NDTV Khabar

JNU Attack: कैंपस में जहां हमारी तैनाती थी वहां पर नहीं हुई कोई हिंसा- दिल्ली पुलिस

दिल्ली पुलिस के पीआरओ एमएस रंधावा ने कहा कि रविवार शाम 5 बजे के आसपास पीसीआर कॉल मिली थी. पिछले कुछ दिन से ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन को लेकर छात्रों के बीच टकराव चल रहा था.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
JNU Attack: कैंपस में जहां हमारी तैनाती थी वहां पर नहीं हुई कोई हिंसा- दिल्ली पुलिस

जेएनयू में बवाल के बीच दिल्ली पुलिस का आया बयान

खास बातें

  1. जिस समय जेएनयू में हुई हिंसा उस समय पुलिस नहीं थी वहां - दिल्ली पुलिस
  2. जेएनयू में हालात अब सामान्य
  3. जेएनयू में हुई हिंसा में कई छात्र हुए थे घायल
नई दिल्ली:

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) में छात्रों पर हुए हमले के बाद अब आरोपियों की पहचान के लिए दिल्ली पुलिस सबूतों को खंगाल रही है. पुलिस खासतौर पर कैंपस में लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज की भी जांच कर रही है, ताकि नकाबपोश आरोपियों की पहचान की जा सके. JNU में हुई मारपीट में 40 से ज्यादा लोगों के घायल होने की बात सामने आई थी. जिनमें छात्र और शिक्षक भी शामिल थे. इन सब के बीच अब दिल्ली पुलिस ने इस हमले को लेकर एक बयान जारी किया है. दिल्ली पुलिस के पीआरओ एमएस रंधावा ने कहा कि रविवार शाम 5 बजे के आसपास पीसीआर कॉल मिली थी. पिछले कुछ दिन से ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन को लेकर छात्रों के बीच टकराव चल रहा था. हाइकोर्ट के आदेश के बाद सादा वर्दी में पुलिस एडमिन ब्लॉक में रहती है लेकिन जो हिंसा हुई वो वहां से दूर हुई.

Exclusive: तस्वीरें कर रही हैं इशारा, JNU में हुए हमले में ABVP के छात्रों का हाथ


रंधावा ने कहा कि इस पूरी घटना में 34 लोग घायल हुए और सभी को प्राथमिक उपचार के बाद डिस्चार्ज कर दिया गया. हम सीसीटीवी और दूसरे सबूत इकट्ठे कर रहे हैं. जांच क्राइम ब्रांच कर रही है लेकिन एक फैक्ट फाइंडिंग कमेटी बनाई है, जिसकी जांच जॉइंट सीपी शालिनी सिंह कर रही हैं. हमें 7:45 पर वीसी ने अंदर आने की परमिशन दी. हमारी पीसीआर और जो पुलिस वहां थी तो तुरंत मौके पर पहुंची. बाद में हम वीसी की परमिशन से अंदर गए. उन्‍होंने कहा कि हम वॉट्सऐप ग्रुप और कोड वर्ड के बारे में जांच कर रहे हैं. बाहरी लोग अंदर कैसे गए इसकी जांच की जा रही है.

JNU में हुए हमले पर ममता बनर्जी ने बीजेपी पर साधा निशाना, कहा छात्रों पर की 'फासीवादी सर्जिकल स्ट्राइक'

क्‍या है मामले में दर्ज एफआईआर में...
जेएनयू एफआईआर के अनुसार, जेएनयू के छात्र पिछले कुछ दिनों से हॉस्टल फीस वृद्धि के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं. उच्च न्यायालय के निर्देश के अनुसार प्रशासनिक ब्लॉक के 100 मीटर के दायरे में किसी भी विरोध की अनुमति नहीं है. एक इंस्पेक्टर की अगुवाई में एक पुलिस दल 5 जनवरी को अपराह्न 3.45 बजे प्रशासनिक ब्लॉक में तैनात किया गया, कुछ छात्रों के बारे में सूचना मिली कि पेरियार हॉस्टल में इकट्ठा हुए हैं और उनके बीच लड़ाई हुई है और वे संपत्ति को नुकसान पहुंचा रहे हैं. निरीक्षक अन्य पुलिसकर्मियों के साथ पेरियार हॉस्टल पहुंचे जहां उन्होंने लगभग 50 लोगों को नकाब पहने और लाठियों से लैस पाया.

टिप्पणियां

JNU Attack: जेएनयू हिंसा के बाद नोबेल विजेता कैलाश सत्‍यार्थी ने पीएम मोदी से की यह अपील...

भीड़ हॉस्टल में छात्रों को पीट रही थी और संपत्ति को नुकसान पहुंचा रही थी. लेकिन पुलिस को देखकर वे सभी भाग गए. लेकिन शाम करीब 7 बजे साबरमती हॉस्टल में भड़की हिंसा और छात्रों की पिटाई के बारे में हिंसा के पीसीआर कॉल आने लगे. पीए सिस्टम की मदद से वैंडल्स को चेतावनी जारी की गई थी लेकिन वे संपत्ति को नुकसान पहुंचा रहे थे और छात्रों की पिटाई कर रहे थे. वे सब भाग गए. कई छात्रों को चोटें आईं और उन्हें एम्स ले जाया गया. सार्वजनिक संपत्ति अधिनियम के नुकसान की रोकथाम में आईपीसी की धारा 145, 147, 148 149, 151 और धारा 3 के तहत एफआईआर दर्ज की गई है.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें. India News की ज्यादा जानकारी के लिए Hindi News App डाउनलोड करें और हमें Google समाचार पर फॉलो करें


 Share
(यह भी पढ़ें)... नेहा कक्कड़ और आदित्य की शादी पर पापा उदित नारायण बोले- मेरे परिवार में फीमेल सिंगर का आना...

Advertisement