Exit Poll Results 2019 : योगेंद्र यादव ने क्यों कहा- 'The Congress Must Die' यानी 'कांग्रेस को निश्चित खत्म हो जाना चाहिए'

योगेंद्र यादव ने कहा,  'जब भी बीजेपी का मुकाबला करने की या बीजेपी के विकल्प की बात आती है तो सबके ध्यान में कांग्रेसी आती है. और बाद में हालत होते हैं कि जब आप कहते हैं कि अब यह औजार नहीं अब यह बाधा है'. यादव ने कहा कि मुझे लगता है कि कांग्रेस आज इस चुनाव के बाद बाधा है. देश को नया विकल्प चाहिए और वह विकल्प कांग्रेस से और कांग्रेस जैसी पार्टियों के बाहर जाकर खड़ा होना चाहिए.

Exit Poll Results 2019 : योगेंद्र यादव ने क्यों कहा- 'The Congress Must Die' यानी 'कांग्रेस को निश्चित खत्म हो जाना चाहिए'

Exit Poll Results 2019 : योगेंद्र यादव ने कहा कि कांग्रेस अब विकल्प बनने में सबसे बड़ी बाधा है

खास बातें

  • 'कांग्रेस को बताया बड़ा रोड़ा'
  • 'नए विकल्प की जरूरत'
  • 'बीजेपी का मुकाबला नहीं कर सकती कांग्रेस'
नई दिल्ली:

एग्जिट पोल पर रवीश कुमार  के प्राइम टाइम में 23 मई को हैरान कर देने वाले नतीजों का दावा करने वाले चुनाव विशेषज्ञ योगेंद्र यादव ने ट्विटर पर कांग्रेस पर हमला बोला है. उन्होंने लिखा है, ' The Congress Must Die' मतलब 'कांग्रेस को खत्म होना चाहिए'. उन्होंने आगे लिखा, 'यह (कांग्रेस) आइडिया ऑफ इंडिया बचाने के लिए यह पार्टी बीजेपी को रोक नहीं सकी, अब इस पार्टी की भारतीय इतिहास में कोई सकारात्मक भूमिका नहीं बची है. अब यह दूसरा विकल्प बनने में खुद एक बड़ी बाधा बन गई है. उनके इस बयान पर एनडीटीवी ने जब योगेंद्र यादव से बात की तो उन्होंने कांग्रेस की तीखी आलोचना की. उन्होंने कहा, 'यह जो चुनाव हुआ यह कोई साधारण चुनाव नहीं था यह एक तरह से भारत की आत्मा को बचाने के लिए स्वधर्म को बचाने के लिए चुनाव था और अगर इस चुनाव में कांग्रेस, बीजेपी जिसने देश में बंटवारे की राजनीति की है, उसका मुकाबला करने का औजार नहीं बन सकती तो फिर उस कांग्रेस को रहने का मतलब क्या है? ' योगेंद्र यादव ने कहा,जो मैंने कहा उसमें मेरी कांग्रेस के नेताओं के प्रति कोई दुर्भावना नहीं है  एक पार्टी इतिहास का औजार होती है कांग्रेस ने इस देश की आजादी के अंदर बहुत बड़ी भूमिका निभाई आजादी के बाद के 10-15 साल कांग्रेस राष्ट्र निर्माण का औजार बनी. उसके बाद कांग्रेस पार्टी के नाम पर तमाम तरह के कुकृत्य हुए हैं. मेरे विचार में आज कांग्रेस के इस देश में जीवित रहने की केवल एक प्रासंगिकता थी और वह यह कि जब इस देश के संवैधानिक व्यवस्था पर, सामाजिक ताने-बाने को तोड़ने की कोशिश हो तो कम से कम उस वक्त कांग्रेस उसे बचा सकती है.

योगेंद्र यादव का ट्वीट

उन्होंने कहा कि चुनाव में यह भी साबित हो गया कि यह काम भी कांग्रेस के बस का नहीं है . अगर एग्जिट पोल की मानें जिनको ना मानने का कोई कारण नजर नहीं आता , क्षेत्रीय दल तो फिर भी थोड़ा बहुत विरोध करने में कामयाब हुए हैं कांग्रेस तो पूरी तरह से असफल हुई है.  ऐसे में एक इतिहास के औजार के रूप में इसकी प्रासंगिकता समाप्त हो जाती है. कांग्रेस विचार के स्तर पर आज सांप्रदायिकता का मुकाबला भी नहीं कर पा रही है. योगेंद्र यादव ने कहा कि किसी भी साधारण कांग्रेस कार्यकर्ता से बात कीजिए वह वही भाषा बोलता है जो बीजेपी का कार्यकर्ता बोलता है. इस पार्टी के पास देश के लिए कोई स्पष्ट दिशा निर्देश हैं और अगर इसके पास ताकत भी नहीं है तो हमें एक बार सोचना चाहिए कि क्या यह पार्टी वास्तव में बीजेपी या अब जो देश के सामने आसन्न खतरा है उसका मुकाबला करने का औजार है या फिर मुकाबला करने का औजार बनाने के रास्ते में एक बाधा है? 

Exit Poll Results 2019 : बीजेपी की सरकार बनने के दावों की पड़ताल, पढ़ें 10 बड़ी बातें

यादव ने कहा,  'जब भी बीजेपी का मुकाबला करने की या बीजेपी के विकल्प की बात आती है तो सबके ध्यान में कांग्रेसी आती है. और बाद में हालत होते हैं कि जब आप कहते हैं कि अब यह औजार नहीं अब यह बाधा है'. यादव ने कहा कि मुझे लगता है कि कांग्रेस आज इस चुनाव के बाद बाधा है. देश को नया विकल्प चाहिए और वह विकल्प कांग्रेस से और कांग्रेस जैसी पार्टियों के बाहर जाकर खड़ा होना चाहिए. बिना इसकी परवाह किए कि अगले दो चार सालों इससे किसको फायदा और किसको नुकसान होगा. इसकी चिंता भूल जाइए.  एक नया औजार खड़ा करने का वक्त आ गया है.

एग्जिट पोल के नतीजे देख चौंके योगेंद्र यादव, कहा- हैरान करने वाले होंगे 23 मई के नतीजे​

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com