NDTV Khabar

BHU में लाठीचार्ज:  राहुल ने भाजपा के 'बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ' अभियान पर साधा निशाना 

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय (बीएचयू) की छात्राओं पर पुलिस द्वारा लाठीचार्ज के लिए भाजपा की निंदा की. उन्होंने कटाक्ष करते हुए कहा कि यह 'बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ' का भाजपा वाला रूप है.

4.5K Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
BHU में लाठीचार्ज:  राहुल ने भाजपा के 'बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ' अभियान पर साधा निशाना 

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने बीएचयू में हुए लाठीचार्ज पर बीजेपी पर निशाना साधा.

खास बातें

  1. राहुल गांधी ने BHU में छात्राओं पर लाठीचार्ज की निंदा की
  2. राहुल ने ट्वीट किया, यह बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ' का भाजपा वर्जन
  3. BHU में शनिवार को प्रदर्शन कर रही छात्राओं पर पुलिस ने की थी लाठीचार्ज
नई दिल्ली: कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय (बीएचयू) की छात्राओं पर पुलिस द्वारा लाठीचार्ज के लिए भाजपा की निंदा की. उन्होंने कटाक्ष करते हुए कहा कि यह 'बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ' का भाजपा वाला रूप है. बीएचयू परिसर में कल रात छेड़छाड़ की कथित घटना के विरोध में आयोजित प्रदर्शन ने उग्र रूप ले लिया था जब पुलिस ने छात्राओं पर लाठीचार्ज किया. इससें महिलाओं सहित कई छात्र और दो पत्रकार घायल हुए.

यह भी पढ़ें : UN में सुषमा के भाषण पर राहुल गांधी ने कसा तंज, ट्वीट कर साधा निशाना कांग्रेस उपाध्यक्ष ने ट्वीट किया, 'बीएचयू में बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ का भाजपा वाला रूप.' उन्होंने इस ट्वीट के साथ वह वीडियो लिंक शेयर किया जिसमें छात्राओं ने परिसर में पुरुष पुलिसकर्मियों द्वारा उन्हें कथित रूप से पीटे जाने का आरोप लगाया. विरोध प्रदर्शन की शुरुआत उस घटना के बाद हुई जब कला संकाय की एक छात्रा अपने हॉस्टल लौट रही थी. उसी वक्त मोटरसाइकिल सवार तीन लोगों ने कथित तौर पर उसका उत्पीड़न किया.

यह भी पढ़ें : बीजेपी में कोई ये नहीं पूछता कि आपका पिता कौन है : हेमंत बिश्वा शर्मा

VIDEO: BHU में छात्र-छात्राओं पर लाठीचार्ज के बाद तनाव बरकरार

क्या है मामला
शिकायतकर्ता के अनुसार जब उसने उनके प्रयासों का प्रतिकार किया तो तीन लोगों ने उसके साथ गाली-गलौज की और उसके बाद भाग गए. महिला ने आरोप लगाया कि घटनास्थल से तकरीबन 100 मीटर की दूरी पर मौजूद सुरक्षा गार्डों ने उनलोगों को रोकने के लिए कुछ भी नहीं किया. उसने अपने वरिष्ठ छात्रों को इस बारे में बताने की जगह वार्डन को घटना की जानकारी दी. वार्डन ने इसपर उससे पूछा कि वह इतनी देर से हॉस्टल क्यों लौट रही थी. वार्डन के जवाब ने छात्रा के साथियों को नाराज कर दिया और वे गुरुवार की मध्यरात्रि को परिसर के मुख्य द्वार पर 'धरने' पर बैठ गए. 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement