कृषि विधेयक राज्यसभा भेजे जाने के बाद हरियाणा में किसान हाइवे करेंगे ब्लॉक

किसान संगठन भारतीय किसान यूनियन (BKU) की हरियाणा इकाई ने कहा है कि वह राज्य के सभी प्रमुख राजमार्गों को रविवार को तीन घंटे दोपहर 12  से 3 बजे तक ब्लॉक कर देंगे.

कृषि विधेयक राज्यसभा भेजे जाने के बाद हरियाणा में किसान हाइवे करेंगे ब्लॉक

केंद्र सरकार के कृषि विधेयक का विरोध किसान कर रहे हैं.

चंडीगढ़:

किसान संगठन भारतीय किसान यूनियन (BKU) की हरियाणा इकाई ने कहा है कि वह राज्य के सभी प्रमुख राजमार्गों को रविवार को तीन घंटे दोपहर 12  से 3 बजे तक ब्लॉक कर देंगे. किसान संगठन ने ये फैसला केंद्र सरकार द्वारा विरोध के बावजूद कृषि क्षेत्र के बिलों को वापस लेने से इंकार करने के बाद लिया है. बता दें कि केंद्र की बीजेपी सरकारा का दावा है कि उसके लाए नए कानून से कृषि बाजार खुल जाएगा, और छोटे और सीमांत किसानों को लाभ होगा.

यह भी पढ़ें: कृषि सुधार से जुड़े विवादित विधेयकों पर केंद्र सरकार ने स्पष्टीकरण जारी किया, फायदे गिनाए

अंबाला के डिप्टी कमिश्नर कार्यालय के बाहर जारी विरोध प्रदर्शनों के बीच बीकेयू ने अपने सदस्यों से सभी प्रमुख राजमार्गों को ब्लॉक करने को कहा है. हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने अपील की कि किसान राष्ट्रीय राजमार्गों को ब्लॉक न करें, और एम्बुलेंस और अस्वस्थ लोगों को कोरोनोवायरस महामारी के कारण अस्पतालों तक जानें दें. मंत्री ने कहा, "किसानों को विरोध करने का अधिकार है. भारत एक स्वतंत्र देश है, यह संविधान में है. लेकिन कुछ लोग किसानों को गुमराह कर रहे हैं."

हरियाणा बीकेयू प्रमुख के मुताबिक उन्होंने यमुनानगर टोल प्लाजा, कुरुक्षेत्र-यमुनानगर रोड, कुरुक्षेत्र- पिहोवा रोड, कुरुक्षेत्र-किरमच रोड, अंबाला-हिसार रोड और शाहबाद-पंचकुला रोड पर ट्रैफिक रोकने की योजना बनाई है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

बता दें कि पंजाब सहित विभिन्न राज्यों में व्यापक विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं. पंजाब में किसानों ने 24 सितंबर से 26 सितंबर के बीच "रेल रोको" का आह्वान किया है. 

मुकाबला : कृषि कानून में बदलाव, किसानों के हित में या किसानों के खिलाफ?