उमा भारती ने भी राम मंदिर के लिए दान दिए एक लाख रुपये, जानें : किस-किस ने दिया कितना चंदा?

नवंबर, 2019 में राम मंदिर के पक्ष में फैसला आने के बाद केंद्र सरकार ने रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट का गठन किया था और इसके न्यासियों की नियुक्ति की थी. यही ट्रस्ट मंदिर निर्माण का कार्य देख रहा है. कोरोना वायरस संकट के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस मंदिर का शिलान्यास किया था. 

उमा भारती ने भी राम मंदिर के लिए दान दिए एक लाख रुपये, जानें : किस-किस ने दिया कितना चंदा?

पूर्व केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने राम मंदिर निर्माण के लिए एक लाख रुपये का चंदा दिया है.

खास बातें

  • अयोध्या में राममंदिर निर्माण के लिए उमा भारती ने दिया 1 लाख रुपये का चंदा
  • राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दिए 5 लाख और 100 रुपये का चंदा !
  • चंदा देने वालों में योगी आदित्यनाथ, शिवराज सिंह चौहान भी शामिल
नई दिल्ली:

अयोध्या में भव्य राम मंदिर (Ram Mandir in Ayodhya) निर्माण के लिए आज से श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र द्वारा चंदा संग्रहण अभियान की शुरुआत की गई है. सबसे पहले आज सुबह राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (President Ramnath Kovind) ने मंदिर निर्माण के लिए पांच लाख और एक सौ रुपये का चंदा दिया.  पूर्व केंद्रीय मंत्री मध्य प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री साध्वी उमा भारती (Uma Bharati) ने भी इस अभियान में एक लाख रुपये का दान दिया है. 

मन्दिर निर्माण के लिए निधि संकलन महाभियान में आज उन्होंने दिल्ली स्थित मध्य प्रदेश भवन में विश्व हिन्दू परिषद के विभाग प्रचारक सुभाष चंद्रा को ये चंदा दिए. इनके अलावा मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी एक लाख रुपये का चेक दान में दिया. उन्होंने विश्व हिंदू परिषद के राष्ट्रीय संगठन मंत्री विनायक राव देशमुख जी को 1 लाख रुपए का चेक दिया. 

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दान में दिए 5 लाख 100 रुपए

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 11 लाख रुपये, उद्धव ठाकरे की शिव सेना ने एक करोड़ रुपये और  संत मोरारी बापू ने 11 करोड़ रुपये का दान मंदिर निर्माण के लिए दिया है.जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र द्वारा धन संकलन का अभियान 27 फरवरी तक पूरे देश भर में चलेगा. इस अभियान के तहत पांच लाख से ज्यादा गांवों के 12 करोड़ से ज्यादा परिवारों से संपर्क साधा जाएगा और उनसे चंदा मांगा जाएगा.


एक मंदिर के लिए राष्ट्रपति का चंदा देना कितना उचित है?

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


बता दें कि नवंबर, 2019 में राम मंदिर के पक्ष में फैसला आने के बाद केंद्र सरकार ने रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट का गठन किया था और इसके न्यासियों की नियुक्ति की थी. यही ट्रस्ट मंदिर निर्माण का कार्य देख रहा है. कोरोना वायरस संकट के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस मंदिर का शिलान्यास किया था.