दिल्ली के हिंसा प्रभावित इलाकों में पिछले दो दिनों से शांति, अब तक 42 लोगों की मौत

दिल्ली के हिंसा प्रभावित इलाकों में पिछले दो दिनों से शांति है लेकिन तनाव बरकरार है. अब तक इस हिंसा में 42  लोगों की मौत हुई है जिसमें 38 की मौत सिर्फ जीटीबी अस्पताल में हुई है. 

खास बातें

  • हिंसाग्रस्त इलाकों में पुलिस तैनात, लगातार गश्त जारी
  • अब तक हो चुकी है 39 लोगों की मौत
  • 200 से ज्यादा लोग हैं घायल
नई दिल्ली:

दिल्ली के हिंसा प्रभावित इलाकों में पिछले दो दिनों से शांति है लेकिन तनाव बरकरार है. अब तक इस हिंसा में 42  लोगों की मौत हुई है जिसमें 38 की मौत सिर्फ जीटीबी अस्पताल में हुई है. जबकि 200 से ज़्यादा लोग घायल हुए हैं. आज हिंसा प्रभावित इलाकों में धारा 144 में सुबह 4 से 10 बजे तक छूट दी गई. इस दौरान भी कहीं से कोई हिंसा की ख़बर नहीं है. शाम में फिर 4 बजे से 8 बजे तक धारा 144 में 4 घंटे की छूट दी जाएगी.  दिल्ली पुलिस के अधिकारी उत्तर-पूर्वी दिल्ली के हिंसा प्रभावित इलाकों में पुलिस गश्त लगा रही है. दिल्ली पुलिस के एडिशनल कमिश्नर ओपी मिश्रा लगातार अपनी टीम के साथ इलाके में घूम लोगों से शांति और अमन क़ायम रखने की अपील कर रहे हैं. कल विशेष कमिशनर एसएन श्रीवास्तव ने भी लोगों से मुलाकात की थी. आज एसएन श्रीवास्तव को दिल्ली का अगला पुलिस कमिश्नर बनाने की भी घोषणा कर दी गई है. वह शनिवार को इस नई जिम्मेदारी को संभालेंगे. 

दंगे जरूर खत्म हो गए हैं लेकिन उसका दर्द काफी दिनों तक लोगों को सताएगा. जिन परिवारों के सदस्यों को दंगों ने लील लिया उनके घर में सिवाए मातम के कुछ नही है. उत्तर पूर्वी दिल्ली ज़िले में हुई हिंसा में स्कूलों को भी आग के हवाले कर दिया गया.  स्कूलों में तोड़फोड़ भी की गई. 24 फ़रवरी को शिव विहार इलाक़े के DRP कॉनवेंट सीनियर सेकेंडरी स्कूल में लूटपाट के बाद आग के हवाले कर दिया गया।.  स्कूल के मालिक का कहना है कि स्कूल तक पुलिस दो दिन बाद पहुंची और दमकल विभाग तो आग बुझाने के लिए भी नहीं पहुंचा. कल रात तक स्कूल में आग जलती रही. इस स्कूल में 1000 बच्चे पढ़ते हैं. 

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com