फेसबुक को हेट स्‍पीच से लाभ नहीं, कंपनी के भारत में प्रमुख ने दी सफाई

यूजर्स के मामले में भारत, अमेरिका स्थित इस कंपनी और इसकी मैसेजिंग सर्विस व्‍हाट्सएप का सबसे बड़ा मार्केट है लेकिन हेट स्‍पीचमामले में नीतियों को लेकर फेसबुक को दुनियाभर में आलोचना का सामना करना पड़ा है.

फेसबुक को हेट स्‍पीच से लाभ नहीं, कंपनी के भारत में प्रमुख ने दी सफाई

हेट स्‍पीच मामले में अपनी नीतियों को लेकर फेसबुक को आलोचना का सामना करना पड़ा है.

नई दिल्ली:

'फेसबुक (Facebook) को हेट स्‍पीच से कोई लाभ नहीं होता.' कंपनी के भारत के प्रमुख ने बुधवार को यह बात कही. फेसबुक इंडिया के प्रबंध निदेशक अजित मोहन ने इन आरोपों से इनकार किया कि सिलिकॉन वैली फर्म अपने व्‍यावसायिक हितों के चले इस मामले में कार्रवाई करने में नाकाम रही है. गौरतलब है कि यूजर्स के मामले में भारत, अमेरिका स्थित इस कंपनी और इसकी मैसेजिंग सर्विस व्‍हाट्सएप का सबसे बड़ा मार्केट है लेकिन हेट स्‍पीच (Hate Speech) मामले में अपनी नीतियों को लेकर फेसबुक को दुनियाभर में आलोचना का सामना करना पड़ा है.

दिल्ली विधानसभा की समिति ने FB को फटकारा, आखिरी चेतावनी देते हुए दोबारा किया तलब

गौरतलब है कि फेसबुक हाल ही भारत में उस समय बड़े विवाद में उलझ गई थी जब अमेरिकी अखबार 'द वॉल स्ट्रीट जर्नल' (Wall Street Journal )ने फेसबुक पर अपनी रिपोर्ट में कहा था कि कंपनी, सत्‍तारूढ़ बीजेपी (BJP) के एक राजनेता के एक समुदाय विशेष के खिलाफ आपत्तिजनक कमेंट्स को हटाने में नाकाम रही. रिपोर्ट के अनुसार, कंपनी ने भारत में अपने व्‍यापारिक हितों को संरक्षित करने के लिए ऐसा किया था. 

कठघरे में Facebook: संसदीय समिति के तीखे सवालों और आरोपों का करना पड़ा सामना

फेसबुक इंडिया के प्रबंध निदेशक (MD) अजित मोहन (Ajit Mohan) ने टाइम्‍स ऑफ इंडिया से बातचीत में कहा, 'यह मारे लिए अच्‍छा नहीं है इस सोशल प्‍लेटफॉर्म के लोगों के लिए भी नहीं.ऐसा कोई क्षेत्र नहीं है जिसे हेट स्‍पीच से  फायदा होता हो.' उन्‍होंने यह भी कहा कि कंपनी अपने प्‍लेटफॉर्म से सभी तरह की बुराई (Harm) को दूर रखने की पूरी कोशिश कर कर रही थी. अजित मोहन की यह टिप्‍प्‍णी उनके दिल्‍ली जांच पैनल के सामने पेश होने में नाकाम रहने के एक दिन बाद आई है. पैनल इन आरोपों की जांच कर रहा है कि फेसबुक ने अपने प्‍लेटफॉर्म से हेट स्‍पीच के मामले को इरादतन अनदेखा किया. कथित राजनीतिक पूर्वाग्रह को लेकर कंपनी को संसदीय समिति के सामने भी जवाब के लिए पेश होना पड़ा था.  


फेसबुक विवाद पर सियासत तेज

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com




(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)