पूर्व IAS अधिकारी अपराजिता ने ज्वाइन की भाजपा, कहा- बड़े स्तर पर लोगों के लिए करना चाहती हूं काम

1994 बैच की आईएएस अधिकारी सारंगी साल 2013 तक केंद्र में प्रतिनियुक्ति पर थीं और ग्रामीण विकास मंत्रालय में संयुक्त सचिव (मनरेगा) के पद पर तैनात थीं.

पूर्व IAS अधिकारी अपराजिता ने ज्वाइन की भाजपा, कहा- बड़े स्तर पर लोगों के लिए करना चाहती हूं काम

ओडिशा कैडर की पूर्व आईएएस अधिकारी अपराजिता सारंगी

खास बातें

  • 1994 बैच की आईएएस अधिकारी है सारंगी
  • सारंगी ने हालही में स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति ली थी.
  • 2013 तक केंद्र में प्रतिनियुक्ति पर थीं.
नई दिल्ली:

ओडिशा कैडर की पूर्व आईएएस अधिकारी अपराजिता सारंगी ने मंगलवार को भारतीय जनता पार्टी ज्वाइन कर ली. उन्होंने भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान की मौजूदगी में दिल्ली में पार्टी में शामिल हुईं. 1994 बैच की आईएएस अधिकारी 2013 तक केंद्र में प्रतिनियुक्ति पर थीं और ग्रामीण विकास मंत्रालय में संयुक्त सचिव (मनरेगा) के पद पर तैनात थीं. सारंगी ने हालही में स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति ली थी. भाजपा के साथ जुड़ने के बाद सारंगी ने कहा, 'मैं बड़े स्तर पर लोगों के लिए काम करना चाहता हूं. राजनीति एकमात्र ऐसा मंच है, जहां आपको यह करने का मौका मिलेगा. मुझे लगता है कि राजनीति में सक्रिय होने पर मुझे ज्यादा बड़ा मंच मिलेगा और मैं ओडिशा के लोगों के लिए और ज्यादा बेहतर तरीके से काम कर सकूंगी.'

बता दें, छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव से पहले 21 सितंबर को पूर्व आईएएस, आईपीएस और आईएफएस समेत 17 अधिकारियों ने भाजपा का दामना थाम था. भाजपा की सदस्यता लेने वालों इन अधिकारियों में से 10 से ज्यादा अधिकारी पुलिस विभाग से हैं. कुल 17 पूर्व अधिकारियों में एक पूर्व आईएएस अधिकारी भी शामिल हैं. जिन अधिकारियों ने बीजेपी से रिश्ता जोड़ा है, उनमें से कई लोग चुनाव लड़ने की भी तैयारी में हैं. 

छत्तीसगढ़ में अमित शाह की मौजूदगी में पूर्व आईएएस और आईपीएस सहित 17 अधिकारियों ने थामा BJP का दामन

​वहीं इससे पहले रायपुर के जिला कलेक्टर ओ पी चौधरी ने भी अपने पद से इस्तीफा देकर भाजपा में शामिल हो गए थे. ओपी चौधरी भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) के 2005 बैच के अधिकारी हैं. राजपुर कलेक्टर से पहले चौधरी दंतेवाड़ा में कलेक्टर रह चुके हैं. पिछले चुनाव के समय वे जनसंपर्क विभाग में थे. इसके बाद से वे सीएम डॉ रमन सिंह के करीबी और पसंदीदा अफसरों के रूप में गिने जाते रहे हैं.

(इनपुट- एएनआई)

Newsbeep

पॉलिटिक्स के लिए क्यों IAS-IPS को लुभा रही बीजेपी

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


चुनाव आयोग के इम्तिहान में आधे से ज़्यादा अफ़सर हुए फेल