कर्नाटक : मंत्री पर कथित मनी लॉन्डरिंग के आरोप पर ईडी से जांच करवाने की मांग

दिल्ली और कर्नाटक में शिवकुमार से संबंधित कई संपत्तियों पर आयकर विभाग तलाशी और छापेमारी कर रहा है.

कर्नाटक :  मंत्री पर कथित मनी लॉन्डरिंग के आरोप पर ईडी से जांच करवाने की मांग

फाइल फोटो

खास बातें

  • मंत्री डीके शिवकुमार के खिलाफ शिकायत
  • मनी लॉन्डरिंग के आरोपों पर जांच की मांग
  • बुधवार को आयकर विभाग ने मारा था छापा
नई दिल्ली:

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) में कर्नाटक के मंत्री डीके शिवकुमार के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई गई है और उनके द्वारा कथित रूप से किए गए मनी लॉन्डरिंग की जांच की मांग की गई है. कल से दिल्ली और कर्नाटक में शिवकुमार से संबंधित कई संपत्तियों पर आयकर विभाग तलाशी और छापेमारी कर रहा है, इसी बीच यह शिकायत भी दर्ज की गई है. अधिकारियों का कहना है कि अब तक 11 करोड़ रूपये नगदी बरामद हुई है. शिकायतकर्ता गुरूप्रसाद ने कहा कि आयकर विभाग की जांच इकाई द्वारा जारी छापेमारी की पृष्ठभूमि में ईडी को भी जांच शुरू कर देनी चाहिए. आपको बता दें कि कर्नाटक के मंत्री डीके शिवकुमार के घर पर बुधवार की सुबह आयकर विभाग ने छापा मारा था. आयकर विभाग के अधिकारियों के मुताबिक- उनके दिल्ली और कर्नाटक स्थित 39 ठिकानों से करीब 9.5 करोड़ बरामद हुए थे. आयकर विभाग ने उनके रिसॉर्ट की भी तलाशी ली. इसी रिसॉर्ट में गुजरात से आए कांग्रेसी विधायक भी रुके हैं. वह अमीर मंत्रियों में शामिल हैं.  उन्हें कर्नाटक के मुख्यमंत्री की रेस में भी माना जा रहा है.

यह भी पढ़े :  बेंगलुरु में हुई छापेमारी डीके शिवकुमार तक सीमित, राज्यसभा चुनाव से इसका कोई संबंध नहीं : अरुण जेटली

डीके शिवकुमार 250 करोड़ के मालिक
कर्नाटक के ऊर्जा मंत्री डीके शिवकुमार ने विधानसभा चुनाव के हलफनामे में 250 करोड़ की संपत्ति घोषित की है. उनके भाई डीके सुरेश बेंगलुरु ग्रामीण सीट से सांसद हैं. यह रिसॉर्ट डीके सुरेश की संसदीय क्षेत्र के अंतर्गत ही आता है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

Video :  मंत्री के ठिकानों से करोड़ो मिले  
राज्यसभा चुनावों के मद्देनजर विधायकों को रिसॉर्ट में ठहराया गया
8 अगस्‍त को होने वाले राज्‍यसभा चुनावों के मद्देनजर इन विधायकों को इस रिसॉर्ट में लाया गया है. कांग्रेस के मुताबिक इन विधायकों को डराया-धमकाया जा रहा था और उनको अपने पाले में लाने के लिए बीजेपी 15 करोड़ रुपये का ऑफर दे रही थी. यह राज्‍यसभा चुनाव कांग्रेस के लिए इसलिए अहम है क्‍योंकि इसी सीट पर कांग्रेस अध्‍यक्ष सोनिया गांधी के राजनीतिक सलाहकार अहमद पटेल पांचवीं बार चुनाव लड़ने जा रहे हैं. अहमद पटेल ने छापेमारी के बारे में कहा कि ये 'रेड राज' है.

इनपुट : भाषा