कोरोना वायरस के सामुदायिक संक्रमण का दावा आधिकारिक नहीं : IMA

आईएमए को विश्वास है कि सार्वजनिक स्वास्थ्य अधिकारी और चिकित्सकों द्वारा कोरोनावायरस से लड़ने के लिए हर संभर प्रयास किए जा रहे हैं और हर तरह से इसे फैलने से रोकने की कोशिश की जा रही है. 

कोरोना वायरस के सामुदायिक संक्रमण का दावा आधिकारिक नहीं : IMA

आईएएम ने कोविड-19 के कम्युनिटी ट्रांसमिशन को लेकर एक बयान जारी किया है.

नई दिल्ली:

देशभर में फैले कोरोनावायरस (Coronavirus) को लेकर इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (IMA) के चेयरमैन डॉक्टर वीके मोंगा (Doctor VK Monga) द्वारा हाल ही में एक बयान जारी किया गया था. अपने इस बयान में उन्होंने कहा था कि ''कोरोनावायरस के मामले काफी तेजी से बढ़ रहे हैं. रोजाना कोरोना के 30,000 से अधिक मामले सामने आ रहे हैं और स्थिति काफी खराब है. उन्होंने कहा था कि अब कोरोनावायरस कम्युनिटी ट्रांसमिशन (Coronavirus Community Transmission) की स्टेज पर पहुंच गया है.'' 

इसके बाद अब सोमवार को आईएमए द्वारा एक बयान जारी किया गया है. अपने इस बयान में आईएमए ने यह स्पष्ट किया है कि कथित तौर पर कम्युनिटी ट्रांसमिशन पर दिया गया बयान आईएमए के हेड क्वाटर द्वारा जारी नहीं किया गया था बल्कि यह व्यक्ति की अपनी राय थी. 

ob4d25l
Newsbeep

अपने इस बयान में आईएमए ने स्पष्ट किया है कि क्राउडसोर्सिंग डेटा को प्रामाणिक डेटा के साथ बदला नहीं जा सकता है. आईएमए को विश्वास है कि सार्वजनिक स्वास्थ्य अधिकारी और चिकित्सकों द्वारा कोरोनावायरस से लड़ने के लिए हर संभर प्रयास किए जा रहे हैं और हर तरह से इसे फैलने से रोकने की कोशिश की जा रही है. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


आईएमए के मुताबिक, डेटा से पता चलता है कि महामारी मुख्य रूप से महानगरों में फैली हुई है और ग्रामीण इलाके काफी हद तक सुरक्षित हैं. गौरतलब है कि सोमवार सुबह तक देशभर में कोरोनावायरस के कुल मामलों की संख्या 11,18,043 पहुंच गई है. पिछले 24 घंटों में कोरोना के 40,425 नए मामले सामने आए हैं.