'परेशान नहीं हूं, बस लंच मिस हो गया'- जब ED की सात घंटे लंबी पूछताछ के बाद बोले फारुख अब्दुल्ला

ED ने फारुख अब्दुल्ला जम्मू-कश्मीर क्रिकेट असोसिएशन में कुछ कथित अनियमितताओं को लेकर पूछताछ की है. पूछताछ के बाद अब्दुल्ला की ओर से शाम को एक प्रेस रिलीज जारी की गई, जिसमें उन्होंने कहा, 'मैं परेशान नहीं हूं. आप क्यों परेशान हैं? मुझे बस एक पछतावा है कि मैं अपना लंच नहीं कर पाया.'

'परेशान नहीं हूं, बस लंच मिस हो गया'- जब ED की सात घंटे लंबी पूछताछ के बाद बोले फारुख अब्दुल्ला

ED ने फारुख अब्दुल्ला से J&K क्रिकेट बॉडी में कथित मनी-लॉन्ड्रिंग केस में पूछताछ की है.

खास बातें

  • फारुख अब्दुल्ला से ED ने की थी पूछताछ
  • J&K क्रिकेट बॉडी में मनी-लॉन्ड्रिंग के आरोपों की हो रही है जांच
  • CBI ने 2018 में दाखिल की थी चार्जशीट
श्रीनगर:

नेशनल कॉन्फ्रेंस के वरिष्ठ नेता फारुख अब्दुल्ला (Farooq Abdullah) से सोमवार को प्रवर्तन निदेशालय (Enforcement Directorate) ने लगभग सात घंटों तक पूछताछ की थी. ED ने उनसे जम्मू-कश्मीर क्रिकेट असोसिएशन में कुछ कथित अनियमितताओं को लेकर पूछताछ की है. पूछताछ के बाद अब्दुल्ला की ओर से शाम को एक प्रेस रिलीज जारी की गई, जिसमें उन्होंने कहा, 'मैं परेशान नहीं हूं. आप क्यों परेशान हैं? मुझे बस एक पछतावा है कि मैं अपना लंच नहीं कर पाया.'

फारुख अब्दुल्ला ने आर्टिकल 370 पर अपनी पार्टी के स्टैंड को एक बार और दोहराया. उनकी पार्टी और प्रदेश की दूसरी राजनीतिक पार्टियों ने उनसे पूछताछ किए जाने को 'राजनीतिक बदले की कार्रवाई' बताया, खासकर गुपकर घोषणापत्र के बाद यह कार्रवाई होने का जिक्र किया. प्रेस रिलीज में फारुख अब्दुल्ला ने कहा कि 'चाहे जिंदा रहूं या मर जाऊं, संघर्ष जारी रहेगा.'

अब्दुल्ला श्रीनगर में ED के ऑफिस से बाहर निकलते हुए मीडिया के सामने बोले- 'आप लोगों (प्रेस) को जो सवाल पूछना था, आपने पूछा. आपको बस कहानी चाहिए.. और किसी चीज की चिंता नहीं है. उनको (जांच एजेंसी) को अपना काम करना है. मुझे अपना काम करना है. इसमें और कुछ कहने जैसा नहीं है.'

नेशनल कॉन्फ्रेंस ने इसके पहले एक बयान जारी कर कहा था कि अब्दुल्ला अभी भी अपने निर्दोष वाले पक्ष पर बरकरार हैं और इस 'विच-हंट' वाली कार्रवाई में जांच एजेंसी का सहयोग करेंगे. न्यूज एजेंसी PTI के मुताबिक, फारुक अब्दुल्ला ने बताया कि एजेंसी ने पिछले साल के सेशन के बाद बस फॉलो-अप सवाल पूछे हैं.

यह भी पढ़ें : जम्मू-कश्मीर के पूर्व राज्यपाल ने फारुख अब्दुल्ला पर कसा तंज, बोले- कोई पूर्व मुख्यमंत्री जेल जाए और...

'राजनीतिक बदले की कार्रवाई' वाले बयान पर उन्होंने कहा कि 'इसका फैसला मुझे नहीं कोर्ट को करना है.' हालांकि, अब्दुल्ला ने यह भी कहा कि उनसे हुई पूछताछ कुछ बदलने वाली नहीं है.  उन्होंने कहा, 'चाहे फारुख अब्दुल्ला रहें या न, हमारा संघर्ष जारी रहेगा. हमारा संकल्प बदला नहीं है और चाहे मुझे फांसी भी लगने वाली है, बदलेगा नहीं. यह बस फारुख अब्दुल्ला और नेशनल कॉन्फ्रेंस के अकेले का संघर्ष नहीं है, यह पूरे जम्मू-कश्मीर के लोगों का संघर्ष है.'

बता दें कि सीबीआई ने J&K क्रिकेट असोसिएशन में 2002 और 2011 के बीच 43.69 करोड़ के हेर-फेर को लेकर 2018 में एक चार्जशीट फाइल किया था, जिसमें फारुख अब्दुल्ला और तीन अन्य लोगों के नाम हैं. 

Video: मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में ED ने फारूक अब्दुल्ला से की पूछताछ

Newsbeep

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com