 से अधिक डॉक्टरों और 160 पैरामेडिकल की टीम के दिल्ली पहुंचने पर राहत की सांस ली है. समूची टीम की उन केंद्रों में प्रतिनियुक्ति की गई, जहां मरीज कोरोनावायरस (Coronavirus) का इलाज करवा रहे हैं. गृह मंत्रालय ने सभी डॉक्टरों को एयरपोर्ट के नजदीक स्थित DRDO अस्पताल और छतरपुर स्थित कोविड सेंटर में तैनाती के निर्देश दिए हैं. मंत्रालय ने दिल्ली सरकार को आश्वस्त किया है कि वीकेंड पर डॉक्टर और पैरामेडिकल स्टाफ की टीम शहर के अस्पतालों में कोरोना मरीजों का इलाज करेगी.

दिल्ली के इन कोविड सेंटर पर वेंटिलेटर की संख्या भी बढ़ाई जाएगी. यह वेंटिलेटर बेंगलुरु से मंगाए जा रहे हैं. एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि बेंगलुरु से भारत इलेक्ट्रोनिक्स लिमिटेड ने 250 वेंटिलेटर भेजे हैं. सभी इस वीकेंड तक दिल्ली पहुंच जाएंगे. उन्होंने बताया कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने DRDO स्थित कोविड सेंटर के लिए 35 BIPAP मशीनें भी भिजवाई हैं.

भारत में COVID-19 के कुल केस 89 लाख पार, पिछले 24 घंटे में दर्ज हुए 38,617 केस, 474 की मौत

केंद्र सरकार ने दिल्ली में कोरोना टेस्टिंग बढ़ाने का भी फैसला किया है. अगले हफ्ते से 10 मोबाइल वैन, जिनकी क्षमता 20,000 टेस्ट होगी, दिल्ली में COVID-19 टेस्ट करेंगी. एक वरिष्ठ अधिकारी ने NDTV से बातचीत में बताया कि ICMR की मदद से अब हम प्रतिदिन 60,000 से भी ज्यादा RT-PCR टेस्ट करने में सक्षम होंगे. ICMR को इसके लिए निर्देश दे दिए गए हैं.

दिल्ली में कोरोनावायरस संक्रमण की तीसरी वेव, 17 दिन में एक लाख से अधिक पॉजिटिव केस

उनके मुताबिक, इस माह के अंत तक सभी व्यवस्थाएं पूर्ण रूप से शुरू हो जाएंगी, हालांकि केंद्र ने आज (बुधवार) से टेस्टिंग की क्षमता को 10,000 तक बढ़ाया है. AIIMS में पांच RT-PCR लैब 24 घंटे काम कर रही हैं. ICMR की मदद से दिल्ली की लैब्स में स्टाफ बढ़ाया गया है. उनका मकसद है कि नवंबर अंत तक हर दिन 60,000 टेस्ट किए जा सकें. भीड़भाड़ वाले इलाकों में बढ़ती महामारी से निपटने के लिए भारतीय रेलवे शकूर बस्ती रेलवे स्टेशन पर 800 बेड के साथ ट्रेन के कोच उपलब्ध करवा रहा है. इन कोचों में भी भरपूर स्टाफ मौजूद है. दिल्ली में पॉजिटिविटी रेट भी चिंता का विषय है. राजधानी में कोरोना मामलों की यह दर 14 फीसदी है, जबकि राष्ट्रीय स्तर पर यह 4 प्रतिशत के करीब है.


VIDEO: कोवैक्सीन पूरी तरह से भारतीय, शुरुआती ट्रायल में सुरक्षित पाई गई है : रणदीप गुलेरिया

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com