अब कोरोना वॉरियर्स को लेकर राहुल गांधी का सरकार पर वार - थाली बजाने, दीया जलाने से ज्यादा जरूरी है...

राहुल गांधी ने एनडीटीवी की खबर को शेयर करते हुए सरकार से सवाल पूछा है कि मोदी सरकार, कोरोना वॉरियर्स (Corona Warriors) का इतना अपमान क्यों?

अब कोरोना वॉरियर्स को लेकर राहुल गांधी का सरकार पर वार - थाली बजाने, दीया जलाने से ज्यादा जरूरी है...

सरकार के पास मरने वाले कोरोना वॉरियर्स का डाटा नहीं होने पर राहुल गांधी ने साधा निशाना (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

कोरोनावायरस (Coronavirus) महामारी को लेकर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने एक बार फिर सरकार पर निशाना साधा है. दरअसल, सरकार ने संसद में लिखित बयान में कहा था कि स्वास्थ्य मंत्रालय के पास COVID-19 से संक्रमित होने वाले और जान गंवाने वाले स्वास्थ्यकर्मियों के बारे में डाटा नहीं है. राहुल गांधी ने एनडीटीवी की खबर को शेयर करते हुए सरकार से सवाल पूछा है कि मोदी सरकार, कोरोना वॉरियर्स (Corona Warriors) का इतना अपमान क्यों?   

राहुल गांधी ने शुक्रवार को अपने ट्वीट में लिखा- "प्रतिकूल डाटा-मुक्त मोदी सरकार! थाली बजाने, दिया जलाने से ज़्यादा ज़रूरी हैं उनकी सुरक्षा और सम्मान. मोदी सरकार, कोरोना वॉरीअर का इतना अपमान क्यों?"  

बता दें कि मंगलवार को केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्यमंत्री अश्विनी कुमार चौबे ने राज्यसभा में लिखित बयान में कहा था कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के पास कोरोना वायरस से संक्रमित होने वाले और जान गंवाने वाले हेल्थ केयर स्टाफ जैसे डॉक्टर, नर्स और आशा वर्कर आदि का डेटा नहीं है.

READ ALSO: सरकार के पास कोरोना से संक्रमित होने और जान गंवाने वाले हेल्थ केयर स्टाफ का नहीं है डाटा

चौबे ने कहा था, "स्वास्थ्य राज्य का विषय है. इस तरह का डाटा केंद्रीय स्तर पर स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय नहीं रखता है. हालांकि, ऐसे लोग जो प्रधानमंत्री गरीब कल्याण इंश्योरेंस पैकेज के तहत राहत मांग रहे हैं, उनका डेटाबेस राष्ट्रीय स्तर पर रखा जा रहा है."क्या है प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज?

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

क्या है प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज?
30 मार्च को प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज इंश्योरेंस योजना लॉन्च की गई. यह केंद्र सरकार की योजना है. इस योजना के तहत ऐसे हेल्थ केयर वर्कर (कम्युनिटी हेल्थ वर्कर शामिल) जिनको कोरोना मरीज़ और उसकी देखभाल के लिए उनके संपर्क में आना पड़ सकता है और इसलिए संक्रमित होने का खतरा उनपर बना रहता है. उनको 50 लाख रुपए का इंश्योरेंस कवर मिलता है. इसमें कोरोना संक्रमण के चलते होने वाली मौत शामिल है.

वीडियो: 'सरकार ने नहीं गिना, तो क्या मौत नहीं हुई' सरकार पर बरसे राहुल गांधी