NDTV Khabar

जानिए आखिर क्या है Virtual Reality BOX

वर्तमान तकनीक ने आपका चश्मा ही बदल दिया है. वर्चुअल रिएलिटी हेडसेट्स के द्वारा आप घर बैठे एक नई दुनिया की सैर कर सकते हैं.

7 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
जानिए आखिर क्या है Virtual Reality BOX

जानिए आखिर क्या है Virtual Reality BOX

खास बातें

  1. वीआर हेडसेट्स ने 2010 में बाजार में की थी एंट्री
  2. 400 से 500 रुपये में पॉपुलर ई-कॉमर्स साइट पर मौजूद है
  3. घर बैठे कर सकते हैं एक नई दुनिया की सैर
एक पुरानी कहावत कि दुनिया वैसी ही दिखती हैं जैसा आपकी आंखों पर लगे चश्मे के शीशे का रंग.. तो शायद टेक्नोलॉजी ने इस कहावत को पूरी तरह से प्रूफ कर दिया है. वर्तमान समय में अगर आप अपने सोफे पर बैठ कर अंटार्कटिका के ग्लेशियरों के बीच घूमने का मजा लेना चाहते हैं तो ये कोई बड़ी डील नहीं है. दरअसल, वर्तमान तकनीक ने आपका चश्मा ही बदल दिया है. वर्चुअल रिएलिटी हेडसेट्स के द्वारा आप घर बैठे एक नई दुनिया की सैर कर सकते हैं. आज आपको हम बताने जा रहे है दुनियाभर में धूम मचा देने वाले वीआर तकनीकी के बारे में.

जानिए आखिर क्या है वर्चुअल रिऐलिटी (VR)-
वर्चुअल रिएलिटी इसे हम साफ शब्दों में ऐसे भी कह सकते है कि असल-सा लगने वाला एक ऐसा अनुभव, जो हकीकत में मौजूद नहीं है. इस तकनीक में  खासतौर पर शूट किए गए 360 डिग्री वीडियोज में हेडसेट्स पहनकर सिर को अलग-अलग डायरेक्शन में घुमाकर असली लोकेशन पर पहुंचने जैसा अनुभव पाया जा सकता है. आप जिस तरफ सिर घुमाते हैं, उस तरफ की तस्वीरें दिखाई देती हैं. अडवांस्ड वीआर हेडसेट्स में साउंड और मोशन के हिसाब से भी डिसप्ले अपनी सेटिंग्स बदलता रहता है.

यह भी पढ़ें : टीसीएल 562 स्मार्टफोन के लिए लॉन्च हुआ नया वीआर हेडसेट

जानिए आखिर कैसे काम करता है VR
अभी तक मुख्यरूप से वीआर हेडसेट में वीडियो प्ले करने के लिए दो तरीकों का इस्तेमाल किया जाता है.

1. डायरेक्ट वीआर हेडसेट पर : इस ऑप्शन में एक लोकल इंटरनेट नेटवर्क के जरिये VR डिवाइस पर वीडियो भेजा जाता है और इसे कई लोग वीआर हेडसेट्स पर देख सकते हैं. गेमिंग कंसोल को भी सीधे वीआर हेडसेट से जोड़ा जा सकता है. आजकल इस तरह की टेक्नोलॉजी खासतौर पर किसी इवेंट को लाइव दिखाने के लिए या गेमिंग के लिए इस्तेमाल की जाती है.

2. आपके मोबाइल स्क्रीन के जरिए : आम लोगों के इस्तेमाल में मोबाइल वीआर हेडसेट्स काफी पॉपुलर होते जा रहे हैं. इसमें वीआर हेडसेट कवर में मोबाइल को फिट किया जाता है और मोबाइल पर वर्चुअल रिएलिटी का फील देने के लिए बनाए गए खास तरह के वीडियो देखे जा सकते हैं.

क्या हैं ऑप्शन :
मोबाइल वीआर हेडसेट्स ने 2010 में बाजार में एंट्री की और जल्द ही टेक्नोलॉजी के दीवानों पर यह तकनीकी  सिर चढ़ कर बोलने लगी. इस सेगमेंट में तकरीबन हर बड़ी कंपनी एंट्री कर चुकी है. इस डिवाइस के शुरुआती दामों की बात करें तो यह तकरीबन 400 से 500 रुपये में पॉपुलर ई-कॉमर्स साइट पर मौजूद है. 

गियर वीआर : इसे कंप्लीट वीआर हेडसेट कहा जा सकता है. फिर चाहे इन्हें घंटों पहने रहने की बात हो या मामला यूज करते वक्त आराम का हो. इनके लेंस भी अच्छी क्वॉलिटी के हैं, जिससे वीडियो देखने का अनुभव काफी अच्छा हो जाता है.

पॉपुलर ऑप्शन : सैमसंग गियर वीआर, एचटीसी वाइव, वावे वीआर, एलजी 360 वीआर, सोनी पीएस वीआर,

कितनी है कीमत: 7 हजार से लेकर 19 हजार तक

viedo : कैसा है 10.5 इंच का नया एप्पल iPad Pro?
फिलहाल वीआर के दीवानों को कंटेंट की कमी का सामना करना पड़ रहा है. लेकिन आने वाले दिनों में बदलती तकनीकी के इस दौर में इसमें कोई शक नहीं कि इंटरनेट पर भरपूर कंटेंट उपलब्ध होगा.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement