NDTV Khabar

हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग की एक परीक्षा में पूछे गए सवाल पर हुआ बवाल

हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग( एचएसएससी ) की एक परीक्षा में अप शकुन को लेकर पूछे गए एक सवाल पर विवाद छिड़ गया है. यह परीक्षा जूनियर इंजीनियर के चयन के लिए आयोजित की गई थी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग की एक परीक्षा में पूछे गए सवाल पर हुआ बवाल

(प्रतीकात्मक तस्वीर)

चंडीगढ़: हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग( एचएसएससी ) की एक परीक्षा में अप शकुन को लेकर पूछे गए एक सवाल पर विवाद छिड़ गया है. यह परीक्षा जूनियर इंजीनियर के चयन के लिए आयोजित की गई थी. विपक्षी कांग्रेस पार्टी ने कहा है कि वह इस संबंध में पुलिस में शिकायत दर्ज कराएगी. 10 अप्रैल को आयोजित हुई परीक्षा में एक सवाल अपशकुन के संबंध में पूछा गया था. सवाल था ‘इनमें से हरियाणा में किसे अपशकुन नहीं माना जाता है? इस सवाल के जवाब में चार विकल्प दिए गए थे - (1) खाली घड़ा (2) शवयात्रा (3) काला ब्रह्माण (4) ब्रह्माण लड़की.

यह भी पढ़ें : हरियाणा: HSSC में रुपये लेकर नौकरी देने वाले गिरोह को CM के खास स्क्वाड ने पकड़ा

इस मुद्दे को लेकर ब्रह्माण समुदाय ने राज्य के विभिन्न हिस्सों में विरोध प्रदर्शन किया है और एचएसएससी अध्यक्ष भारत भूषण भारती का पुतला भी जलाया. बाद में एचएसएससी ने इस मुद्दे पर खेद प्रकट करते हुए प्रश्न को वापस ले लिया. हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने कहा है कि इस संबंध में जांच करायी जाएगी कि किसने प्रश्न तय किए थे और इस प्रश्न को कैसे पारित कर दिया गया.

टिप्पणियां
VIDEO : प्राइम टाइम : भर्ती बोर्ड की जिम्मेदारी कौन तय करेगा?​

भाजपा के राज्य सभा के सांसद डीपी वत्स ने कहा कि उन लोगों को सख्त सजा दी जाएगी जो इसके जिम्मेदार हैं. पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता भूपिंद्र सिंह हुड्डा ने कहा, 'हम जल्द ही इस संबंध में पुलिस में शिकायत दर्ज कराने जा रहे हैं. यह छोटी गलती नहीं है, यह कुछ ऐसा है जिसे माफ नहीं किया जा सकता है. उन्होंने सिर्फ ब्रह्माण समुदाय का अपमान नहीं किया बल्कि वह अंधविश्वास को भी बढ़ावा दे रहे हैं.' कांग्रेस नेता कुलदीप शर्मा ने कहा कि यह स्तब्ध कर देने वाला है कि इंजीनियरों का चयन अंधविश्वास के स्तर पर हो रहा है न कि कुशलता के आधार पर. नौकरी के बदले कथित नकदी घोटाला का हवाला देते हुए हुड्डा ने भाजपा सरकार पर हमला करते हुए कहा, 'भर्ती प्रक्रिया में योग्यता और पारदर्शिता का दावा झूठा है. अगर कांग्रेस विधानसभा चुनाव के बाद राज्य में सत्ता में आती है तो हम उच्च न्यायालय के मौजूदा न्यायाधीश द्वारा इस सरकार द्वारा आयोजित कराई गई विभिन्न लिखित परीक्षाओं की जांच कराएंगे.' 

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement