यूपी के CM योगी ने दिए निर्देश, 'कोविड-19 के टेस्‍ट की संख्‍या को लगातार बढ़ाया जाए'

मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने कहा कि कोरोना के संक्रमण के दृष्टिगत धार्मिक कार्यक्रमों का आयोजन घर में ही किया जाए. सार्वजनिक स्थानों पर कोई भी धार्मिक अथवा सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन नहीं किया जाए.

यूपी के CM योगी ने दिए निर्देश, 'कोविड-19 के टेस्‍ट की संख्‍या को लगातार बढ़ाया जाए'

यूपी में कोरोना केसों की संख्‍या डेढ़ लाख के पार पहुंच गई है

लखनऊ:

Coronavirus Pandemic: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने कोविड-19 की जांच (COVID-19 testing) में वृद्धि की कार्यवाही को निरन्तर जारी रखने का निर्देश दिए हैं. मुख्‍यमंत्री ने कहा कि यूपी में 75 से 80 हजार रैपिड एंटीजन जांच तथा 40 से 45 हजार आरटीपीसीआर जांच प्रतिदिन किए जाएं. सीएम मंगलवार को यहां एक उच्च स्तरीय बैठक में अनलॉक व्यवस्था की समीक्षा कर रहे थे.उन्होंने कहा कि कोविड-19 से सम्बन्धित पोर्टल को प्रतिदिन निरन्तर अपडेट किया जाए. उन्होंने कोविड-19 के दृष्टिगत राज्य विधान मण्डल के आगामी सत्र के दौरान विशेष सावधानी बरतने के निर्देश दिए हैं.

इस भिक्षुक ने कोविड-19 राहत कोष में दान किए 90 हजार रुपये

मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने कहा कि कोविड-19 के संक्रमण की श्रंखला को तोड़ने के लिए हर स्तर पर सावधानी जरूरी है. कोरोना के संक्रमण के दृष्टिगत धार्मिक कार्यक्रमों का आयोजन घर में ही किया जाए. सार्वजनिक स्थानों पर कोई भी धार्मिक अथवा सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन नहीं किया जाए.उन्होंने कहा कि बरेली,गोरखपुर, प्रयागराज तथा बस्ती जिलों पर विशेष ध्यान दिया जाए. जनपद लखनऊ तथा कानपुर नगर में कोविड-19 के मामलों को नियंत्रित करने तथा चिकित्सा व्यवस्था को सुदृढ़ करने के लिए प्रभावी कदम उठाए जाएं.

उन्‍होंने कहा कि एम्बुलेंस संचालन की कार्यवाही को और प्रभावी बनाया जाए तथा सभी जनपदों में एम्बुलेंस सेवाओं के 50 प्रतिशत वाहन कोविड-19 संक्रमितों के लिए उपयोग किए जाएं. प्रदेश के सभी जनपदों में कोविड-19 से संक्रमित व्यक्तियों के उपचार के लिए आवश्यकतानुसार आईसीयू बिस्तरों की उपलब्धता सुनिश्चित की जाए. मुख्‍यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में कोविड-19 के प्रोटोकॉल का पालन कराते हुए औद्योगिक गतिविधियों का संचालन पूरी क्षमता से कराया जाए. इस कार्य में कोई कठिनाई न आने पाए. उन्होंने कहा कि प्रदेश में उवर्रक की कोई दिक्कत नहीं है. किसानों को सुगमतापूर्वक खाद उपलब्ध हो, इसके लिए सभी जरूरी प्रबन्ध सुनिश्चित किए जाएं.उन्होंने कहा कि निर्माणाधीन सिंचाई परियोजनाओं तथा स्वच्छ पेयजल की उपलब्धता हेतु ‘हर घर जल' योजना के कार्यों को तेज किया जाए.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

कोरोना: क्या एहतियातों के बीच बच्चों को संक्रमण से बचाया जा सकता है?



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)