सिंधु घाटी सभ्यता के पतन का कारण हो सकता है जलवायु परिवर्तन : स्टडी

भारतीय मूल के एक वैज्ञानिक द्वारा किए गए अध्ययन के अनुसार जलवायु परिवर्तन की वजह से मॉनसून के स्वरूप में बदलाव प्राचीन सिंधु घाटी सभ्यता के उदय और पतन...

सिंधु घाटी सभ्यता के पतन का कारण हो सकता है जलवायु परिवर्तन : स्टडी

प्रतीकात्मक तस्वीर

न्यूयॉर्क:

भारतीय मूल के एक वैज्ञानिक द्वारा किए गए अध्ययन के अनुसार जलवायु परिवर्तन की वजह से मॉनसून के स्वरूप में बदलाव प्राचीन सिंधु घाटी सभ्यता (Indus Valley Civilization) के उदय और पतन का कारण हो सकता है. अध्ययन में उत्तर भारत के 5,700 वर्ष के आंकड़ों का विश्लेषण किया गया.

पीएम मोदी ने लद्दाख यात्रा के दौरान सिंधु नदी के तट पर पूजा-अर्चना की

अमेरिका स्थित रोचेस्टर इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (आरआईटी) के निशांत मलिक ने अपने विश्लेषण में उत्तर भारत में प्राचीन काल में जलवायु के स्वरूप का अध्ययन करने के लिए एक नई गणितीय पद्धति का उपयोग किया.

‘चाओस: एन इंटरडिसीप्लिनरी जर्नल ऑफ नॉनलिनियर साइंस' में प्रकाशित अनुसंधान रिपोर्ट में कहा गया है कि दक्षिण एशिया में गुफाओं में जमा खनिज निक्षेप में विशेष रासायनिक अवस्थाओं की मौजूदगी का पता लगाकर वैज्ञानिक क्षेत्र में पिछले 5,700 साल तक की मॉनसून की बारिश का रिकॉर्ड बना सके.

Newsbeep

छत्तीसगढ़: युवाओं ने खोद निकाली सैकड़ों साल पुरानी 'बावली'

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


हालांकि मलिक ने कहा कि जलवायु को समझने के लिए विशिष्ट रूप से इस्तेमाल गणितीय पद्धतियों के साथ प्राचीन जलवायु का अध्ययन करना एक चुनौतीपूर्ण कार्य है. मलिक ने कहा कि सिंधु घाटी सभ्यता (Indus Valley Civilization) का पतन क्यों हुआ, इस बारे में अब तक अनेक मान्यताएं हैं. हालांकि उन्होंने कहा कि अब तक किसी गणितीय प्रणाली से यह काम नहीं किया गया.



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)